IPL Verdict: क्या कहा दिग्गजों ने

By: | Last Updated: Tuesday, 14 July 2015 1:50 PM

नई दिल्ली: आईपीएल सट्टेबाजी मामले में आज आए फैसले के बाद क्रिकेट जगत में हलचल तेज हो गई है कई लोगों ने फैसले का स्वागत किया तो विरोध में भी सुर निकले. आईपीएल की दो बड़ी टीम चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स पर दो साल का बैन लगा दिया जबकि टीम से संबंधित गुरूनाथ मयप्पन और राज कुंद्रा को खेल को बदनाम करने के लिये क्रिकेट मैचों से संबंधित गतिविधियों में शामिल होने के लिये आजीवन निलंबित कर दिया गया. इसके बाद से ही क्रिकेट जगत में हलचल तेज हो गई और कई बड़े दिग्गजों ने अपनी राय सबके सामने रखी.

आईपीएल सट्टेबाजी मामले की जांच करने वाली समिति के अध्यक्ष जस्टिस मुकुल मुदगल ने कहा कि चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रायल्स का निलंबन आईपीएल के लिये अस्थायी झटका है और लोढ़ा समिति का फैसला वास्तव में इस लीग में लोगों भरोसा बहाल करने में मदद करेगा. मुदगल ने कहा, ‘‘यह बहुत कड़ी सजा है. मेरा मानना है कि इसका आईपीएल, बीसीसीआई और खिलाड़ियों पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा. कई लोगों का मानना है कि इससे खेल पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा लेकिन मेरा कहना है कि यह अस्थायी झटका है तथा क्रिकेट साफ सुथरा होगा और आईपीएल में लोगों का विश्वास बहाल होगा. ’’

 

बीसीसीआई के वकील सी आर्यमा सुंदरम ने कहा कि वह दो टीमों को इतने लंबे समय के लिये निलंबित करने फैसले से पूरी तरह से सहमत नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘गुरूनाथ मयप्पन और राज कुंद्रा दोषी पाये गये इससे मुझे हैरानी नहीं हुई और उनके लिये ऐसी सजा की भी उम्मीद थी. मुझे कानूनी तौर पर दो टीमों को लंबे समय के लिये निलंबित करने पर थोड़ा परेशानी है. ’’ सुंदरम ने कहा, ‘‘यह पाया गया कि यह व्यक्तिगत कार्रवाई थी जिसे एक व्यक्ति ने किया. टीम स्वयं मैच फिक्सिंग की गतिविधियों में शामिल नहीं थी. इसलिए जब तक आप टीम को सामूहिक तौर पर दोषी नहीं पाते हो, तो फिर क्या टीम को इस तरह की सजा मिलनी चाहिए थी. मुझे लगता है कि यह पूरी लीग के लिये निराशाजनक है. ’’

 

बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष इंदरजीत सिंह बिंद्रा ने फैसले का स्वागत किया. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘‘ऐतिहासिक आदेश. भारतीय क्रिकेट को साफ सुथरा करने की प्रक्रिया की शुरूआत. मुझे उम्मीद है कि बीसीसीआई सही सबक लेगा. ’’ बिंद्रा ने यह भी कहा आईसीसी अध्यक्ष एन श्रीनिवासन, जो मयप्पन के ससुर भी हैं, से भी बीसीसीआई से उसकी भूमिका के लिये पूछा जाना चाहिये. बिंद्रा ने ट्वीट किया,‘‘ जाहिर है कि श्रीनिवासन भी मयप्पन और सीएसके को बचाने के लिये कसूरवार है . बीसीसीआई को उसके खिलाफ उसी समय कार्रवाई करनी चाहिये थी और आईसीसी के उसके नामंकन को वापस लेना चाहिये था . श्रीनिवासन को आईसीसी का अध्यक्ष बने रहने का नैतिक अधिकार नहीं है . श्रीनिवासन को तुरंत हटना चाहिये वरना क्रिकेट बोर्ड को उसके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिये .’’

 

पूर्व भारतीय विकेटकीपर सैयद किरमानी ने कहा,‘‘ यह बहुत ही खेदजनक है कि इस क्रिकेट खेल में भ्रष्टाचार पैदा हो गया है. दोनों टीमों के खिलाड़ियों के लिये यह बहुत दुखदायी बात है इन टीमों के खिलाड़ी बहुत अच्छा खेल रहे थे. अब खिलाड़ियों का क्या होगा.

 

संजय मांजरेकर ने कहा, ‘‘ क्रिकेट प्रेमियों का इस खेल के प्रति विश्वास बना रहे उसके लिये जो भी जरूरी हो उसे किया जाना चाहिये. खेलप्रेमी ही खेल को बनाते या बिगाडते हैं. ’’

 

पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी ने कहा,‘‘ न्यायाधीश लोढा समिति के फैसले से एक ताजा हवा तो आई है लेकिन यह तो शुरूआत है अभी बहुत कुछ आना शेष है . ’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: IPL Verdict: who say what
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017