विश्व कप में बल्लेबाजों की बादशाहत को गेंदबाजों से मिली चुनौती

By: | Last Updated: Monday, 30 March 2015 3:10 AM
world cup bowling

मेलबर्न: आईसीसी विश्व कप-2015 में पूरे टूर्नामेंट के दौरान बल्लेबाजों का दबदबा रहा, लेकिन ऑस्ट्रेलिया की खिताबी जीत में दो गेंदबाज नायक बनकर उभरे. रविवार को मेलबर्न क्रिकेट मैदान (एमसीजी) पर हुए फाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड को सात विकेट से हराकर पांचवीं बार विश्व कप खिताब पर कब्जा जमाया.

 

ऑस्ट्रेलिया की जीत के नायक तेज गेंदबाज जेम्स फॉल्कनर रहे. फॉल्कनर को उनके उम्दा प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया. वहीं टूर्नामेंट में आठ मैच खेलकर 22 विकेट चटकाने वाले ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क को प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट अवार्ड प्रदान किया गया.

 

फाइनल मुकाबले में मैन ऑफ द मैच रहे फॉल्कनर ने न्यूजीलैंड के तीन अहम बल्लेबाजों रॉस टेलर, कोरी एंडरसन और ग्रांट इलियट के विकेट चटका मैच का पासा पलट दिया और न्यूजीलैंड टीम 45 ओवरों में 183 रनों पर सिमट गई. प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट रहे स्टार्क ने दूसरी ओर पूरे टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया की जीत में अहम भूमिका निभाई और 10.2 के औसत से और 3.5 की इकॉनमी रेट से बेहद किफायती गेंदबाजी की.

 

वास्तव में गेंदबाजों को मिले प्रमुख अवार्ड से इस विश्व कप के बारे में सही से नहीं जाना जा सकता, जिसमें पहली बार वह भी दो-दो बल्लेबाजों ने दोहरा शतक लगाने का कारनामा किया. पूरे विश्व कप के दौरान दो दोहरे शतक, छह बार 150 से अधिक का स्कोर और कुल 35 शतक लगे. गेंदबाजों की इस विश्व कप में जमकर धुनाई हुई इसे इसी बात से समझा जा सकता है कि प्रति मैच लगभग 10 छक्के लगे.

 

स्टार्क और फॉल्कनर की उम्दा गेंदबाजी के बावजूद क्रिकेट विश्लेषक बल्लेबाजी पर अंकुश लगाने के लिए नियमों में बदलाव की बात कह रहे हैं तथा बल्ले की चौड़ाई भी कम करने की मांग हो रही है. भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने भी पिछले सप्ताह सेमीफाइनल से हारकर बाहर होने के बाद कहा था कि अत्यधिक चौकों-छक्कों से एकदिवसीय क्रिकेट उबाऊ होता जा रहा है.

 

मेहनत का फल मिलते देखना सुखद: स्टार्क

आईसीसी विश्व कप-2015 में अपने शानदार प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुने गए ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने कहा कि कड़ी मेहनत के बाद उससे अच्छा परिणाम हासिल करना एक शानदार अनुभव रहा.

 

 स्टार्क ने विश्व कप में कुल 22 विकेट हासिल किए. न्यूजीलैंड के ट्रेंट बाउल्ट भी टूर्नामेंट में इतने ही विकेट अपने नाम करने में कामयाब रहे, हालांकि बाउल्ट ने इसके लिए स्टार्क से एक मैच अधिक लिया.

 

स्टार्क ने मैच के बाद कहा, “मैंने ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजी कोच क्रेग मैक्डरमोट के साथ कड़ी मेहनत की. कुछ श्रृंखलाओं से हम लगातार मेहनत कर रहे थे और अब इसका फल मिलना सुखद है.” मेलबर्न क्रिकेट मैदान (एमसीजी) पर ऑस्ट्रेलिया ने सात विकेट से न्यूजीलैंड को हराकर पांचवीं बार विश्व कप अपने नाम किया. स्टार्क ने फाइनल मैच में आठ ओवर गेंदबाजी की और 20 रन देकर दो विकेट हासिल किए.

 

कीवी कप्तान ब्रेंडन मैक्लम और ल्यूक रोंची का विकेट हासिल करने वाले स्टार्क ने कहा, “हम थोड़े भाग्यशाली भी रहे. हमारी योजना मैक्लम को जल्दी आउट करने की थी. वह शानदार फॉर्म में चल रहे थे. उनका जल्दी विकेट लेना हमारे लिए महत्वपूर्ण रहा.” स्टार्क ने ऑस्ट्रेलियाई प्रशंसकों को भी समर्थन के लिए धन्यवाद दिया.

 

यह भी पढ़ें

न्यूजीलैंड अपना खेलने का तरीका नहीं बदलेगा: ब्रेंडन मैक्लम 

सपना सच हो गया , विश्व बैडमिंटन में भारत के बढते रूतबे पर बोले गोपीचंद  

युवराज की रिक्वेस्ट, विराट और अनुष्का की पर्सनल जिंदगी पर नहीं करें कमेंट  

मैकुलम को शुरूआत में ही यार्कर डालने की रणनीति थी: स्टार्क 

अगले कुछ दिनों में संन्यास को लेकर कुछ घोषणाएं होंगी: मैकुलम

धोनी के बाद क्लार्क ने की वनडे नियमों में बदलाव की मांग  

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: world cup bowling
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017