सचिन का बड़ा खुलासाः द्रविड़ को कप्तान पद से हटा कर भारतीय क्रिकेट पर कंट्रोल चाहते थे चैपल

By: | Last Updated: Tuesday, 4 November 2014 1:04 PM

नई दिल्ली: क्रिकेट के मैदान पर बल्ले से सबको जवाब देने वाले महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने एक और बड़ा खुलासा किया है. इस खुलासे में उन्होंने भारत के पूर्व कोच ग्रैग चैपल पर हमला किया है. ग्रेग चैपल के बारे में उन्होंने कहा कि वेस्टइंडीज में खेले गये विश्व कप 2007 से कुछ महीने पहले उन्हें राहुल द्रविड़ के स्थान पर भारतीय टीम की कप्तानी संभालने का सुझाव दिया था.

 

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान चैपल जब तेंदुलकर के घर पर गये तो उन्होंने कहा, ‘‘हम दोनों मिलकर वर्षों तक भारतीय क्रिकेट को नियंत्रित कर सकते हैं.’’ इस दौरान चैपल ने पेशकश की कि द्रविड़ से कप्तानी लेने में ‘‘वह मेरी मदद कर सकते हैं.’’ इस स्टार बल्लेबाज ने अपनी आत्मकथा ‘प्लेइंग इट माइ वे’ में यह खुलासा किया है जिसका गुरूवार को विमोचन होगा.

 

तेंदुलकर ने 2005 से 2007 के बीच राष्ट्रीय टीम के कोच रहे चैपल की कड़ी आलोचना करते हुए उन्हें ‘‘रिंगमास्टर’’ करार दिया जो खिलाड़ियों पर अपने विचार थोपता था और कभी इसकी परवाह नहीं करता था कि इससे खिलाड़ी सहज महसूस कर रहे हैं या नहीं. द्रविड़ की जगह उन्हें कप्तान बनाने की कोच की कोशिश पर तेंदुलकर ने विस्तार से लिखा है, ‘‘विश्व कप से कुछ महीने पहले चैपल मेरे घर आये और सुझाव दिया कि मुझे राहुल द्रविड़ से कप्तानी ले लेनी चाहिए. ’’

 

उन्होंने लिखा है, ‘‘अंजलि भी मेरे साथ बैठी थी और वह भी यह सुनकर हैरान थी कि ‘हम दोनों मिलकर वर्षों तक भारतीय क्रिकेट को नियंत्रित कर सकते हैं’’ और वह टीम की कप्तानी हासिल करने में मेरी मदद करेंगे. ’’ तेंदुलकर ने लिखा है, ‘‘मुझे हैरानी हुई कि कोच कप्तान के प्रति थोड़ा भी सम्मान नहीं दिखा रहा है जबकि क्रिकेट का सबसे बड़ा टूर्नामेंट कुछ महीनों बाद होना है. ’’ इस स्टार बल्लेबाज ने कहा कि उन्होंने चैपल का सुझाव सिरे से खारिज कर दिया. ‘‘वह दो घंटे तक रहे, मुझे मनाने की कोशिश करते रहे और आखिर में चले गये. ’’

 

तेंदुलकर ने बोर्ड को सुझाव दिया कि सीनियर खिलाड़ी टीम पर नियंत्रण रख सकते हैं और टीम को एकजुट रख सकते हैं. उन्होंने अपनी किताब में लिखा है, ‘‘ऐसा नहीं हुआ और 2007 के अभियान का अंत भयावह हुआ. ’’ भारत का 2007 विश्व कप का अभियान बेहद निराशाजनक रहा. टीम केवल एक मैच बरमुडा के खिलाफ जीत पायी तथा बांग्लादेश और श्रीलंका से हार गयी थी.

 

कप्तान के रूप में टूट चुके थे तेंदुलकर, संन्यास लेना चाहते थे: आत्मकथा

 

चैपल को आड़े हाथों लेते हुए तेंदुलकर ने कहा कि विश्व कप में भारत के निराशाजनक प्रदर्शन के लिये इस ऑस्ट्रेलियाई को बहुत अधिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए थी. उन्होंने लिखा है, ‘‘मुझे नहीं लगता कि मैं इससे बहुत दूर था जब मैं कहता कि अधिकतर खिलाड़ियों को लगता है कि चैपल के रहते हुए भारतीय क्रिकेट किसी भी दिशा में आगे नहीं बढ़ रहा था. ’’

 

तेंदुलकर ने अपनी किताब में लिखा है कि चैपल सार्वजनिक तौर पर ‘‘हमारी प्रतिबद्धता पर सवाल उठा रहे थे और हमें नये सिरे से शुरूआत कराने के बजाय मामला और बिगाड़ रहे थे. ’’ तेंदुलकर के साथ यह किताब मशहूर खेल पत्रकार और इतिहासविद बोरिया मजूमदार ने लिखी है. इस स्टार बल्लेबाज ने कहा कि कई सीनियर खिलाड़ी चैपल के जाने से राहत महसूस कर रहे थे, ‘‘इससे किसी को हैरानी नहीं हुई क्योंकि जो भी कारण रहा हो, वह उनके साथ सही तरह का बर्ताव नहीं करता था. ’’

