युवा ब्रिगेड का असली इम्तिहान

By: | Last Updated: Tuesday, 9 December 2014 2:52 AM

नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया में शुरू हो रहा है युवा टीम इंडिया का सबसे बड़ा इम्तिहान. ऑस्ट्रेलिया के साथ चार टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मैच एडिलेड में खेला जाना है.

 

विश्वकप की तैयारी है

जब मैदान पर टीम इंडिया उतरेगी तो उसका मकसद सिर्फ टेस्ट मैच जीतना नहीं होगा बल्कि 67 दिन बाद विश्वकप की तैयारी करना होगा जो ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की तेज पिचों पर खेला जाना है.

 

साल 2012 में जब भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई थी तो 4-0 की शर्मनाक हार के साथ लौटी थी. उस टीम में से गौतम गंभीर, वीरेंद्र सहवाग, राहुल द्रविड़, सचिन तेंडुलकर, वीवीएस लक्ष्मण, जहीर खान जैसे वरिष्ठ खिलाड़ी अब टीम का हिस्सा नहीं हैं.

 

पिछली टीम के मुकाबले इस बार बेहद युवा टीम है जिसमें बल्लेबाजी का दारोमदार होगा शिखर धवन, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा विराट कोहली, अंजिक्य रहाणे, और रोहित शर्मा पर.

 

वहीं गेंदबाजी में भुवनेश्वर के चोटिल होने के बाद वरुण एरॉन, ईशांत, उमेश यादव और मोहम्मद शमी आक्रमण की बागडोर संभालेंगे. विश्वकप में भी भारतीय चयनकर्ताओं ने इन्हीं खिलाड़ियों को अंतिम 30 में जगह दी है. ऐसे में इस युवा ब्रिगेड के पास मौका है विश्वकप के अभ्यास का. लेकिन उससे भी बढ़कर मौका है जीत के साथ पिछले इतिहास को बदलने का.

 

इतिहास बदलना है

साल 1947-48 से लेकर अब तक भारत की क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया की धरती का दस बार दौरा किया है. आखिरी बार भारत 2012 में ऑस्ट्रेलिया गई थी टीम इंडिया जिसमें 4-0 शर्मनाक हार हुई थी.

 

ऐसी शर्मानाक हार पहली बार नहीं हुई थी. पिछली सीरीज को मिला कर भारत चार बार 4-0 से हार कर ऑस्ट्रेलिया से लौटा है.

 

ऑस्ट्रेलिया में कुल दस सीरीज में भारत अब तक सिर्फ तीन बार ड्रा करा पाया है जबकि सात बार सीरीज हारा है. सिर्फ इतना ही नहीं अब तक ऑस्ट्रेलिया में खेले 40 मैचों में से भारत सिर्फ 5 मैच जीता है और 26 टेस्ट मैच हारा है 9 टेस्ट मैच ड्रा रहे हैं.

 

एडिलेड के मैदान पर भारत और ऑस्ट्रेलिया की टक्कर 10 बार हुई है जिसमें से भारत सिर्फ एक बार जीता है जबकि 6 बार हारा है तीन बार भारत इस मैदान पर मैच ड्रा कराने में कामयाब रहा है.

 

क्लार्क से सावधान

भारत के लिए सबसे बड़ी खतरे की घंटी है ऑस्ट्रेलिया के कप्तान माइकल क्लार्क जो फिट होकर कप्तान के लिए लौट चुके हैँ. क्लार्क ने एडिलेड के मैदान पर नौ टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 6 शतकों के साथ 1279 रन बनाए हैं 98.38 की औसत से. वहीं सलामी बल्लेबाज वार्नर भी जबरदस्त फॉर्म में हैं पिछले दस टेस्ट मैचों में 5 शतक और 6 अर्धशतक लगा चुके हैं करीब 68 का औसत के साथ

 

कोहली की कप्तानी की परीक्षा

कोहली का एडिलेड के मैदान के साथ नाता है. ऑस्ट्रेलिया दौर पर जब बड़े-बड़े दिग्गज फेल हो गये थे तब चौथे टेस्ट मैच के तीसरे दिन विराट कोहली ने शतकीय पारी खेली थी. वो दिन था 26 जनवरी 2012 का. मैदान था एडिलेड का. अब एडिलेड के मैदान पर करीब ढाई साल बाद टीम इंडिया फिर से उतर रही है और इस बार एडिलेड के शतकवीर विराट कोहली टीम इंडिया के कप्तान हैं.

 

विराट कोहली ने अब तक 29 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें 39.46 की औसत से 1855 रन बनाए हैं. जिसमें 6 शतक शामिल हैं.

 

विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अब तक 8 टेस्ट मैच खेले है जिसमें 44.92 की औसत से 584 रन बनाए हैं जिसमें 2 शतक शामिल हैं.

 

विराट कोहली पहली बार टेस्ट में कप्तानी कर रहे हैं, वनडे के अंदर तो विराट का आक्रामक अंदाज उनकी कप्तानी में भी नजर आता है देखना ये है कि ऑस्ट्रेलिया के मैदानों पर विराट कोहली क्या रंग दिखा पाते हैं.

 

युवा टीम है और कप्तानी का दारोमदार युवा विराट कोहली पर. इंतजार रहेगा कि ये युवा ब्रिगेड इस इम्तिहान को पास करे और विश्वकप की तरफ जीत के साथ कदम बढ़ाए.

 

Connect with Manish sharma

https://www.facebook.com/manishkumars1976

twitter.com/@manishkumars

Linkedin/ Manishkumars1976@gmail.com

 

क्रिकेट कथा में पढ़िए क्रिकेट विश्वकप कप से जुड़े किस्से

क्रिकेट कथा: जब विश्वकप से जीरो होकर लौटे हम

तो पहले विश्वकप में यहां अटक गया था भारत

विश्वकप के पहले मैच में गावस्कर से शर्मा गए थे कछुए

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Team India_Australia_World Cup 2015_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017