कुलदीप के टीम इंडिया में चुने जाने के बाद यूपीसीए में क्रेडिट लेने की होड़

By: | Last Updated: Sunday, 5 October 2014 4:05 PM

कानपुर: कानपुर की सरजमी से करीब 20 साल बाद किसी खिलाडी का वनडे मैच खेलने के लिये टीम में चयन हुआ है और उत्तर प्रदेश रणजी ट्रॉफी के जिन चयनकतार्ओ ने कुलदीप को पिछले साल रणजी ट्रॉफी में सेलेक्शन के बाद एक भी मैच नही खिलाया था आज वह कुलदीप की प्रशंसा करते नही थक रहे है. कोई उसे उत्तर प्रदेश का हीरा बता रहा है तो कह रहा है कि उसमें इतना टैलेंट था कि उसे तो टीम इंडिया का सदस्य बनना ही था.

 

कानपुर मे कुलदीप के कोच कंपिल पांडे ने बताया कि कुलदीप पिछले दो सालो से यूपी की अंडर 19 क्रिकेट टीम का कप्तान है और उसने अपने प्रदर्शन से 2011-12 और 2012-13 में टीम को खिताबी जीत दिलाकर चैम्पियन बनाया .

 

उन्होंने बताया कि इससे पहले कुलदीप अंडर 15 क्रिकेट में दो साल और अंडर 16 टीम में 2 साल उत्तर प्रदेश के लिये खेल चुका है .

 

कोच पांडे से पूछा गया कि कुलदीप ने अभी रणजी ट्रॉफी का एक भी मैच नहीं खेला है, इस पर उन्होंने कहा कि वह यूपीसीए की राजनीति का शिकार हो गया वरना उसके साथ के सभी खिलाड़ी रणजी खेल रहे है.

 

उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (यूपीसीए) के जनरल मैनेजर और पूर्व रणजी खिलाड़ी रोहित तलवार कहते है कि कुलदीप ने अभी तक एक भी रणजी मैच नही खेला और अंडर 19 में इतना शानदार प्रदर्शन कर चुका है और अब चैपिंयन लीग में अपनी गेंदबाजी के जौहर दिखा रहा है . और इसी का परिणाम है कि वह आज टीम इंडिया में है .

 

 

कुलदीप के कोच कपिल पांडे ने बातचीत में बताया कि कुलदीप पिछले दो सालो से यूपी की अंडर 19 क्रिकेट टीम का कप्तान है और उसने अपने प्रदर्शन से 2011-12 और 2012-13 में टीम को खिताबी जीत दिलाकर चैम्पियन बनाया. वह कहते है कि इससे पहले कुलदीप अंडर 15 क्रिकेट में दो साल और अंडर 16 टीम में 2 साल उत्तर प्रदेश के लिये खेल चुका है. पिछली बार वह उत्तर प्रदेश की रणजी की वन डे क्रिकेट टीम में शामिल था लेकिन उसे खेलने का मौका नही मिला. करीब 20 साल बाद कानपुर के किसी स्थानीय क्रिकेटर का टीम इंडिया में चयन हुआ है. इससे पहले 1984-85 में गोपाल शर्मा का चयन हुआ था. सुरेश रैना, पीयूष चावला मोहम्मद कैफ और प्रवीण कुमार, भुवनेश्वर कुमार का चयन टीम इंडिया में हुआ लेकिन वह उत्तर प्रदेश की तरफ से खेलते तो थे लेकिन वह कानपुर के रहने वाले नही थे .

 

कुछ पूर्व क्रिकेट खिलाड़ियों का कहना है कि कुलदीप का रणजी में चयन न होना और सीधे टीम इंडिया में प्रवेश पाना उत्तर प्रदेश के चयनकर्ताओं के मुंह पर करारा तमाचा है.

 

यूपीसीए के जनरल मैनेजर रोहित तलवार ने कहा कि टीम में किस खिलाड़ी को चुनना होता है और किस खिलाड़ी को मैच में नही खिलाना होता है इस बात का पूरा फैसला चयनकर्ताओं का होता है इसमें यूपीसीए कोई दखल नही देता है .

 

कुलदीप के कोच पांडे कहते है कि आज यूपीसीए के पदाधिकारियों और चयनकताओ को पास इस बात का कोई जवाब नही है कि आखिर पिछले 2013 में रणजी टीम में चयन के बाद उसे मैच में खिलाया क्यों नही गया था .

 

यूपीसीए के सचिव राजीव शुक्ला ने कुलदीप को फोन कर बधाई दी. शुकला ने कुलदीप के स्वर्णिम भविष्य की कामना भी की .

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: kuldeep yadav
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017