भारत दौरे पर हुए विवाद के लिए डब्ल्यूआईपीए प्रमुख हैं जिम्मेदारः सैमुअल्स

By: | Last Updated: Tuesday, 28 October 2014 10:12 AM
Marlon Samuels

जमैका: भारत दौरा बीच में छोड़ने को लेकर वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम का अंदरुनी विवाद अब सबके सामने आने लगा है. वनडे कप्तान ड्वेन ब्रावो और मार्लन सैमुअल्स के बीच बहस तेज हो गई है. ऐसा इसलिए महसूस हो रहा है क्योंकि सैमुअल्स ने एक बार फिर कहा है कि वह भारत का दौरा बीच में छोड़ने के फैसले में शामिल नहीं थे और वह क्रिकेट सीरीज खत्म होने के बाद समस्या सुलझाने के पक्ष में थे.

 

इस पूरे विवाद पर टीम के ऑलराउंडर ने डब्ल्यूआईपीए प्रमुख और सीईओ वावेल हिंड्स को जिम्मेदार बताते हुए कटाक्ष किया और कहा कि  डब्ल्यूआईपीए अध्यक्ष वावेल हिंड्स ने स्थिति को बिगाड़ दिया. उन्होंने कहा  ”अगर स्थिति पर गौर करें तो आप वावेल को कार्यों को स्वीकार करने के लिए बोर्ड को वास्तव में जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते. यहां वावेल मुख्य समस्या हैं. लेकिन याद रखिए कि मैं डब्ल्यूआईपीए का हिस्सा नहीं हूं.’’

 

इसके अलावा सैमुअल्स ब्रावो के इस बयान से भी असहमत हैं कि उन्होंने ‘‘टीम द्वारा किये गये किसी भी फैसले’’ के साथ खड़े होने की रजामंदी दी थी. सैमुअल्स के हवाले से ‘क्रिकइंफो डॉट काम’ ने कहा, ‘‘नहीं, मैंने यह नहीं कहा कि मैं किसी भी फैसले के साथ खड़ा हूं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘क्योंकि किसी ने मुझसे इस तरह के सवाल नहीं पूछे. यह कहना व्यक्ति पर निर्भर करता है कि हां, ठीक है मैं तुम्हारे साथ हूं. आपके पास कमरे में ऐसे लोग थे जिन्होंने अपना मुंह तक नहीं खोला या कुछ भी नहीं कहा. बाद में, मैं वहां गया और अपने सवाल पूछे तथा मैं (जवाब से) संतुष्ट नहीं था. अगर मैं संतुष्ट होता तो मैं बाहर आने वाला पहला व्यक्ति होता क्योंकि मैं खुलकर बात करने वालों में से हूं. इसके बाद, मैं बाहर आकर (ब्रावो) के साथ सभी का बचाव करने वाला पहला व्यक्ति होता .’’

 

सैमुअल्स ने कहा कि वह भारत का दौरा बीच में छोड़ने के खिलाफ थे. इस क्रिकेटर ने कहा, ‘‘इसका भारत से कोई संबंध नहीं है. यह हमारी समस्या है. इसलिए दौरा खत्म करने के बाद कैरेबियाई द्वीप पर लौटकर समस्या सुलझानी चाहिए थी. वेस्टइंडीज के खेलने के लिहाज से भारत बहुत महत्वपूर्ण टीम है. भारत ऐसी सबसे मजबूत टीम है जिसके खिलाफ वेस्टइंडीज खेलती है. भारत के साथ संबंध भी काफी अच्छे हैं. यह शानदार रिश्ता है.’’ सैमुअल्स ने कहा, ‘‘आप कभी नहीं देखेंगे कि भारत और वेस्टइंडीज का खिलाड़ी एक दूसरे के खिलाफ कुछ कहे या तंज कसे. यह ऑस्ट्रेलिया या साउथ अफ्रीका की तरह नहीं है. कैरेबियाई द्वीप पर कई भारतीय हैं. यह परिवार की तरह है.’’ उन्होंने कहा कि तीनों पक्ष खिलाड़ी, डब्ल्यूआईसीबी और वेस्टइंडीज प्लेयर्स एसोसिएशन ने स्थिति को बिगाड़ दिया.

 

सैमुअल्स ने एक सप्ताह से भी कम समय में यह दूसरी बार है जब सैमुअल्स ने इस मुददे पर ब्रावो के अलग राय व्यक्त की है. सैमुअल्स ने कहा कि उन्होंने भारत में हुई दो टीम बैठकों में भाग लिया और ब्रावो से कुछ सवाल पूछे. उन्होंने कहा कि वेस्टइंडीज के कप्तान से संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर उन्होंने इस पूरे प्रकरण से दूर होने का फैसला किया.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Marlon Samuels
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017