गांगुली के कहने पर भी तेंदुलकर ने नहीं उतारी थी शर्ट: राजीव शुक्ला

By: | Last Updated: Monday, 2 February 2015 1:06 PM
Sachin, Dravid refused to follow Ganguly’s ‘shirt act’: Rajiv Shukla

नई दिल्ली: पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली लार्डस में 2002 में इंग्लैंड के नेटवेस्ट सीरीज में खिताबी जीत के बाद चाहते थे कि बाकी खिलाड़ी भी उनकी तरह शर्ट उतारकर हवा में लहरायें लेकिन सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ ने ऐसा करने से इन्कार कर दिया था.

 

यह खुलासा आज यहां उस दौरे में टीम मैनेजर रहे राजीव शुक्ला ने किया. उन्होंने न्यूज 24 के क्रिकेट कनक्लेव में कहा, ‘‘इंग्लैंड के खिलाफ नेटवेस्ट सीरीज जीतने के बाद लार्डस में ड्रेसिंग रूम की बालकनी में सौरव गांगुली ने शर्ट उतारकर लहराई . वह चाहते थे कि पूरी टीम शर्ट उतारे लेकिन सीनियर खिलाड़ियों जैसे सचिन, राहुल और वीवीएस लक्ष्मण ने ऐसा करने से इन्कार कर दिया था.’’

 

भारत ने 13 जुलाई 2002 को लार्डस में खेले गये फाइनल में इंग्लैंड के 326 रन के लक्ष्य को सफलतापूर्वक हासिल किया था जिसके बाद गांगुली ने अपनी शर्ट निकालकर खुशी जाहिर की थी. कई लोगों को उनकी यह हरकत नागवार गुजरी थी. शुक्ला ने ‘क्या अब क्रिकेट भद्रजनों का खेल रहा या नहीं’ इस पर विषय पर चर्चा के दौरान यह बात कही.

 

उन्होंने कहा कि क्रिकेटरों के व्यवहार में हो रहे बदलाव से घबराने की जरूरत नहीं है. शुक्ला ने कहा, ‘‘जिस तरह से आईपीसी की धारा 302 के तहत कत्ल नहीं रूके उसी तरह से कानून बनाने के बाद भी क्रिकेटरों के व्यवहार पर अंकुश नहीं लगाया जा सकता है. क्रिकेट इसी तरह से आगे चलेगा और इसके लिये घबराने की जरूरत नहीं है. ’’

 

पूर्व भारतीय क्रिकेटर अरूणलाल ने कहा कि खिलाड़ी को मैदान पर कोई भी हरकत करने से पहले यह सोचना चाहिए कि इससे देश का नाम भी बदनाम हो सकता है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘जब मैदान पर कोई खिलाड़ी ऐसा व्यवहार करता है जो स्वीकार्य नहीं हो तो मुझे काफी गुस्सा आता है. क्रिकेटरों को यह समझना चाहिए कि इससे उनका ही नहीं बल्कि देश का नाम भी बदनाम होता है. ’’

 

आईपीएल में सट्टेबाजी और स्पाट फिक्सिंग की जांच करने वाले न्यायमूर्ति मुकुल मुदगल ने कहा कि क्रिकेट अब भी भद्रजनों का खेल है. उन्होंने कहा, ‘‘हर खेल में जुनून होता है और क्रिकेटर भी कभी कभी उत्तेजित हो जाते हैं. किसी खिलाड़ी के गुस्से को देखकर यह नहीं कहना चाहिए कि यह अब भद्रजनों का खेल नहीं रहा. क्रिकेटर जज्बात में गलती कर जाते हैं. यदि कोई खिलाड़ी पैसों के लिये खेल को बेचता है तो यह वाकई में बुरी बात है.’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Sachin, Dravid refused to follow Ganguly’s ‘shirt act’: Rajiv Shukla
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017