मैं BCCI प्रेसिडेंट की रेस में नहीं: राजीव शुक्ल

By: | Last Updated: Saturday, 26 September 2015 10:25 AM
Shikhar Samagam_Team India_Rajeev Shukla_Virendra Sehwag_Gautam Gambhir_

लखनऊ: शिखर समागम में भारतीय बल्लेबाज़ विरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और राजीव शुक्ल एक साथ मौजूद रहे. इस खास मौके पर इन तीनों दिग्गज़ों ने कई अहम सवालों के जवाब दिए. जिसमें राजीव शुक्ल ने पाकिस्तान के साथ दिसम्बर में सीरीज़ को लेकर, बीसीसीआई अध्यक्ष बनने को लेकर जवाब दिए. वहीं सहवाग और गंभीर ने अपने खेल और टीम इंडिया के साथ अपनी यादों को साझा किया.

 

आईये पढ़ें सहवाग, गंभीर और राजीव शुक्ल की कही गई मुख्य बातें:

 

राजीव शुक्ल:

1. हाल ही में अकस्मात हुए बीसीसीआई अध्यक्ष जगमोहन डालमिया के निधन के बाद नए अध्यक्ष के नाम पर राजीव शुक्ल की दावेदारी भी बताई जा रही थी. जिस पर जवाब देते हुए राजीव शुक्ल ने कहा कि वो बीसीसीआई के नए अध्यक्ष की रेस में नहीं हैं. जो भी फैसला होगा वो बोर्ड के मेंबर्स की सर्वसम्मति से होगा. ये ही द्विंगत डालमिया जी को सच्ची श्रृद्धांजली होगी. इससे ही भारतीय क्रिकेट का भला होगा.

 

2. इस इंटरव्यू में राजीव शुक्ल ने भारत-पाकिस्तान सीरीज़ पर भी बात की. हाल ही में पीसीबी अध्यक्ष ने धमकी भरे लहजे में कहा था कि अगर भारत-पाक के साथ सीरीज़ नहीं खेलता तो वो आईसीसी और एसीसी के टूर्नामेंट में भी भारत का बहिष्कार करेगा. इस पर पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए शुक्ल ने कहा कि पाकिस्तान का ये बयान बेतुका है आईसीसी में कोई भी मुकाबला आईसीसी के नियमों के मुताबिक होता है. उसमें कोई भी देश अपने आप किसी देश का विरोध नहीं कर सकता.

 

साथ ही पाकिस्तान के साथ दिसंबर में होने वाली सीरीज़ को लेकर शुक्ल ने कहा, ‘पाकिस्तान सुरक्षा की गारंटी लेने को तैयार हो और जो मुद्दे हैं वो हल होते हैं तो पाकिस्तान के साथ खेलने को तैयार हैं.’ इसके साथ उन्होनें ये भी साफ कर दिया कि अब दिसंबर में बहुत कम समय बचा है इसलिए दिसंबर में सीरीज़ होना मुमकिन नहीं लगता.

 

3. राजीव शुक्ल ने भारत-पाक सीरीज़ और बोर्ड प्रेसिडेंट के अलावा सहवाग-गंभीर के बारे में भी बात की. शुक्ल ने गंभीर का एक किस्सा बताते हुए कहा कि गंभीर इतने सीनियर खिलाड़ी हैं लेकिन कुछ लोग उन्हें आज भी बच्चा ही समझते हैं. शुक्ल ने शाहरूख खान के साथ आईपीएल के दौरान का एक किस्सा याद करते हुए कहा, ‘मुझसे शाहरूख खान ने कहा था मैंने इस खिलाड़ी(गंभीर) में कुछ अलग देखा है यही कोलकाता नाइट राइडर्स को जिताएगा और बाद में ऐसा ही हुआ.’

 

4. शुक्ल ने 2007 के इंग्लैंड दौरे का ज़िक्र करते हुए कहा कि उस समय चंदू बोर्डे टीम के सहायक कोच थे और उनकी लिस्ट में हमेशा पहला नाम गौतम गंभीर का होता था. ये उनकी नज़र का ही कमाल था कि 3-4 मैच में रन ना बनाने के बाद गंभीर एक दम से लय में लौटे और बेहतरीन शतक और मैच जिताऊ पारियां खेली.

