जीतन राम मांझी बीजेपी की मजबूरी हैं या जरूरी?

By: | Last Updated: Sunday, 13 September 2015 12:44 PM
Manjhi: Is BJP compulsion or Requirement?

पटना/नई दिल्ली: एनडीए में सीटों का विवाद सुलझ नहीं पा रहा है. लोक जन शक्ति पार्टी के नेता रामविलास पासवान माने तो अब हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के नेता जीतन राम मांझी नाराज हैं. कल ही एलान होना था लेकिन आज अभी तक स्थिति साफ नहीं है कि मांझी का एनडीए में क्या भविष्य है. सवाल ये है कि मांझी बीजेपी की मजबूरी हैं या जरूरी?

 

“जब तक तोड़ेंगे नहीं.. तब तक छोड़ेंगे नहीं.”

 

फिल्म मांझी द माउंटेनमैन के इस डायलॉग को शायद राजनीति के असली मांझी ने अपनी चुनावी रणनीति का हिस्सा बना लिया है. बिहार में सीटों के सवाल पर मांझी बीजेपी की बनी बनाई रणनीति को तोड़ने में जुटे हैं.

 

मांझी की नाराजगी की असली वजह को जानने के लिए आपको एक दिन पहले ले चलते हैं. एनडीए की राजनीति में शनिवार की दोपहर तक सब ठीक चल रहा था, लेकिन शाम होते होते मांझी ने अमित शाह की रामविलास को मिठाई खिलाने की घटना ने मिठाई का स्वाद खट्टा कर दिया.

 

तीन दिनों तक पासवान ने सीटों को लेकर बीजेपी को पानी पिला रखा था. शुक्रवार की रात बात बनी. जिसके बाद अमित शाह ने पासवान का मुंह मीठा कराया. बताया जा रहा है कि यही बात मांझी को चुभ गई और फिर कल शाम से शुरू हो गया राजनीतिक का हाईवोल्टेज ड्रामा.

 

सूत्रों के हवाले से कल खबर आई कि बीजेपी मांझी को 15 सीटें देने वाली है, जबकि पासवान को 41 सीटें मिलेंगी.

 

इसी के बाद मांझी की पार्टी ने कहना शुरू कर दिया कि उनके कद को कम करके आंका जा रहा है. मांझी की पार्टी के इस सुर में बीजेपी विरोधियों ने भी सुर मिला दिया.

 

 

शनिवार की रात से ही मांझी को मनाने का काम चल रहा है. सुबह भी भूपेंद्र यादव से लेकर राधा मोहन सिंह तक से मांझी ने मुलाकात की है. बीजेपी कह रही है कि एनडीए में सब ठीक है.

 

बीजेपी मांझी को किसी भी हाल में छोड़ना नहीं चाहती. मांझी के जरिये बीजेपी महादलित वोट बैंक को अपने पक्ष में करना चाहती है, लेकिन ऐन मौके पर जिस तरीके से एनडीए में दलितों का बड़ा नेता बनने की होड़ सी शुरू हो गई है उससे तो यही लग रहा है कि आने वाले दिनों में एनडीए की परेशानी और बढ़ सकती है.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Manjhi: Is BJP compulsion or Requirement?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017