एमएस धोनी के भरोसे से बेहतर निकले अजिंक्य रहाणे?

By: | Last Updated: Monday, 29 June 2015 11:18 AM

नई दिल्ली : बांग्लादेश के शर्मनाक दौरे के बाद टीम इंडिया अब अगले दौरे की तैयारी में लग गई है. 2-1 से बांग्लादेश सीरीज गंवाने वाली टीम अब जिम्बाब्वे दौरे के लिए तैयार है और इस तैयारी की शुरुआत चयनकर्ताओं ने सभी सीनियर खिलाड़ियों को आराम देने के साथ किया है. चयनकर्ताओं ने इस दौरे के लिए सबसे बड़ा दांव ऐसे खिलाड़ी पर खेला जिसे टीम के वनडे कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी एक स्ट्राइक रोटेट करने वाले खिलाड़ी के रूप में नहीं मानते जिसके कारण उन्हें बांग्लादेश के खिलाफ दो मैच के लिए बाहर भी बैठा दिया था. हम बात कर रहे हैं टीम इंडिया के नए कप्तान अजिंक्या रहाणे की.

 

रहाणे की इस बड़ी उपलब्धि को उनके बीते दो साल के प्रदर्शन का इनाम कहा जा सकता है. अपने क्रिकेट करियर में पहली बार रहाणे को किसी बड़ी टीम की कप्तानी का मौका मिला है और वो भी सीधे टीम इंडिया की. रहाणे पिछले दो साल में टीम इंडिया के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी बन कर सामने आए हैं. सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण के संन्यास के बाद अंजिक्या रहाणे ने टेस्ट टीम में तो अपनी जगह बना ली लेकिन वनडे टीम में अभी तक अपनी बल्लेबाजी के लिए सही पोजिशन के लिए भटकते दिखे हैं. कभी सलामी बल्लेबाज तो कभी चौथे नंबर पर बल्लेबाजी ने उन्की बल्लेबाजी में निंरतरता की कमी दिखाई. फिर धोनी भी उन्हें टीम में रखने से पहले सोचते दिखे हैं. ऐसे में जब उन्हें टीम की कमान सौंपी गई है तो हम कह सकते हैं कि बीसीसीआई रहाणे को लंबी रेस का घोड़ा मानता है और आगे उन्हें और भी बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है.

 

टीम में हरभजन सिंह और मुरली विजय जैसे सीनियर खिलाड़ी की वापसी जरूर हुई है लेकिन वो टीम में स्थायी नहीं हैं. मुरली विजय अब तक वनडे टीम के स्थायी सदस्य नहीं बन पाए हैं जबकि हरभजन सिंह चार साल बाद वनडे टीम में वापसी कर रहे हैं. ऐसे में चयनकर्ताओं के सामने रहाणे से बेहतर कोई और विकल्प नहीं हो सकता था.

 

रहाणे ने बीते एक साल के दौरान 25 वनडे मैचों में दो शतक सहित 839 रन बनाए हैं. टेस्ट मैचों में भी वे भारत की ओर से खासे कामयाब बल्लेबाज़ रहे हैं. उन्होंने तीन टेस्ट शतक बनाए हैं और तीनों विदेशी पिचों पर.

 

एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए उनके कोच और टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी भी इस बात से काफी खुश हैं कि उनके सबसे बेहतर खिलाड़ी को टीम इंडिया की नई जिम्मेदारी दी गई है. रहाणे को लेकर उन्होंने कहा कि जिस तरह उनकी बल्लेबाजी ने सबको खुश किया है वैसे ही वो अब अपनी कप्तानी से देश को आगे ले जाएंगे. आपको बता दें कि रहाणे उस दिन चर्चा में आए थे जब उन्होंने 45 ओवर के मैच में 300 रन की पारी खेली थी. रहाणे अपने पावरफुल स्ट्रोक को भी काफी आसानी से खेलते हैं और ये उनकी बल्लेबाजी की सबसे बड़ी यूएसपी है. आईपीएल 2015 में भी उन्होंने दिखा दिया था कि वो छोटे फॉर्मेट में अपने स्ट्रोक और कॉपी बुक स्टाइल की बल्लेबाजी से तेजी के साथ बड़े स्कोर बना सकते हैं फिर चाहे कोई भी गेंदबाज सामने हों.

 

रहाणे ने कम समय में खुद को बेहद मैच्योर क्रिकेटर बना लिया है. विपरित परिस्थिति में रहाणे खुद पर पर नियंत्रण रखना बखूबी जानते हैं. लेकिन अब देखना होगा कि रहाणे एक बल्लेबाज के बाद पूरी टीम की जिम्मेदारी कैसे उठाते हैं क्योंकि उन्हें न सिर्फ बल्लेबाजी में बल्कि गेंदबाजों को भी बेहतरीन ढंग से इस्तेमाल करना होगा. उन्हें अब हर समय नई रणनीति के साथ मैदान पर उतरना होगा और इस बात का फैसला दौरे के बाद ही चलेगा कि रहाणे एक बल्लेबाज के बाद एक कप्तान के रूप में किस तरह सफल होते हैं. 

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: team india new captain rahane
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017