रणजी फाइनल जीतने के करीब कर्नाटक

By: | Last Updated: Wednesday, 11 March 2015 1:53 PM

मुंबई: पहली पारी में विशाल बढ़त हासिल करके पहले ही खिताब लगभग तय कर चुके गत चैम्पियन कर्नाटक ने रणजी ट्राफी फाइनल के चौथे दिन आज यहां 113 रन तक तमिलनाडु के तीन विकेट चटकाकर जीत की ओर कदम बढ़ाए.

 

तमिलनाडु को पहली पारी में सिर्फ 132 रन पर समेटने के बाद कर्नाटक ने पहली पारी में 762 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया.

 

दिन का खेल खत्म होने तक तमिलनाडु ने दूसरी में तीन विकेट पर 113 रन बनाए और वह अब भी 515 रन से पिछड़ रहा है जबकि उसके सात विकेट शेष हैं.

 

यहां वानखेड़े स्टेडियम में मैच अगर ड्रॉ भी रहता है तो भी कर्नाटक पहली पारी की बढ़त के आधार पर खिताब जीत लेगा.

 

कर्नाटक ने आज दिन की शुरूआत सात विकेट पर 618 रन से की और 144 रन जोड़कर अपने बाकी विकेट भी गंवा दिए.

 

पहले दिन चाय के बाद से बल्लेबाजी कर रहे कर्नाटक की पारी 1044 मिनट तक चली.

 

गत चैम्पियन टीम ने तिहरा शतक जड़ने वाले करूण नायर (328) का विकेट जल्द ही गंवा दिया लेकिन कप्तान आर विनय कुमार (105) ने दूसरा रणजी शतक जड़ते हुए टीम का स्कोर 762 रन तक पहुंचा दिया.

 

दिन की शुरूआत 41 रन से करने वाले विनय कुमार ने 319 गेंद की अपनी पारी के दौरान 10 चौके और तीन छक्के मारे.

 

वह रणजी फाइनल में शतक जड़ने वाले पहले कप्तान हैं. इसके अलावा वह रणजी फाइनल में पांच विकेट और शतक जड़ने वाले विजय हजारे के बाद सिर्फ दूसरे खिलाड़ी हैं.

 

पहले दिन से बल्लेबाज कर रहे नायर लोकेश राहुल के 337 रन के स्कोर को पार करने में नाकाम रहे जो कर्नाटक की ओर से सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत पारी है. नायर की 14 घंटे से अधिक की पारी का अंत आज पहले घंटे के आखिरी लम्हों में हुआ जब विजय शंकर ने उन्हें पगबाधा आउट किया.

 

नायर ने अपने कल के स्कोर में 18 रन जोड़े और रणजी ट्राफी फाइनल में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज बने. उन्होंने बड़ौदा के बल्लेबाज गुल मोहम्मद को पीछे छोड़ा जिन्होंने 1946-47 में होल्कर के खिलाफ 319 रन बनाए थे.

 

नायर ने 872 मिनट की अपनी पारी के दौरान 46 चौके और एक छक्का मारा. उन्होंने विनय कुमार के साथ आठवें विकेट के लिए 142 रन जोड़े.

 

विनय कुमार ने नायर के आउट होने के बाद श्रीनाथ अरविंद (50) के साथ नौवें विकेट के लिए 83 रन जोड़े. अरविंद ने अपना पहला अर्धशतक पूरा किया. उन्होंने 54 गेंद का सामना करते हुए नौ चौके मारे.

 

ऑफ स्पिनर मालोलन रंगराजन ने एचएस शरत को आउट करके कर्नाटक की पारी का अंत किया लक्ष्मीपति बालाजी ने 120 जबकि रंगराजन ने 183 रन देकर तीन तीन विकेट चटकाए. अश्विन क्रिस्ट ने 140 रन देकर दो विकेट हासिल किए.

 

दूसरी पारी में भी तमिलनाडु की शुरूआत अच्छी नहीं रही और टीम ने 30 रन के स्कोर पर ही कप्तान अभिनव मुकुंद (13) का विकेट गंवा दिया. मौजूदा रणजी सत्र में दूसरे सबसे सफल गेंदबाज विनय कुमार ने इसके बाद दूसरे सलामी बल्लेबाज मुरली विजय (27) को पगबाधा आउट करके तमिलनाडु का स्कोर दो विकेट पर 47 रन किया.

 

जुड़वां भाई बाबा अपराजित और बाबा इंद्रजीत इसके बाद क्रीज पर थे और टीम को उम्मीद थी कि वे और झटके नहीं लगने दिए. इंद्रजीत ने हालांकि कुछ अच्छे शॉट खेलने के बाद अपना विकेट गंवा दिया. इंद्रजीत ने श्रेयस गोपाल पर छक्का और फिर चौका मारा लेकिन अगली गेंद पर स्लिप में कैच दे बैठे.

 

दिन का खेल खत्म होने पर अपराजित 36 जबकि विजय शंकर 15 रन बनाकर खेल रहे थे.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ranji trophy final
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017