BLUE 15: भुवनेश्वर कुमार की स्विंग से हैं वर्ल्ड कप में टीम को उम्मीदें

By: | Last Updated: Wednesday, 28 January 2015 10:04 AM

नई दिल्ली: साल 2015 का विश्व कप टीम इंडिया समेत दुनियाभर के क्रिकेट दिग्गजों के लिए एक साख का सवाल है. भारत एक बार फिर से इस विश्वकप को जीतकर क्रिकेट जगत में खुद को विश्व विजेता साबित करना चाहेगा. लेकिन अगर टीम इंडिया को वर्ल्डकप जीतने का सपना सच करना है तो उसके गेंदबाज़ों को इस विश्वकप में खासा कमाल करना होगा.

 

टीम इंडिया की बल्लेबाजी दूसरे देशों को अपनी काबीलियत अकसर दिखाती रही है. लेकिन भारत के गेंदबाज़ों ने हाल के दिनों में विदेशी पिचों पर खासा निराश किया है. लेकिन टीम इंडिया के गेंदबाज़ों में काबीलियत की कोई कमी नहीं है.

 

इसलिए हम एक ऐसी श्रृंखला आपके लिए लेकर आए हैं जिसमें एबीपी न्यूज़ वर्ल्ड कप स्पेशल BLUE 15 की कड़ी में मौजूद टीम इंडिया के रणबांकुरो के क्रिकेट के आंकड़ों और उनके प्रदर्शन को आपके सामने रख रहा है. जिससे आपके सामने ये तस्वीर साफ हो जाए कि टीम इंडिया का खिताब बचाने गए योद्धा वर्ल्ड कप में कैसा प्रदर्शन करेंगे और भारतीय टीम की विश्व कप जीतने की संभावना कितनी हैं.

 

इससे पहले हम आपको टीम इंडिया के ऑल-राउंडर स्टुअर्ट बिन्नी, तेज़ गेंदबाज़ उमेश यादव और अंबाती रायडू के बारे में जानकारी दे चुके हैं. इस कड़ी में आज हम टीम इंडिया के तेज़ गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार के बारे में बात कर रहे हैं.

 

भुवनेश्वर कुमार: भुवनेश्वर कुमार टीम के युवा तेज़ गेंदबाज़ हैं. अपने करियर के शुरूआती दिनों में ही भुवनेश्वर ने अपनी स्विंग और स्टीक लाईन लेंथ से सबको खासा प्रभावित किया था. भुवी ने देश के लिए 44 वनडे मैच खेले हैं जिसमें उन्होनें 37 के औसत से 45 विकेट झटके हैं. भुवी का बेस्ट बॉलिंग कार्ड है 8 रन देकर 4 विकेट. भुवनेश्वर कुमार शुरूआती ओवरों में नई गेंद से खासा प्रभावित करते हैं.

 

भुवनेश्वर कुमार ने अपना वनडे डेब्यू साल 2012 में पाकिस्तान के खिलाफ चेन्नई में किया था. पाकिस्तान और श्रीलंका के खिलाफ वो भारत के लिए बेहद किफायती गेंदबाज़ साबित हुए हैं.

 

भुवनेश्वर कुमार की कमजोरी है कि उन्हें ऑस्ट्रेलिया-न्यूज़ीलैंड की सरज़मीं पर खेलने का अनुभव थोड़ा कम है. विश्व-कप 2015 ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड में ही खेला जाना है. लेकिन टेस्ट में कप्तान ने भुवी पर भरोसा दिखाकर उन्हें ऑस्ट्रेलियाई धरती का थोड़ा अनुभव दिया है.

 

इंटरनेशनल क्रिकेट के अलावा भुवनेश्वर कुमार ने 58 फर्स्ट-क्लास मैचों में 27 के औसत से 178 विकेट झटके हैं. वहीं आईपीएल में खेले 45 मैचों में उन्होनें 24 के औसत से 44 विकेट झटके हैं बनाए हैं. रायडू अभी सनराइज़र्स हैदराबाद टीम का हिस्सा हैं.

 

भुवनेश्वर कुमार अगर वर्ल्ड कप के मैचों में अच्छी गेंदबाज़ी करते हैं तो उनकी स्विंग ऑस्ट्रेलियाई पिचों पर भारत को विश्व कप दिलाने में अहम भूमिका निभा सकती है.

 

काबिलियत: भुवनेश्वर कुमार भारत के तेज़ गेंदबाज़ हैं. उनका प्रमुख हथियार उनकी स्पिन गेंदबाज़ी है. कप्तान धोनी उनका उपयोग मैच के शुरूआती ओवरों में कर सकते हैं. भुवी गेंदबाज़ी के साथ-साथ अच्छी बल्लेबाजी भी कर सकते हैं. ये टीम के लिए उपयोगी साबित हो सकता है. अगर भुवनेश्वर ने शुरूआती ओवरों में अच्छी गेंदबाज़ी की तो दूसरी टीम के लिए रन बनाना आसान नहीं होगा. साथ ही अगर भुवनेश्वर पूरी तरह लय में खेलते हैं तो टीम इंडिया की सबसे बड़ी समस्या बॉलिंग फिर परेशानी नहीं रहेगी. इससे टीम की बल्लेबाजी को भी मदद मिलेगी.

BLUE 15: वर्ल्ड कप में अंबाती रायडू पर कप्तान धोनी दिखा सकते हैं भरोसा 

BLUE 15: उमेश यादव के कंधों पर होगा तेज़ गेंदबाज़ी का दारोमदार

BLUE 15: विश्व कप में टीम इंडिया के लिए किफायती साबित हो सकते हैं स्टुअर्ट बिन्नी 

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Team India_World Cup 2015_Bhuvneshwar Kumar_Fast Bowler_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017