ISL 2017: डिफेंडिंग चैंपियन एटीके के सामने रनर अप ब्लास्टर्स की चुनौती

ISL 2017: डिफेंडिंग चैंपियन एटीके के सामने रनर अप ब्लास्टर्स की चुनौती

इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के चौथे सीजन की शुरुआत शुक्रवार से हो रही है, जहां डिफेंडिंग चैंपियन एटीके का सामना दो बार की रनर अप केरला ब्लास्टर्स होगा.

By: | Updated: 17 Nov 2017 12:38 PM
isl 4th season first match ATK vs kerla blaster

नई दिल्ली: इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के चौथे सीजन की शुरुआत शुक्रवार से हो रही है, जहां डिफेंडिंग चैंपियन एटीके का सामना दो बार की रनर अप केरला ब्लास्टर्स होगा. मुकाबला कोच्ची के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में खेला जाएगा. नीदरलैंड्स के रेने अपनी तकनीकी कोचिंग शैली के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने ऐसे संकेत दिए हैं कि वह उसी शैली के साथ खेलेंगे, जिसमें वो हमेशा से विश्वास करते हैं- गैरजरूरी चीजों को छोड़ना और तेजी से फुटबॉल खेलना ताकि जगह और स्कोर दोनों मिलें.


दो बार की विजेता के खिलाफ येलो आर्मी आठ मैचों में सिर्फ एक बार ही जीती है. तीन साल पहले लीग के पहले सीजन में उसे 2-1 से जीत मिली थी. रेने के पास हालांकि वो खिलाड़ी अभी भी मौजूद है, जिसने उस मैच में गोल किया था. ये खिलाड़ी हैं बेहतरीन कनाडाई स्ट्राइकर इयन ह्यूम.


इसी के साथ उन्हें एक और बात ध्यान में रखनी होगी कि ब्लास्टर्स की टीम एक ही बार सीजन का पहला मैच जीतने में असफल रही है वो भी एटीके के खिलाफ. मेहमान टीम पिछले तीन सीजन में ब्लास्टर्स के खिलाफ एक भी मैच घर से बाहर नहीं हारी है.


एटीके ने ब्लास्टर्स के खिलाफ 11 गोल किए हैं और दो बार फाइनल में उन्हें हराते हुए खिताब जीतने से महरूम रखा है. इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए यही कहा जा सकता है कि घरेलू टीम पर दबाव है.


हालांकि एटीके के लिए इस तरह का माहौल नहीं है. वह पहले मैच में अपने स्टार खिलाड़ी रोबी कीन के बिना उतरेगी. इस बात की चिंता मुख्य कोच टेडी शेरिंघम को नहीं है. मैनचेस्टर युनाइटेड के पूर्व स्ट्राइकर के पास गोल करने वाले कई खिलाड़ी हैं, जिनमें से एक रोबिन सिंह हैं. मिडफील्ड में उनके पास इयुगेंसेन ल्यांगदोह और जयेश राणे हैं जो शानदार खिलाड़ी हैं और गेंद को पास करने में माहिर हैं.


हालांकि एटीके मैच में किस मानसिकता के साथ उतरेगा इस बारे में उन्होंने अपने पत्ते नहीं खोले हैं.


इन सभी से ज्यादा यह मैच उन दो टीमों के बीच है, जिनमें से एक अपने घर में सबसे मजबूत है तो एक घर से बाहर मजबूत है. ब्लास्टर्स ने पिछले सीजन में अपने घर में लगातार छह मैच जीते थे वहीं एटीके ने लगातार चार मैच जीते थे- एटीके इकलौती ऐसी टीम है जिसने ब्लास्टर्स को कोच्चि में मात दी थी जो उनका यादगार सीजन था.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: isl 4th season first match ATK vs kerla blaster
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story मेरे करियर का सबसे बेहतरीन साल है 2017: रोहित शर्मा