पांच सितारा होटल के सूइट में दफ्तर चलाते हैं बीसीसीआई कोषाध्यक्ष

By: | Last Updated: Friday, 15 August 2014 3:59 PM

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने अपने कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी के लिए तीन दफ्तर खोल रखे हैं. इनमें से एक दफ्तर पांच सितारा होटल का सूइट है, जहां से चौधरी बोर्ड का हिसाब-किताब देखते हैं.

 

हैरानी की बात यह है कि भिवानी में चौधरी का एक भी दफ्तर नहीं हैं, जहां के वे निवासी हैं. बीसीसीआई ने उनके लिए चेन्नई, मुम्बई और दिल्ली में आलीशान दफ्तर खोल रखे हैं.

 

यह जानकारी बीसीसीआई अध्यक्ष नारायणस्वामी श्रीनिवासन को सर्वोच्च न्यायालय की फटकार लगवाने वाले बिहार क्रिकेट संघ के आदित्य वर्मा ने बाहर निकाली है.

 

चौधरी ने हालांकि इस बात से इंकार नहीं किया है कि उनके तीन दफ्तर हैं लेकिन उन्होंने वर्मा द्वारा लगाए गए आरोपों और उनके द्वारा किए गए खुलासे के समय पर सवाल खड़े किए.

 

वर्मा दावा करते हैं कि चौधरी का एक दफ्तर दिल्ली के आईटीसी मौर्या शेरटन होटल में है, जिसके दो कमरों को दफ्तर की शक्ल देने के लिए बीसीसीआई ने 40 लाख रुपये खर्च किए.

 

बकौल वर्मा, “ऐसा पहली बार हुआ है कि बोर्ड का कोई कोषाध्यक्ष तीन स्थानों से काम देख रहा है. दिल्ली के सात स्टार होटल में दो कमरों को दफ्तर की शक्ल देने के लिए 40 लाख रुपये खर्च किया जाना और भी हैरान करता है.”

 

वर्मा, जो कि गैरमान्यता प्राप्त बिहार क्रिकेट संघ के अध्यक्ष हैं, ने आगे यह आरोप लगाया कि दिल्ली में रहने वाले चौधरी के दोस्त और फर्नीचर व्यापारी ने होटल के कमरों में फर्नीचर का काम किया है.

 

वर्मा ने कहा, “सरकार ने बीसीसीआई को सार्वजनिक संस्थान घोषित किया है और बोर्ड द्वारा किसी दफ्तर की सज्जा के लिए 40 लाख रुपये खर्च करना लोगों के पैसे की बर्बादी है.”

 

वर्मा ने कहा कि चौधरी ने एडम चाडविक को बीसीसीआई की म्यूजियम कमिटि में शामिल करने के लिए अपने रसूख का प्रयोग किया है. चाडविक एमसीसी के क्यूरेटर हैं और सलाहकार के तौर पर वह पांच करोड़ रुपये की फीस पा रहे हैं.

 

वर्मा ने कहा, “बीसीसीआई के पदासीन अधिकारी मानद होने चाहिए लेकिन यहां तो एक-एक अधिकारी को पांच-पांच करोड़ रुपये दिए जा रहे हैं.”

 

चौधरी ने हालांकि वर्मा के सभी आरोपों का खंडन किया है. चौधरी ने कहा, “बीते साल कोषाध्यक्ष का दफ्तर पुणे से चेन्नई शिफ्ट किया गया था. मैंने उसी समय यह पद सम्भाला था. यह तब से हुआ है, जब से बीसीसीआई चेन्नई में पंजीकृत किया गया. इस कारण कोषाध्यक्ष का दफ्तर चेन्नई में ही होना चाहिए. वानखेड़े स्टेडियम में क्रिकेट का मुख्यालय है और हर एक विभाग का दफ्तर वहां है.”

 

दिल्ली स्थित अपने दफ्तर के बारे में पूछे जाने पर चौधरी ने कहा, “यह कोषाध्यक्ष के लिए कोआर्डिनेशन ऑफिस है लेकिन यहां से सभी विभागों का काम चलता है. यहां के कमरों में 40 लाख रुपये लगाकर सज्जा की बात गलत है. अगर हमें इतना पैसा खर्च करना होगा तो हम कमरे किराए पर क्यों लेंगे. यहा फैसला वैसे वित्तीय समिति ने लिया था और कार्यकारी समिति ने इसे मंजूरी दी थी.”

 

चौधरी ने दावा किया कि चाडविक की नियुक्ति में उनकी कोई भूमिका नहीं है. चाडविक की नियुक्ति पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर ने की थी. उन्होंने कहा, “मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है.”

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: office_in _five_star_hotel
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा
टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा

बासिल: ब्रिटेन की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी योहाना कोंटा ने सिनसिनाटी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के...

ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत
ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत

बर्मिंघम: पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक और मौजूदा कप्तान जो रूट की शानदार शतकों की मदद से...

श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम
श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम

दाम्बुला: 20 अगस्त को श्रीलंका के खिलाफ शुरु...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017