आईपीएल के लिए अहम है रविवार का दिन, बनेगी नई रणनीति

By: | Last Updated: Saturday, 18 July 2015 10:47 AM

मुंबई: मुश्किलों का सामना कर रही इंडियन प्रीमियर लीग की गवर्निंग काउंसिल की कल मंबई बैठक होगी जिसमें चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स के निलंबन के नतीजों पर चर्चा के अलावा इस टी20 टूर्नामेंट के लिए नया खाका भी तैयार किया जाएगा.

 

राजीव शुक्ल की अगुवाई वाली आईपीएल संचालन परिषद के सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त भारत के पूर्व चीफ जस्टिस आरएम लोढ़ा की अगुवाई वाली तीन सदस्यीय समिति के कड़े फैसले के विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा करने की उम्मीद है.

 

दो बार की आईपीएल चैम्पियन चेन्नई सुपरकिंग्स और 2008 में पहले आईपीएल चैम्पियन राजस्थान रॉयल्स को उनके अधिकारियों गुरूनाथ मयप्पन और राज कुंद्रा के सट्टेबाजी से जुड़ी गतिविधियों में शामिल होने के कारण दो साल के लिए इस टी20 लीग से निलंबित करने की सजा दी गई है.

 

 

आईपीएल संचालन परिषद को अब बीसीसीआई के स्वामित्व वाली इस लुभावनी टी20 लीग के लिए नयी रणनीति तैयार करनी होगी जो पिछले कुछ समय से आलोचनाओं का शिकार रही है.

आईपीएल संचालन परिषद को इसके अलावा कई कानूनी मुद्दों पर भी माथापच्ची करनी होगी जिसमें हितों के टकराव का मामला भी शामिल है. इसके सामने 2008 में शुरू हुई इस लीग की गिरती प्रतिष्ठा को बचाने के लिए कुछ विकल्प हैं.

 

इस बीच शुक्ल ने फैसले के बाद मोर्चा संभालते हुए बयान दिया कि आईपीएल अब भी ‘ठोस’ टूर्नामेंट है और अगले साल  आठ टीमों के साथ यह और मजबूत वापसी करेगा.

 

शुक्ल ने कहा, ‘‘हम आईपीएल को लेकर हमेशा सोचते हैं और मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि अगला टूर्नामेंट बेहद सफल होगा. आईपीएल एक ठोस उत्पाद है और इस फैसले से एक उत्पाद के रूप में आईपीएल को प्रभावित नहीं होना चाहिए. हमारा विचार टूर्नामेंट को उसके पूरे प्रारूप में आयोजित करने का है जिसमें कम से कम आठ टीमें होंगी. हम छह टीमों के साथ टूर्नामेंट का आयोजन नहीं कर सकते हैं.’’ शुक्ल ने कहा कि आईपीएल के लिये एक विकल्प यह भी खुला है कि दो निलंबित टीमों को बीसीसीआई के नियंत्रण में चलाया जाए.

 

उन्होंने कहा, ‘‘कई विकल्प मौजूद है और हम इन सब पर रविवार को बैठक में चर्चा करेंगे. एक विकल्प यह है कि बीसीसीआई दोनों टीमों का संचालन करे और जिम्मदार व्यक्तियों को इस काम के लिये नियुक्त किया जाए. ’’ हालांकि इस तरह की चिंताएं जताई जा रही हैं कि अगर यह कदम उठाया गया तो एक बार फिर हितों के टकराव का मामला सामने आएगा.

 

शुक्ल ने कहा, ‘‘हम बैठक में उनकी (लोढ़ा समिति की) रिपोर्ट पर विचार करेंगे. इसके बाद उप समिति का गठन किया जाएगा जो रिपोर्ट का अध्ययन करेगी. इस आधार पर हम फैसला करेंगे कि रिपोर्ट को कैसे लागू किया जाएगा.’’ जस्टिस लोढ़ा ने भी फैसला सुनाने के एक दिन बाद कहा था कि बीसीसीआई आईपीएल फ्रेंचाइजियों को रद्द करने के लिए स्वंतत्र है. बीसीसीआई के पास यह विकल्प भी होगा कि वह दोनों फ्रेंचाइजियों को बख्रास्त करे और निविदा प्रक्रिया के जरिये दो नयी फ्रेंचाइजियां लेकर आए.

 

इस बीच पेशे से वकील और बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर ने कल कोलकाता में मौजूदा अध्यक्ष जगमोहन डालमिया से मुलाकात की और उन्हें इस मुद्दे पर अपने नजरिये से अवगत कराया.

 

आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी प्रकरण 2013 की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त समिति के प्रमुख जस्टिस मुदगल ने एक सामाचार पत्र को दिए साक्षात्कार में एक अन्य सुझाव दिया है.

 

उनका मानना है कि दो नई फ्रेंचाइजियों को जोड़ा जा सकता है और वे निलंबित सीएसके और राजस्थान रॉयल्स से खिलाड़ी ऋण पर ले सकते हैं जिससे कि दो साल के निलंबन के बाद इन टीमों के लौटने पर ये खिलाड़ी अपनी मूल टीम में जा सकें.

 

लेकिन यहां बड़ा सवाल यह है कि सीएसके और राजस्थान रॉयल्स के बड़े खिलाड़ियों के अपनी मूल में लौटने पर नयी फ्रेंचाइजियों के टीम संयोजन का क्या होगा.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ipl_meeting
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017