द एशेज: रोचक कहानी से कांटे की टक्कर तक

By: | Last Updated: Wednesday, 8 July 2015 3:36 PM
story of ashes

नई दिल्लीः विश्व क्रिकेट के दो सबसे पुराने प्रतिद्वंद्वी इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया एक बार फिर आमने सामने होंगे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सबसे पुराने टेस्ट सीरीज द एशेज में. बुधवार 8 जुलाई यानि आज कार्डिफ के मैदान से पांच टेस्ट मैचों की ये सीरीज शुरु होगी. क्रिकेट प्रेमियों के लिए जितनी ये सीरीज रोमांचक होती है उतनी ही रोमांचक इसकी कहानी है –

 

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच ये सीरीज 1882 से खेली जा रही है. दो देशों की इस सीरीज को एशेज नाम ब्रिटिश मीडिया ने दिया था. कहानी शुरु होती है 1882 से जब ऑस्ट्रेलिया ने ओवल के मैदान पर इंग्लैंड को इंग्लैंड में पहली बार हराया था.

 

ये मैच भी कम रोमांचक नहीं था. दोनों ही टीम रन बनाने को तरसते रहे और लो स्कोरिंग मैच में बाजी मारी थी मेहमान ऑस्ट्रेलिया ने. ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 63 रन बनाए थे जिसके जवाब में इंग्लैंड ने 101 रन बनाए थे. ऑस्ट्रेलिया के सामने 38 रन की लीड थी और इसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 122 रन बनाए. अब इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 85 रन की चुनौती थी लेकिन पूरी टीम 8 रन पहले ऑल ऑउट हो गई

 

इस करारी हार को ब्रिटिश मीडिया बर्दाश्त नहीं कर पाई. हार के बाद स्पोर्टिंग टाइम्स ने लिखा – इंग्लैंड क्रिकेट की मौत हो चुकी है और उसकी चिता जलाने के बाद राख (एशेज) ऑस्ट्रेलिया टीम अपने साथ ले जा रही है. इसके बाद इंग्लैंड टीम के ऑस्ट्रेलिया दौरे के समय ब्रिटिश मीडिया ने इस दौरे को इंग्लैंड की प्रतिष्ठा बचाने का अवसर कहा. इसके बाद इंग्लैंड ने अगले 8 सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को हराया.

 

इंग्लैंड टीम के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर इंग्लैंड के कप्तान इवो ब्लिग को बेल्स की राख (एशेज) तोहफे में दी गई, जो इस सिरीज का प्रतीक बनी.  बाद में क्रिकेट की गिल्ली को जलाकर जो राख बनी उसको ही एक Urn (राख रखने वाले बर्तन) में डाल कर इंग्लैंड के कप्तान को दिया गया. वहीं से परम्परा चली आई और आज भी Ashes की ट्रॉफी उसी राख वाले बर्तन को ही माना जाता है और उसी की एक बड़ी ड्यूप्लिकेट ट्रॉफी बना कर दी जाती है.

 

एशेज सीरीज अब पांच टेस्ट मैचों की होने लगी है लेकिन हमेशा से ऐसा नहीं था. कभी ये चार मैचों की सीरीज होती थी तो कभी इसे छह टेस्ट मैचों  (1970–71; 1974–75; 1978–79; 1981; 1985; 1989; 1993 और 1997). की सीरीज बनाया गया था.

 

किसका है दबदबा –

 

अभी तक हुए कुल  317 [2013 तक] एशेज टेस्ट में से ऑस्ट्रेलिया ने 126 जीते और इंग्लैंड ने 103 जीते और 88 मुक़ाबला बराबरी पर समाप्त हुआ है.  दोनों ही देशों में 68 सीरीज खेले गए हैं जिनमें 32 ऑस्ट्रेलिया ने तो 31 इंग्लैंड ने अपने नाम की है.

 

शतक और रन में किसका है जलवा –

जहां तक शतकों की बात है तो ऑस्ट्रेलिया की ओर से 264 शतक लगे है जिसमें 23 बार 200 से ज्यादा की पारी खेली गई है. वहीं इंग्लैंड की ओर से 215 शतक लग चुके हैं जिसमें इंग्लैंड की ओर से 10 दोहरे शतक लगे हैं. ऑस्ट्रेलिया के अकेले सर डॉन ब्रैड्मेन ने 12 दोहरे शतक लगाए थे. ब्रैडमेन के नाम इस सीरीज में सबसे अधिक रन बनाने का भी रिकॉर्ड है. उन्होंने 5,028 रन बनाए हैं. एक पारी में सबसे अधिक रन बनाने का रिकॉर्ड इंग्लैंड के लीन हटन (364) के नाम है. ऑस्ट्रेलिया के लिए ब्रैडमेन ने सबसे बड़ी पारी 334 रन की खेली थी.

 

सर्वाधिक शतकों में भी डॉन ब्रैडमेन सबसे आगे हैं. उन्होंने 19 शतक लगाए हैं जबकि इंग्लैंड के लिए 12 शतकों के साथ जैक हॉब्स सबसे आगे हैं. किसी एक एशेज में सर्वाधिक रनों के मामले में भी ब्रैडमेन आगे हैं, उनके बल्ले से एक सीरीज में 974 रन निकले थे. इंग्लैंड की तरफ से वाली हैमंड ने 905 रन बनाए थे.

 

विकेटों में कौन आगे –

एक मैच में 10 विकेट की बात भी लगभग बराबरी पर ही खतम होती है. जहां ऑस्ट्रेलिया की ओर से 41 है वही इंग्लैंड की ओर से 38 है. सबसे अधिक विकेट स्पिन के जादूगर शेन वार्न के नाम है. वार्न ने इंग्लैंड के 195 विकेट झटके हैं. तो वहीं इंग्लेंड के इयान बॉथम ने ऑस्ट्रेलिया के 148 विकेट झटके. एक मैच में सबसे अधिक विकेट लेने का रिकॉर्ड जिम लेकर के नाम आता है. इंग्लैंड की ओर से खेलते हुए लेग स्पिनर ने पहली पारी में 10 और दूसरी पारी में 9 विकेट लेकर ऐसा रिकॉर्ड बनाया जो आज तक नहीं टूटा.

 

जीत –

एक पारी में सर्वाधिक रन में जहां इंग्लैंड का रेकॉर्ड 903/7 है वही ऑस्ट्रेलिया का 729/6 है. पारी में कम से कम स्कोर में ऑस्ट्रेलिया का 36 है जबकि इंग्लैंड के 45 रन हैं. सबसे बड़ी जीत की बात करें तो यहां इंग्लैंड ने बाज़ी मारी है. इंग्लैंड की सबसे बड़ी जीत पारी और 579 रनों से है जबकि ऑस्ट्रेलिया की पारी और 332 रनों से है. दूसरी ओर केवल रनों से जीत के मामले में भी इंग्लैंड का पलड़ा भारी है जहां इंग्लैंड की सबसे बड़ी जीत 675 रनों से है वहीं ऑस्ट्रेलिया की जीत 562 रनों से है.

 

ऐसे में अगर बात सिर्फ आंकड़े की करें तो ऑस्ट्रेलिया हर जगह इंग्लैंड से बीस पड़ा है लेकिन इंग्लैंड ने भी मुकाबला बराबरी का ही रखा है.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: story of ashes
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017