अतिरिक्त अभ्यास से ज्यादा बोझ लेने की जरूरत नहीं है: तेंदुलकर

By: | Last Updated: Monday, 23 February 2015 7:01 AM
Team India_World Cup 2015_Sachin Tendulkar_South Africa_Pakistan_

पर्थ: अभ्यास सत्रों से अचानक ब्रेक लेने की भारतीय क्रिकेट टीम की रणनीति भले ही कइयों को रास नहीं आई हो लेकिन सचिन तेंदुलकर ने महेंद्र सिंह धोनी के इस फैसले का समर्थन करते हुए कहा कि तरोताजा रहने और अतिरिक्त अभ्यास से ज्यादा बोझ नहीं लेने के बीच उचित संतुलन जरूरी है.

 

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच मैच देखने कल मेलबर्न में मौजूद विश्व कप के ब्रांड दूत तेंदुलकर ने आईसीसी के आधिकारिक मीडिया जोन में जारी आडियो में कहा ,‘‘ सफलता के लिये सफल संयोजन जरूरी है.’’ धोनी हमेशा अभ्यास और रिकवरी के बीच संतुलन के हिमायती रहे हैं और तेंदुलकर ने भी उनके सुर में सुर मिलाया.

 

उन्होंने कहा ,‘‘ तरोताजा रहने और अतिरिक्त अभ्यास सत्रों से खुद पर ज्यादा बोझ नहीं डालने के बीच संतुलन जरूरी है. निश्चित तौर पर यदि कोई अच्छा नहीं खेल रहा है तो उसे ज्यादा से ज्यादा अभ्यास की जरूरत है लेकिन सब कुछ ठीक है तो उर्जा बचाकर सही समय पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना जरूरी है.’’ तेंदुलकर ने कहा कि टी20 क्रिकेट के आने और नयी फील्डिंग पाबंदियों से अब नौ से अधिक रन प्रति ओवर की दर से भी लक्ष्य का पीछा करना संभव है.

 

उन्होंने कहा ,‘‘ इतने बड़े स्कोर वाले मैच होने के दो कारण है. पहला तो नियम में बदलाव क्योंकि अब सर्कल के बाहर एक फील्डर कम होता है. इससे गेंदबाज को अलग तरीके से गेंदबाजी करनी पड़ती है और काफी फर्क हो जाता है.’’ उन्होंने कहा ,‘‘ दूसरा कारण टी20 क्रिकेट है जिसमें बल्लेबाज को अधिक जोखिमभरे और नये शाट्स खेलने का मौका मिलता है. इसका नेट्स पर काफी अभ्यास किया जाता है. अस्सी और नब्बे के दशक में कहां बल्लेबाज तेज गेंदबाजों को रिवर्स स्वीप खेलते थे लेकिन अब ऐसा हो रहा है.’’

 

तेंदुलकर ने कहा ,‘‘ अब आठ रन प्रति ओवर की दर से भी रन बन रहे हैं. टी20 में तो नौ से अधिक की दर से भी लक्ष्य हासिल किया जा रहा है. खिलाड़ियों में यह भरोसा पैदा हो गया है कि नौ रन प्रति ओवर की औसत से भी लक्ष्य का पीछा किया जा सकता है.’’ उन्होंने कहा कि लगातार दूसरी बार विश्व कप का ब्रांड दूत बनकर वह गौरवान्वित हैं.

 

उन्होंने कहा ,‘‘ मैं 2011 और 2015 विश्व कप का ब्रांड दूत बनाने के लिये आईसीसी को धन्यवाद देता हूं. मुझे याद है कि मैं 1987 विश्व कप में 14 बरस का बाल ब्वाय था और ड्रेसिंग रूम के बाहर बैठा रहता था. वहां से 2015 विश्व कप का ब्रांड दूत बनने तक का सफर बहुत खास है.’’ छह विश्व कप खेल चुके तेंदुलकर के लिये एमसीजी के हास्पिटेलिटी बाक्स से टूर्नामेंट को देखना नया अनुभव रहा.

 

उन्होंने कहा ,‘‘ मैं दीर्घा से विश्व कप देख रहा हूं और यह नया अनुभव है. अभी तक यह टूर्नामेंट काफी रोमांचक रहा है. हमने कुछ उलटफेर देखे. टीमों ने प्रतिस्पर्धी और अच्छा क्रिकेट खेला है और आने वाले मैचों में भी ऐसा ही देखने को मिलेगा.’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Team India_World Cup 2015_Sachin Tendulkar_South Africa_Pakistan_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत
ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत

बर्मिंघम: पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक और मौजूदा कप्तान जो रूट की शानदार शतकों की मदद से...

श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम
श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम

दाम्बुला: 20 अगस्त को श्रीलंका के खिलाफ शुरु...

'यो-यो' से हारे टीम इंडिया के युवराज
'यो-यो' से हारे टीम इंडिया के युवराज

नई दिल्ली: कैंसर को मात देकर क्रिकेट के मैदान पर वापसी करने वाले टीम इंडिया के सिक्सर किंग...

उमर अकमल ने पाक टीम के कोच मिकी आर्थर पर लगाया बदसलूकी का आरोप
उमर अकमल ने पाक टीम के कोच मिकी आर्थर पर लगाया बदसलूकी का आरोप

कराची: पाकिस्तान क्रिकेट टीम के खिलाड़ी उमर अकमल ने दावा किया कि टीम के मुख्य कोच मिकी आर्थर ने...

अंडर-19 वर्ल्डकप शेड्यूल का ऐलान, टीम इंडिया की पहली भिड़ंत ऑस्ट्रेलिया से
अंडर-19 वर्ल्डकप शेड्यूल का ऐलान, टीम इंडिया की पहली भिड़ंत ऑस्ट्रेलिया से

Photo: Twitter दुबई: अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने गुरुवार को अंडर-19 विश्व कप क्रिकेट...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017