विश्व कप जीतना एक अनमोल पल था: तेंदुलकर

By: | Last Updated: Wednesday, 11 February 2015 11:58 AM

नई दिल्ली: अपनी शख्सियत के जज्बाती पहलू का खुलासा करते हुए क्रिकेट के महानायक सचिन तेंदुलकर ने 2011 के विश्व कप में भारत की जीत को एक ‘अनमोल’ पल बताया और कहा कि जब भारत को जीत मिली तो उनकी आंखों में ‘खुशी के आंसू’ आ गए थे.

 

भारत द्वारा फाइनल में श्रीलंका को हराने के आखिरी पलों को याद करते हुए तेंदुलकर ने कहा कि उन्होंने तब ईश्वर को धन्यवाद दिया, खुशी से चिल्लाए और ड्रेसिंग रूम से मैदान की तरफ दौड़े.

 

तेंदुलकर ने कहा, ‘‘जब मैं मैदान पर गया तब रो पड़ा. वह एकमात्र समय था जब मेरी आंखों में खुशी के आंसू आए..क्योंकि वह एक अनमोल पल था. उस पल के बारे में आप बस सपने में सोच सकते थे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘भारत में घरेलू मैदान पर खेलना..भारतीय टीम ने खूब सारे शैंपन के साथ जश्न मनाया और उनके परिवार, दोस्त और प्रशंसक भी उस रात ड्रेसिंग रूम में जश्न का हिस्सा बनें.’’ महानायक ने कहा कि उनके लिए विश्व कप हाथों में लेने जैसा पल कोई और नहीं हो सकता.

 

तेंदुलकर ने ‘हेडलाइंस टुडे’ से कहा, ‘‘यह मेरी ट्रॉफी नहीं थी, यह हमारी ट्रॉफी थी, यह देश की ट्रॉफी थी.’’

तेंदुलकर ने नवंबर 2013 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. उन्होंने कहा कि भारतीय टीम को हालांकि विश्व कप जीतने का भरोसा था वह कभी भी आत्ममुग्धता की शिकार नहीं हुई.

 

रिकॉर्ड छह विश्व कप में खेलने वाले खिलाड़ी ने कहा, ‘‘खेल में कुछ भी संभव है और मुझे उम्मीद थी कि हम अच्छा फॉर्म बनाए रखेंगे क्योंकि हम अच्छी क्रिकेट खेल रहे थे..मुझे पता था कि हममें मैच को आसानी से खत्म करने का आक्रामकता थी.’’ भारत ने 2013 में 28 साल के अंतराल के बाद विश्व कप जीता था. तेंदुलकर को लगता कि टीम ने सही समय पर लय पकड़ ली.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हमारी शुरूआत उतनी अच्छी नहीं थी. हम या तो अच्छी गेंदबाजी नहीं कर रहे थे या अच्छी बल्लेबाजी नहीं कर पा रहे थे. एक पैकेज के तौर पर यह सही नहीं जा रहा था. हमने जब अच्छी बल्लेबाजी की तब अच्छी गेंदबाजी नहीं कर पाए और जब अच्छी गेंदबाजी की तब बल्लेबाजी उतनी अच्छी नहीं कर पाए. हमने सही समय पर अच्छा प्रदर्शन करना शुरू कर दिया और दोनों चीजों ने एकसाथ लय हासिल कर ली. जाहिर तौर पर हमने अच्छा क्षेत्ररक्षण भी किया.’’

 

2011 की पूरी टीम की तारीफ करते हुए महान क्रिकेटर ने कहा कि सभी खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया और वे आक्रामक थे. तेंदुलकर 2011 विश्व कप के नौ मैचों में 482 रनों समेत 45 मैचों में 2,278 रनों के साथ आईसीसी विश्व कप के सबसे सफल बल्लेबाज हैं.

 

उन्होंने कहा, ‘‘आशीष नेहरा, मुनाफ पटेल, जहीर खान, हरभजन सिंह..सब आक्रामक थे और आपकों इन खिलाड़ियों को काबू में रखना था. यह मायने रखता है कि आप कैसे अपनी आक्रामकता दिखाते हैं.’’ तेंदुलकर ने कहा, ‘‘वीरू की बल्लेबाजी के बारे में कोई कयास नहीं लगा सकते. विपक्षी टीम को पता नहीं होता कि वह क्या करने जा रहे हैं. दूसरे छोर पर खड़े होकर मैं पता लगा रहा था कि वह क्या करने जा रहे हैं.

 

युवराज की बात करें तो वह पहले मैच से सही जा रहे थे और यह आखिरी मैच तक जारी रहा.’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sachin
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

BCCI से एनओसी पाने के लिये केरल हाईकोर्ट पहुंचे श्रीसंत
BCCI से एनओसी पाने के लिये केरल हाईकोर्ट पहुंचे श्रीसंत

कोच्चि: क्रिकेटर एस श्रीसंत ने बीसीसीआई से अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) के लिए केरल हाईकोर्ट...

डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक लगाने वाले दूसरे बल्लेबाज बने एलिस्टेयर कुक
डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक लगाने वाले दूसरे बल्लेबाज बने एलिस्टेयर कुक

बर्मिंघम: पाकिस्तान के अजहर अली के बाद एलिस्टेयर कुक डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक जड़ने वाले...

टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा
टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा

बासिल: ब्रिटेन की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी योहाना कोंटा ने सिनसिनाटी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017