 

वीरेंद्र सहवाग:

5. राजीव शुक्ल के बाद सहवाग भी इस मौके पर मौजूद रहे. भारतीय टीम से बाहर होने और कप्तान से किसी तरह के मनमुटाव के सवाल पर सहवाग ने कहा कि उन्हें गर्व है कि वो एक बेहतरीन टीम का हिस्सा रहे. उन्होनें कहा वो 2007 विश्वकप जीतने वाली टीम का भी हिस्सा रहे इस पर भी उन्हें गर्व है.

 

6. इसके साथ ही टीम से बाहर होने के सवाल पर उन्होनें कहा कि अगर कोई भी खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन नहीं करता है तो उसे कोई भी टीम में नहीं रख सकता. लेकिन अगर खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर रहा है और कप्तान के साथ उसकी ठीक से बनती नहीं है तो भी कप्तान खराब प्रदर्शन करने तक उसे टीम से बाहर नहीं निकाल सकता. हालांकि सहवाग ने ये भी साफ कर दिया कि धोनी के साथ उनकी किसी भी तरह की परेशानी नहीं है.

 

सहवाग ने कहा कि, ‘एक सीनियर खिलाड़ी से उम्मीद की जाती है कि वो कम से कम 4 मैच में एक शतक लगाए. लेकिन अगर वो ऐसा करने में सफल नहीं होता तो उसे बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है और सलेक्टर्स उसकी जगह पर किसी युवा खिलाड़ी पर भरोसा दिखा सकता हैं क्योंकि उस खिलाड़ी में टीम का कल दिखता है. जिस पर टीम 8 मैच के लिए भी भरोसा कर सकती है.’

 

7. इसके अलावा सहवाग ने गंभीर के बारे में भी बात की और कहा कि गंभीर के साथ उन्होनें काफी क्रिकेट खेली है और गंभीर एक बेहतरीन बल्लेबाज़ हैं.  सहवाग ने कहा गंभीर को बहुत गुस्सा आता है लेकिन अकसर वो गंभीर का गुस्सा शांत करने के लिए उन्हें गाना सुनाते थे और उनसे गुस्सा शांत करने के लिए भी कहते थे.

 

8. सहवाग ने जॉन राइट के साथ खुद को दिए धक्के वाले किस्से पर भी बात की. साल 2002 में नेटवेस्ट ट्रॉफी के दौरान जॉन राइट ने उनसे हवा में शॉट खेलकर आउट होने से बचने के लिए कहा था. लेकिन सहवाग ऐसा करके ही आउट हो गए. जिस पर वापस आने पर राइट ने सहवाग को धक्का दे दिया. इसके बार में सहवाग ने बताया कि बाद में इन चीज़ों को सुलझा लिया गया.

 

9. सहवाग ने एक बेहतरीन खिलाड़ी और बल्लेबाज़ बनने के लिए भी टिप्स देते हुए कहा, ‘क्रिकेट में कामयाब होने के लिए बेसिक सीखना बेहद जरूरी है, मैं अपने क्रिकेट स्कूल में भी यही सबसे पहले सिखाता हूं. अगर आपको अपने खेल में कोई भी एक्सपेरीमेंट करना है तो वो डॉमेस्टिक या इंरनेशनल लेवल पर करिये. निचले स्तर पर अपने कोच की बातों पर ध्यान देना चाहिए.’

 

इस मौके पर विरेंद्र सहवाग ने गाना भी गाया.

 

गौतम गंभीर:

10. सहवाग और राजीव शुक्ल के अलावा टीम इंडिया के पूर्व ओपनर बल्लेबाज़ गौतम गंभीर से जब पूछा गया कि टीम में बने रहने और इंटरनेशनल स्तर पर कामयाबी का क्या राज़ है? तो गंभीर ने जवाब देते हुए कहा कि, ‘मेहनत के अलावा कोई भी ऐसी चीज नहीं जो खिलाड़ी को इंटरनेशनल स्तर पर कामयाब बना सकती है.’ 

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Shikhar Samagam_Team India_Rajeev Shukla_Virendra Sehwag_Gautam Gambhir_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा
टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा

बासिल: ब्रिटेन की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी योहाना कोंटा ने सिनसिनाटी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के...

ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत
ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत

बर्मिंघम: पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक और मौजूदा कप्तान जो रूट की शानदार शतकों की मदद से...

श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम
श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम

दाम्बुला: 20 अगस्त को श्रीलंका के खिलाफ शुरु...

'यो-यो' से हारे टीम इंडिया के युवराज
'यो-यो' से हारे टीम इंडिया के युवराज

नई दिल्ली: कैंसर को मात देकर क्रिकेट के मैदान पर वापसी करने वाले टीम इंडिया के सिक्सर किंग...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017