द्रविड़ ने खोला सचिन का राज, 2003 विश्व कप में नहीं किया था अभ्यास

By: | Last Updated: Tuesday, 5 August 2014 9:39 AM
sachin_dravid

नई दिल्ली: विश्व कप 2003 में सचिन तेंदुलकर के बल्ले से रिकॉर्डतोड़ रन बरसे थे लेकिन आप ये जानकार हैरान होंगे कि सचिन ने इस विश्व कप में एक भी गेंद नेट पर नहीं खेली थी. यह राज उनके साथी राहुल द्रविड़ ने बताया.

 

इस विश्व कप में रनर अप रहने वाली टीम इंडिया के लिए सचिन ने रिकार्ड 673 रन बनाये थे. जिसमें पाकिस्तान के खिलाफ 98 रन की यादगार पारी भी शामिल थी.

 

द्रविड़ ने कहा ,‘‘सचिन की तैयारी समय के मुताबिक बदलती रहती है. उसने 2003 विश्व कप में नेट पर एक भी गेंद नहीं खेली. उसने सिर्फ थ्रो डाउंस पर अभ्यास किया .’’ उन्होंने कहा ,‘‘ हम सभी हैरान थे कि वह ऐसा क्यों कर रहा है. मैने जब उससे पूछा तो उसने कहा कि मुझे अच्छा लग रहा है . मैं नेट पर अभ्यास नहीं करना चाहता. मैं अपनी बल्लेबाजी के बारे में अच्छा महसूस करना चाहता हूं. यदि मुझे ऐसा लग रहा है तो मैं रन बनाउंगा और ऐसा ही हुआ.’’ तेंदुलकर को अपने समकालीन महानतम क्रिकेटर बताते हुए द्रविड़ ने कहा कि उन्होंने भारतीय क्रिकेट का चेहरा ही बदल दिया.

 

उन्होंने ईएसपीएन क्रिकइन्फो के ‘माडर्न मास्टर्स’ पर कहा ,‘‘ उसने मैदान के भीतर और बाहर भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल दिया . तेंदुलकर के साथ पूरी एक पीढी बड़ी हुई . उन्होंने उसके उतार और चढाव देखे और उसके साथ अपने सपनों को जिया. भारत में कई लोग क्रिकेटर बनने की इच्छा पालने लगे.’’ उन्होंने कहा ,‘‘ पिछले 24 बरस से पूरी पीढी को यह दावा करने का सौभाग्य मिला है कि उन्होंने तेंदुलकर को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज बनते देखा.’’

 

द्रविड़ ने कहा कि तेंदुलकर ने कल्पना से परे कर दिखाया. उन्होंने कहा ,‘‘ वह लीजैंड है. मैने जितने बल्लेबाजों के साथ खेला, उनमें सर्वश्रेष्ठ. वह प्रेरणास्रोत है. सोलह बरस का लड़का वह कर सकता है, जो उसने किया यह सोचना भी अविश्वसनीय है. उन्होंने कल्पना से परे कर दिखाया और मुझे लगा कि अगर वह यह कह सकता है तो मुझे भी टेस्ट क्रिकेटर बनने की कोशिश करनी चाहिये .’’ तेंदुलकर पर स्वार्थी होने के आरोपों पर द्रविड़ ने कहा,‘‘ यह अनुचित है . हम सभी शतक बनाना चाहते हैं , रन बनाना चाहते हैं और इससे टीम को ही फायदा होता है .’’ उन्होंने कहा ,‘‘ जब किसी ने शतकों का शतक लगाया तो आप उसकी हर पारी की समीक्षा करने लगे . आपको अपना पक्ष रखने के लिये कई पारियां मिल जायेंगी लेकिन कई ऐसी भी पारियां हैं जिसमें उनका शतक भारतीय क्रिकेट के लिये काफी अहम रहा .’’ द्रविड़ ने कहा कि तेंदुलकर कमजोर गेंदबाजी आक्रमण के कारण भारत को कुछ मौकों पर टेस्ट में जीत नहीं दिला सके .

 

उन्होंने यह भी कहा कि तेंदुलकर की सबसे बड़ी ताकत उनका रवैया है . उन्होंने कहा ,‘‘ मेरे हिसाब से सचिन की सबसे बड़ी ताकत उनका रवैया और दबाव को झेलने की उनकी क्षमता है . वह सोलह बरस की उम्र से तवज्जो में रहा है और इतने साल तक अपेक्षाओं का दबाव झेलते हुए अच्छा खेलना और इससे कुंठित नहीं होना साबित करता है कि उसका दिमाग कितना अद्भुत है .’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sachin_dravid
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017