सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करता हूं लेकिन खिलाड़ियों के लिये निराश हूं: द्रविड़

By: | Last Updated: Friday, 17 July 2015 3:22 PM

चेन्नई: भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने आज कहा कि चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स को आईपीएल से दो साल के लिये बाहर करने के जस्टिस लोढा समिति के फैसले से युवा खिलाड़ियों पर असर पड़ेगा लेकिन सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त समिति के फैसले का सम्मान किया जाना चाहिये.

 

द्रविड़ ने कहा ,‘‘यह निराशाजनक है कि कई बार एक या दो व्यक्तियों की हरकतों का असर इतने सारे लोगों पर पड़ता है. इन हालात में पिरामिड में सबसे नीचे मौजूद लोगों पर सबसे ज्यादा असर पड़ता है. शीर्ष खिलाड़ियों और कोचों को हमेशा काम मिल जाता है. हमारी टीम के शीर्ष खिलाड़ियों को दूसरी टीमों में जगह मिल जायेगी.’’ भारत ए के कोच द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलिया ए के खिलाफ सीरीज से पहले यहां प्रेस कांफ्रेंस में कहा ,‘‘ यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि युवा खिलाड़ियों पर इसका असर पड़ेगा. उनके लिये निराशा है लेकिन फैसले का सम्मान करना होगा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के पास अधिक जानकारी थी और उन्होंने इस पर बहुत सोचा होगा.’’

 

यह पूछने पर कि क्या यह उनके कैरियर पर एक धब्बा है, 2013 में राजस्थान रॉयल्स के मेंटर और कोच रहे द्रविड़ ने कहा कि यह लोगों को तय करना है. उन्होंने कहा ,‘‘ मुझे लगता है कि यह लोगों को तय करना है कि क्या यह धब्बा था. मैं अपना बचाव नहीं करना चाहता. मेरी भूमिका मेंटर और कोच की थी. लोगों को तय करना है कि मालिकों और अंशधारियों की हरकतों को क्या कोचों और मेंटर से जोड़ा जाना चाहिये. मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि हमें कोर्ट के फैसले का सम्मान करना होगा.’’

 

यह पूछने पर कि क्या यह कड़ा फैसला था, द्रविड़ ने कहा ,‘‘ यह तय करना मेरा काम नहीं है कि फैसला कड़ा था या नहीं. यह टीम, खिलाड़ियों और लीग के लिये कठिन फैसला है लेकिन हमें इसका सम्मान करना होगा.’’ उन्होंने कहा ,‘‘ ऐसे भी लोग हैं जिनका कोई कसूर नहीं हैं और जो बहुत अच्छे हैं लेकिन इस फैसले से वे प्रभावित होंगे. मैं नहीं जानता कि टीम का भविष्य क्या होगा क्योंकि मैं न तो संचालन परिषद का हिस्सा हूं और न ही बीसीसीआई से जुड़ा हूं.’’ दो साल पहले राजस्थान रॉयल्स के तीन खिलाड़ी स्पॉट फिक्सिंग के दोषी पाये गए थे. उस समय टीम के मेंटर रहे द्रविड़ ने कहा कि कोच के लिये यह पता करना बहुत मुश्किल होता है कि कौन भ्रष्टाचार में लिप्त है.

 

द्रविड़ ने कहा ,‘‘ मैं नहीं जानता था कि ये तीन खिलाड़ी कुछ संदिग्ध कर रहे हैं. यदि मुझे पता होता तो मैं उससे निपटता. मुझे कोई अंदेशा नहीं था और मैने मुद्गल समिति से इस बारे में साफ बात की है.’’ उन्होंने कहा ,‘‘एक टीम में होते हुए भी यह पता करना मुश्किल होता है कि कोई स्पॉट फिक्सिंग में शामिल है या नहीं. यदि मैं हर वाइड बॉल या चौके पर शक करने लगूं तो खेल से प्यार और उसमें रूचि खत्म हो जायेगी. मैं इसलिये हर मैच या टीम में चौके छक्के लगने पर खिलाड़ियों पर शक नहीं करता.’’ द्रविड़ ने कहा कि भविष्य में ऐसी घटनाओं के दोहराव से बचने के लिये सतर्क रहना जरूरी है. उन्होंने कहा ,‘‘ ऐसे मसले आने पर क्रिकेट की छवि पर धब्बा लगता है. भारतीय क्रिकेट से जुड़े सभी लोगों के लिये यह दुखद है. हमें हमेशा सतर्क रहना होगा. इस फैसले के बावजूद ऐसे लोग हैं जो क्रिकेट को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करेंगे, हमें सतर्क रहना होगा.’’

 

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: rahul dravid after ban on csk and rr
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017