भैंस चराने पर मजबूर है टीम इंडिया का विश्व कप का 'हीरो'

By: | Last Updated: Sunday, 12 July 2015 12:49 PM
Star of 1998 cricket WC, blind cricketer grazes cattle

नई दिल्लीः क्रिकेट और क्रिकेट खिलाड़ी का नाम आते ही सबसे पहले नाम और शोहरत पर ध्यान जाता है. भारतीय क्रिकेट फैन्स सचिन तेंदुलकर के नाम और उनके शोहरत से दुनिया भर में इतराते हैं. सचिन ही क्यों भारतीय टीम का ऐसा कौन सा खिलाड़ी होगा जिसे क्रिकेट प्रेमी नहीं जानते. शायद आप इस नाम को नहीं जानते होंगे. अगर कभी जेहन में आया भी होगा तो अब आपकी यादों से ओझल हो गया होगा. ये भी भारतीय टीम के ‘सचिन तेंदुलकर’ ही थे. लेकिन आज जिन्दगी 22 यार्ड से भी छोटी हो गई है.

 

हम बात कर रहे हैं एक ऐसे भारतीय खिलाड़ी की जिसके नाम भारतीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड है. इतना ही नहीं इसने 1998 विश्व कप में धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए टीम को सेमीफाइनल तक पहुंचाया था. लेकिन आज इसकी स्थिति ऐसी बन गई है कि आज उन्हें गुजारे के लिए भी सोचना पड़ता है.

 

उनका नाम है भालाजी डामोर. 1998 में भारतीय नेत्रहीन क्रिकेट टीम को वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल तक ले जाने वाले खिलाड़ी भालाजी डामोर आज अपने गांव में भैंस चराने को मजबूर है. डामोर पहले नेत्रहीन वर्ल्ड कप के मैन ऑफ द सीरिज बने थे. भारत के लिए 125 मैच में 150 विकेट और 3125 रन बनाने वाले डामोर भारतीय टीम में एक ऑलराउंडर के रूप में खेलते थे.

 

टीम की इस कामयाबी के बाद तत्कालीन राष्ट्रपति केआर नारायणन ने उन्हें सम्मानित भी किया था. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा – वर्ल्ड कप के बाद मुझे उम्मीद थी कि एक नौकरी मिल जाएगी. लेकिन मुझे किसी भी कोटे से नौकरी नहीं मिली. कई सालों बाद गुजरात सरकार से प्रशंसा प्रमाण मिला. उनके इस बेजोड़ प्रदर्शन को देखते हुए विश्व कप में उन्हें 5000 रूपये का नकद इनाम मिला था.

 

वो बताते हैं कि विश्व कप के दौरान टीम के दूसरे खिलाड़ी उन्हें सचिन तेंदुलकर बुलाते थे लेकिन आज उन्हें घर चलाने के लिए अपने भाई के साथ एक एकड़ जमीन पर खेती कर घर चलाने की कोशिश करते हैं. इससे उनके परिवार की जरूरतें पूरी नहीं होती और दूसरी जगह शारीरिक कमजोरी के चलते काम नहीं मिलता. उनकी पत्नी अनु खेतों में मजदूरी करती है. दोनों का एक चार साल का बेटा भी है.

 

नेशनल एसोसिएशन फॉर ब्लाइंड के उपाध्यक्ष भास्कर मेहता बताते हैं कि भारतीय नेत्रहीन टीम को भालाजी जैसा और कोई ऑलराउंडर नहीं मिला. वो बिना देखे भी लगातर विकेट ले सकते थे. 

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Star of 1998 cricket WC, blind cricketer grazes cattle
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

BCCI से एनओसी पाने के लिये केरल हाईकोर्ट पहुंचे श्रीसंत
BCCI से एनओसी पाने के लिये केरल हाईकोर्ट पहुंचे श्रीसंत

कोच्चि: क्रिकेटर एस श्रीसंत ने बीसीसीआई से अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) के लिए केरल हाईकोर्ट...

डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक लगाने वाले दूसरे बल्लेबाज बने एलिस्टेयर कुक
डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक लगाने वाले दूसरे बल्लेबाज बने एलिस्टेयर कुक

बर्मिंघम: पाकिस्तान के अजहर अली के बाद एलिस्टेयर कुक डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक जड़ने वाले...

टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा
टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा

बासिल: ब्रिटेन की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी योहाना कोंटा ने सिनसिनाटी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017