भारतीय स्क्वाश ने 2014 में अभूतपूर्व ऊंचाइयों को छुआ

By: | Last Updated: Tuesday, 16 December 2014 4:15 PM

नई दिल्ली: भारतीय स्क्वाश के लिये बीता वर्ष सफलताओं से भरा रहा जिसमें ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेल और इंचियोन एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक सोने पे सुहागा साबित हुआ.

 

दीपिका पल्लीकल, जोशना चिनप्पा और सौरव घोषाल से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद रहती है लेकिन इस बार हरिंदर पाल संधू ने भी सुखिर्यां बंटोरी .

 

मोहाली के इस 25 वर्षीय युवा ने इंचियोन एशियाई खेलों में पहले एकल मुकाबले में गत चैम्पियन मोहम्मद अजलन इस्कंदर को हराकर पुरूष टीम के स्वर्ण पदक का मार्ग प्रशस्त किया था. इसके बाद घोषाल ने ओंग बेंग ही को हराया.

 

इस जीत ने एकल वर्ग में स्वर्ण पदक नहीं जीत पाने वाले घोषाल का दर्द कुछ कम किया . भारत ने एशियाई खेलों में सभी चार वर्गोंे में पदक जीते .

 

घोषाल ने कहा ,‘‘ यह साल राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों को समर्पित रहा . एशियाई खेलों में व्यक्तिगत वर्ग का स्वर्ण नहीं जीत पाना निराशाजनक रहा . फाइनल में हार हमेशा खलती है लेकिन टीम को पीला तमगा मिलने की खुशी है. यह अब तक का मेरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है .’’ महिला वर्ग में पल्लीकल, चिनप्पा और अनाका अलांकामोनी ने भारत के लिये पहला रजत पदक जीता . विश्व रैंकिंग में शीर्ष 10 में पहुंची पहली भारतीय पल्लीकल ने क्वार्टर फाइनल में चिनप्पा को हराकर व्यक्तिगत वर्ग का कांस्य भी जीता .

 

सितंबर में हुए उस तनावपूर्ण मुकाबले के बाद पल्लीकल और चिनप्पा के बीच वह तालमेल नहीं रह गया जो राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान था . ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में पल्लीकल और चिनप्पा ने भारत को पहला पदक दिलाया और वह भी स्वर्ण. उन्होंने मलेशिया की निकोल डेविड और लो वी वर्न और शीर्ष वरीयता प्राप्त इंग्लैंड की जेनी डंकाल्फ और लौरा मसारो जैसे दिग्गजों को हराया.

 

पल्लीकल और चिनप्पा कल से शुरू हो रहे वर्ल्ड ओपन में भाग लेने फिलहाल काहिरा में है.

 

घोषाल ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में पहली बार सेमीफाइनल तक पहुंचे. कांस्य पदक के प्लेऑफ मुकाबले में उन्हें इंग्लैंड के पीटर बार्केर ने हराया. अब वह पेशेवर सर्किट पर अपने प्रदर्शन में सुधार करना चाहते हैं .

 

उन्होंने कहा ,‘‘ इस साल मेरी पीएसए रैंकिंग गिरी है जिस पर 2015 में मेरा फोकस रहेगा .’’ वहीं पल्लीकल ने कहा ,‘‘ मैने इस साल राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों के कारण कम टूर्नामेंटों में भाग लिया . अगले सत्र में अधिक टूर्नामेंट खेलकर फिर शीर्ष दस में जगह बनाना मेरा प्रमुख लक्ष्य होगा .’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: squash
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

शमी ने कहा, 'शानदार प्रदर्शन और लय को आगे भी रखेंगे जारी'
शमी ने कहा, 'शानदार प्रदर्शन और लय को आगे भी रखेंगे जारी'

कोलकाता: श्रीलंका के खिलाफ 3-0 के ऐतिहासिक क्लीनस्वीप से उत्साहित तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने...

इंग्लैंड के खिलाफ इंडिया अंडर-19 टीम ने 5-0 से क्लीनस्वीप कर रचा इतिहास
इंग्लैंड के खिलाफ इंडिया अंडर-19 टीम ने 5-0 से क्लीनस्वीप कर रचा इतिहास

नई दिल्ली: भारत की अंडर-19 टीम ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए पांचवें और अंतिम युवा...

वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव
वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव

बर्मिंघम: वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू हो रहे...

...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!
...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!

नई दिल्ली: श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017