चैम्पियन्स लीग: टीम इंडिया में वापसी की आखिरी उम्मीद!

By: | Last Updated: Thursday, 11 September 2014 12:12 PM
players looking for come back

नई दिल्लीः विश्व कप 2015 से पहले चैम्पियन्स लीग उन खिलाड़ियों के लिए वरदान साबित हो सकता है जो टीम इंडिया में वापसी की उम्मीद लगाए बैठे हैं. टीम इंडिया के अंतिम 15 से पहले टॉप 30 खिलाड़ियों पर बोर्ड की नजर है. इंग्लैंड दौरे को देखें तो टीम इंडिया में कुछ स्थान को लेकर संभवानाएं तलाशी जा सकती है. विश्व कप से पहले खिलाड़ियों के पास खुद को साबित करने का आखिरी मौका सीएल टी-20 से बेहतर और कुछ नहीं हो सकता.

 

 

गौतम गंभीर

लगभग डेढ़ साल बाद इंग्लैंड दौरे (टेस्ट सीरीज) के लिए टीम इंडिया की जर्सी में आए गौतम गंभीर अपनी वापसी को शानदार नहीं बना पाए. टेस्ट सीरीज में उन्हें मौका ओपनर शिखर धवन के फ्लॉप रहने के कारण मिला था लेकिन टीम में वापसी के प्रेशर से वो बाहर नहीं निकल पाए. 2 टेस्ट में 25 रन उनके फ्लॉप होने का प्रमाण है. टेस्ट टीम में उनकी वापसी एक बार फिर दूर होती दिख रही है लेकिन वनडे टीम में वापसी के लिए वो अभी भी तैयार हैं और मेहनत भी कर रहे हैं.

 

2011 विश्व कप फाइलन मुकाबले में गौतम गंभीर ही थे जिन्होंने 97 रन की बड़ी पारी खेल टीम को धोनी के साथ जीत दिलाई थी. कोलकाता नाइट राइडर्स को दो बार आईपीएल का सरताज बनाने वाले गंभीर अगर इस छोटे फॉर्मेट में रनों का अंबार लगाते हैं तो टीम इंडिया के तीसरे ओपनर के रूप में उन्हें जगह दी सकती है. शिखर धवन और रोहित शर्मा के फॉर्म को देखते हुए गंभीर भी अंतिम बाजी में दम लगाने की पूरी कोशिश में होंगे.

 

 

रॉबिन उथप्पा

आईपीएल सात में बल्ले से धमाल मचाने वाले रॉबिन उथप्पा एक बार फिर टीम में वापसी के लिए जी तोड़ मेहनत करेंगे. 16 मैच में 660 रन बनाकर ऑरेंज कैप जीतने वाले उथप्पा पर सेलेक्टर्स ने भरोसा दिखाते हुए बांग्लादेश दौरे के लिए उन्हें टीम इंडिया की जर्सी दी लेकिन उथप्पा बल्ले से कमाल नहीं दिखा पाए. उन्हें इंग्लैंड दौरे से लिए नजरअंदाज कर दिया गया. अब उथप्पा के पास एक और मौका है. यहां अगर वो लय में आते हैं तो विश्व कप टीम में उनकी संभावना एक ओपनर के रूप में बढ़ सकती है. टीम को एक अतिरिक्त विकेटकीपर की भी जरूरत होगी और उथप्पा इस मामले में भी माहिर हैं.

 

 

हरभजन सिंह

एक समय टीम के लिए जीत निकालने वाले हरभजन सिंह लंबे समय से टीम से बाहर चल रहे हैं. कप्तान धोनी के करीबी आर अश्विन और आर जडेजा ने छोटे फॉर्मेट में भज्जी के लिए गेट लगभग बंद कर दिए हैं. लेकिन विश्व कप जैसे बड़े आयोजन को देखते हुए अनुभवी खिलड़ियों को ऑस्ट्रेलिया-न्यूजीलैंड जैसे मैदानों पर नजरअंदाज करना चयनकर्ताओं के लिए आासन नहीं होगा. मुंबई इंडियंस के लिए खेलने वाले भज्जी अगर टीम को टूर्नामेंट में आगे ले जाने में अहम भूमिका निभाते हैं तो विश्व कप की टीम में उनका नाम शामिल हो सकता है.

 

 

वीरेंद्र सहवाग

कई लोग इस विस्फोटक बल्लेबाज को चूका हुआ मान रहे थे लेकिन आईपीएल में टीम बदलते ही इनके बल्ले ने रंग बदल लिया. किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से खेलते हुए सहवाग ने 445 रन बनाए. अगर इस बार भी वीरू का बल्ला चलता है तो चयनकर्ता सोचने पर विवश हो सकते हैं. टीम इंडिया को इस वक्त एक तेज ओपनर की सख्त जरूरत है जो गेंदबाज पर हावी हो कर खेल सके.

 

 

ईश्वर पांडे

एक साल से टीम इंडिया के बैंच स्ट्रेंथ को मजबूत कर रहे ईश्वर पांडे प्लेइंग इलेवन में खेलने के लिए तरसते रहे हैं. इस बीच ईशांत शर्मा और भुवनेश्वर कुमार ने टीम के लिए कई मौकों पर शानदार गेंदबाजी की है. दोनों के चोटिल होने के बाद भी टीम मैनेजमेंट ने उन्हें बाहर ही रखा. ऐसे में ईश्वर के पास एक और मौका है खुद को साबित करने का और अपने आलोचकों का करारा जवाब देने का.     

  

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: players looking for come back
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017