 

तेंदुलकर ने लिखा है, ‘‘ईमानदारी से कहें तो सौरव भारत के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों में एक है और उन्हें टीम का हिस्सा बनने के लिये चैपल के समर्थन की जरूरत नहीं थी. ’’ तेंदुलकर ने कहा कि चैपल सीनियर खिलाड़ियों को टीम से बाहर करना चाहते थे. उन्होंने लिखा है, ‘‘लगता था कि चैपल का इरादा सभी सीनियर खिलाड़ियों को बाहर करने का था और इस प्रक्रिया में टीम के सदभाव का नुकसान पहुंचाया. एक अवसर पर उन्होंने वीवीएस लक्ष्मण से कहा कि वह पारी की शुरूआत करने पर विचार करें.

 

लक्ष्मण ने बड़ी शिष्टता से इसे अस्वीकार कर दिया और कहा कि उन्होंने अपने करियर के शुरूआती भाग में पारी की शुरूआत करने की कोशिश की थी क्योंकि तब वह असंमजस में था, लेकिन अब वह मध्यक्रम में जम चुका था और ग्रेग को मध्यक्रम के बल्लेबाज के रूप में उन पर विचार करना चाहिए था. ’’ तेंदुलकर ने लिखा, ‘‘ग्रेग के जवाब ने हम सभी को हतप्रभ कर दिया. उन्होंने लक्ष्मण से कहा कि उसे सतर्क रहना चाहिए क्योंकि 32 साल की उम्र में वापसी करना आसान नहीं होता. ’’

 

इस दिग्गज बल्लेबाज ने लिखा है, ‘‘असल में मुझे बाद में पता चला कि ग्रेग ने बीसीसीआई से सीनियर खिलाड़ियों को हटाने के बारे में बात की थी. इसमें संदेह नहीं कि उन्होंने यह टीम को नया रूप देने की उम्मीद से किया था. ’’ इस 41 वर्षीय खिलाड़ी ने पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कोच की अच्छे समय में चर्चा में बने रहने और बुरे दौर में खिलाड़ियों को मझधार में छोड़ने की आदत की भी आलोचना की.

 

 

तेंदुलकर ने याद किया कि विश्व कप 2007 में पहले दौर में बाहर होने के बाद वे कितना निराश थे और तब वह कितने आहते हुए थे जब लोगों ने भारतीय खिलाड़ियों की प्रतिबद्धता पर सवाल उठाये थे. उन्होंने लिखा है, ‘‘जब हम भारत लौटे, तो मीडियाकर्मी मेरे साथ घर तक आये और जब मैंने सुना कि मेरे अपने लोग खिलाड़ियों की प्रतिबद्धता पर संदेह कर रहे हैं तो इससे दुख हुआ.

 

मीडिया को हमारी असफलता की आलोचना करने का पूरा अधिकार था लेकिन यह कहना कि हमारा ध्यान काम पर नहीं था, सही नहीं था. ’’ तेंदुलकर ने लिखा है, ‘‘हम प्रशंसकों की अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतर पाये थे लेकिन इसका मतलब यह नहीं था कि हमें देशद्रोही कहा जाना चाहिए. कभी प्रतिक्रियाएं आश्चर्यजनक रूप से बेहद द्वेषपूर्ण होती थी और कुछ खिलाड़ी अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित थे. ’’

 

तेंदुलकर ने कहा कि विश्व कप 2007 की हार के बाद उनके दिमाग में संन्यास लेने का विचार आया लेकिन परिजनों और दोस्तों ने उन्हें बने रहने के लिये कहा. उन्होंने लिखा, ‘‘एंडुलकर, जैसे शीर्ष बहुत आहत करने वाले थे. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 18 साल बिताने के बाद इस तरह की चीजों को सहन करना मुश्किल था और संन्यास का विचार मेरे दिमाग में आया था. मेरे परिवार और संजय नायक जैसे मित्रों ने मुझे खुश रखने के लिये अपनी तरफ से हर तरह की कोशिश की और एक सप्ताह बाद मैंने इसको लेकर कुछ करने का फैसला किया. मैंने दौड़ना शुरू किया. यह विश्व कप की यादों को दिमाग से निकालने की कोशिश थी. ’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: sachin_dravid_chappel
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

शमी ने कहा, 'शानदार प्रदर्शन और लय को आगे भी रखेंगे जारी'
शमी ने कहा, 'शानदार प्रदर्शन और लय को आगे भी रखेंगे जारी'

कोलकाता: श्रीलंका के खिलाफ 3-0 के ऐतिहासिक क्लीनस्वीप से उत्साहित तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने...

इंग्लैंड के खिलाफ इंडिया अंडर-19 टीम ने 5-0 से क्लीनस्वीप कर रचा इतिहास
इंग्लैंड के खिलाफ इंडिया अंडर-19 टीम ने 5-0 से क्लीनस्वीप कर रचा इतिहास

नई दिल्ली: भारत की अंडर-19 टीम ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए पांचवें और अंतिम युवा...

वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव
वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव

बर्मिंघम: वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू हो रहे...

...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!
...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!

नई दिल्ली: श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017