तकनीक में बदलाव करने से वर्ल्ड कप संभावित टीम में चुना गया: तिवारी

By: | Last Updated: Thursday, 4 December 2014 1:09 PM

नई दिल्ली: घरेलू क्रिकेट में कुछ प्रभावशाली पारियां खेलने के बाद विश्व कप की संभावित टीम में शामिल किये गये मनोज तिवारी ने कहा कि तकनीक और रवैये में बदलाव के कारण वह अच्छी फार्म हासिल कर पाये.

 

तिवारी ने लिस्ट ए के पिछले पांच मैचों में 57, 130, 56, 151 और 75 रन बनाये. उन्होंने पूर्व क्षेत्र को देवधर ट्राफी दिलाने में अहम भूमिका निभायी और अब उन्हें विश्व कप के लिये 30 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया है.

 

इस 29 वर्षीय बल्लेबाज ने कहा, ‘‘सत्र के शुरू में मैंने अपने बचपन के कोच मानबेंद्र घोष के साथ नेट्स पर अभ्यास किया तथा तेज गेंदबाजों के साथ साथ स्पिनरों के खिलाफ भी अपनी तकनीक पर काम किया. ’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘तेज गेंदबाजों के खिलाफ मैंने अपना स्टांस बदला और उंची बैकलिफ्ट का उपयोग किया. इससे पहले मैं थोड़ी नीची रहती बैकलिफ्ट का उपयोग करता था और ऐसे में तेज गेंदबाजों को खेलने के लिये मेरे पास कम समय रहता था. अब उंची बैकलिफ्ट होने से मुझे तेज गेंदबाजों को खेलने के लिये अधिक समय मिल जाता है.’’

 

तिवारी ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि इन बदलावों से इस साल के शुरू में भारत ए के आस्ट्रेलिया दौरे के दौरान मुझे बहुत फायदा हुआ. मैंने अपने मैचों के वीडियो देखे और उन पर चर्चा की तथा नेट्स पर अभ्यास किया. जब मैं सहज महसूस करता हूं तो मैचों के दौरान इस स्टांस का उपयोग करता हूं.’’

 

पिछले सात वर्षों में केवल नौ वनडे और तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले इस प्रतिभाशाली बल्लेबाज ने कहा कि विश्व कप के संभावित खिलाड़ियों में जगह बनाना उनके दिमाग में था.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हां मेरे दिमाग में यह बात थी लेकिन यदि ये चीजें आपको प्रभावित करती है तो फिर आप अपने काम पर ध्यान नहीं दे सकते. मेरा काम रन बनाना है. हां मैं भारत की तरफ से खेलना चाहता हूं लेकिन मैं गलत समय पर चोटिल हो गया. लेकिन कहते हैं न कि फिर पछतावे होत क्या जब चिड़िया चुग गयी खेत. इससे बेहतर कि मैं भविष्य पर ध्यान दूं और अच्छा प्रदर्शन जारी रखूं. मैं अभी यही करना चाहता हूं.’’

 

तिवारी ने कहा इससे पहले तुलना करने से वह परेशान हो जाते थे लेकिन अब उन्होंने आगे बढ़ने की कला सीख ली है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस बात से इन्कार नहीं कर रहा हूं कि एक दौर था जब तुलना और मेरे बारे में की जा रही बातों से मेरी बल्लेबाजी प्रभावित हो रही थी. अब ऐसा नहीं है. चोटों ने मुझे कड़ा सबक सिखाया कि धैर्य बनाये रखो और कड़ी मेहनत करते रहो. आपकी प्रतिबद्धता आखिर तक आपके साथ रहती है. ’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Manoj Tiwary_Team India_World Cup 2015_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Manoj Tiwary Team India World Cup 2015
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017