ऑस्ट्रेलिया सीरीज ने क्यों उड़ाई धोनी की नींद?

By: | Last Updated: Saturday, 10 January 2015 7:37 AM
world cup 2015

फ़ाइल फ़ोटो: तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी

साल 2003. विश्वकप का फाइनल मैच. मौजूदा कप्तान महेंद्र सिंह धोनी तब टीम का हिस्सा भी नहीं थे. सौरव गांगुली की कप्तानी में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के सामने थी. भारतीय बल्लेबाजी ने विश्वकप में कई मैच जिताए थे. आशीष नेहरा, श्रीनाथ और जहीर खान की गेंदबाजी के चलते भारत ने मैच जीते भी थे. फाइनल मैच में गेंदबाजी नहीं चली और ऑस्ट्रेलिया ने 359 रन का पहाड़ खड़ा करके भारत के बल्लेबाजों के दबाव में ला दिया.

 

खराब गेंदबाजी से चिंता

भारत एक बार फिर विश्वकप खेलने के लिए तैयार है लेकिन विश्वकप के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को भारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज के बाद विश्वकप को लेकर अपने बॉलिंग अटैक की चिंता जरूर सता रही होगी. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सारे गेंदबाज फ्लॉप रहे हैं. अब सवाल ये है कि ऑस्ट्रेलिया-न्यूजीलैंड की तेज पिचों क्या इन गेंदबाजों के सहारे हम विश्वकप जीत सकते हैं. क्या मैचों में फिर से 2003 के फाइनल जैसा हाल नहीं हो जाएगा. इस नकारात्मक सवाल के पीछे गेंदबाजों का नकारात्मक प्रदर्शन है.

 

बेबस नजर आए गेंदबाज

एडिलेड टेस्ट की पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया ने सात विकेट पर 517 रन बनाए. ब्रिस्बेन टेस्ट की पहली पारी में 505 रन बनाए, मेलबर्न टेस्ट की पहली पारी में 530 रन बनाए. सिडनी टेस्ट में सात विकेट पर 572 रन बनाए. हर मैच में पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया ने 500 के ऊपर का स्कोर खड़ा किया और दूसरी पारी अपनी इच्छा से घोषित की. कुल आठ पारियों में से टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया को मजह दो बार ऑलआउट कर पाई.

 

50 रन देकर एक विकेट लिया तो क्या लिया?

 

उमेश यादव ने पूरी सीरीज में तीन टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें 118.3 ओवर डाले हैं. जिसमें उन्हें सिर्फ 11 विकेट मिले हैं. पूरी सीरीज में उन्होंने 548 रन दिए हैं. उमेश यादव के लिए विकेट लेने का औसत रहा 49.81 प्रति ओवर और रन देने का औसत 4.62 रन प्रति ओवर रहा.

 

हम ढ़ेरों रन लुटाने के दोषी हैं: अश्विन 

 

शमी का प्रदर्शन भी औसत

 

भारत के दूसरे स्ट्राइक बॉलर मोहम्मद शमी का हाल भी अलग नहीं है. शमी ने तीन मैच खेले जिसमें 126.3 ओवर डाले 537 रन दिए और 15 विकेट हासिल किए. इकॉनोमी रेट रही 4.24 और विकेट लेने का औसत रहा 35.80.

 

ईशांत और भुवनेश्वर लय में नहीं

 

ईशांत शर्मा ने भी तीन टेस्ट मैच खेले और 125 ओवर डाले जिसमें 9 विकेट लिए और 434 रन दिए, विकेट लेने का औसत रहा 48.22 और इकॉनोमी रेट रहा 3.47. भारतीय विश्वकप टीम का हिस्सा भुवनेश्वर कुमार ने सिर्फ एक मैच खेला जिसमें 42 ओवर डाले और 168 रन दिए जिसमें उन्हें सिर्फ एक विकेट मिला. विकेट लेने का औसत हो गया 168 रन प्रति विकेट. इकॉनोमी रेट रहा 4 रन प्रति ओवर का. भुवनेश्वर की ताकत है कि वे नई गेंद से दोनों तरफ स्विंग करा सकते हैं पर सि़डनी टेस्ट में वे दोनों ही इनिंग में स्विंग कराने में नाकाम रहे.

 

स्विंग कराने में नाकामयाब रहे भारतीय गेंदबाज

 

शॉर्ट गेंदें के चक्कर में रणनीति से भटक गई टीम इंडिया 

भारतीय गेंदबाजों ने बीच-बीच में अच्छी गेंद तो डाली लेकिन पूरी टेस्ट सीरीज पर अपनी छाप छोड़ने में नाकाम रहे. भारतीय गेंदबाजों ने सबसे बड़ी गलती ये की कि स्पीड पर भरोसा किया और लेंथ पर ध्यान नहीं दिया. पूरी सीरीज में भारतीय गेंदबाजों ने छोटी गेंदों और बाउंसर पर ज्यादा यकीन किया जिन्हें ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज आसानी से खेल गए.

 

स्पिनर भी रहे फ्लॉप

 

भारतीय विश्वकप दल का हिस्सा आर अश्विन ने तीन मैच खेले जिनमें 171 ओवर डाले. उन्होंने 12 विकेट निकाले, जिसमें से चार विकेट सिडनी टेस्ट की दूसरी पारी में मिले जब ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज ताबड़तोड़ खेल रहे थे. हर विकेट लेने के लिए अश्विन को खर्च करना पड़े 48.66 रन जबकि हर ओवर में रन देने की रफ्तार रही 3.40.

 

भारत ने कुल दस गेंदबाजों से गेंद डलवाई लेकिन कोई भी अपनी छाप छोड़ने में नाकाम रहा. जिन पांच गेंदबाजों का प्रदर्शन हमने देखा है वो विश्वकप टीम का हिस्सा हैं. सवाल ये है कि क्या खेल का फॉर्मेट बदलने पर गेंदबाजों के ये आंकड़े बदल जाएंगे? क्या टेस्ट के टेस्ट में फेल होने के बाद भारतीय गेंदबाज विश्वकप में शानदार प्रदर्शन कर पाएंगे? 

 

प्रदर्शन सुधारने का मौका

कप्तान धोनी को इन गेंदबाजों से अपने मुताबिक गेंद करवानी होगी और इसका प्रोयग करने के लिए सबसे सही मौका इसी महीने होने वाली त्रिकोणीय श्रृंखला है जिसमें ऑस्ट्रेलिया के साथ इंग्लैंड भी मौजूद होगा. भारत को अपने सारे तीर इस श्रृंखला तक पैने कर लेने होंगे.

 

Connect with Manish sharma

https://www.facebook.com/manishkumars1976

twitter.com/@manishkumars

follow @cricketkatha for regular update on World Cup Facts

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: world cup 2015
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017