Year Ender 2017: विराट ने संभाली बागडोर, देश ने देखा स्वर्णिम काल

Year Ender 2017: विराट ने संभाली बागडोर, देश ने देखा स्वर्णिम काल

भारतीय क्रिकेट के लिए साल 2017 एक ऐसा साल रहा है जहां उसने वो मुकाम हासिल किया जिसे पाने का सपना हर टीम देखती है. साल का अंत होने तक टीम ने विश्व क्रिकेट में अपनी बादशाहत को और मजबूत कर लिया.

By: | Updated: 27 Dec 2017 08:00 PM

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट के लिए साल 2017 एक ऐसा साल रहा है जहां उसने वो मुकाम हासिल किया जिसे पाने का सपना हर टीम देखती है. साल का अंत होने तक टीम ने विश्व क्रिकेट में अपनी बादशाहत को और मजबूत कर लिया.

हालांकि, भारत ने अधिकतर क्रिकेट अपने घर में खेली, लेकिन जो हासिल किया वो घर में स्वर्णिम काल से कम नहीं है. एक भी बाइलैटरल सीरीज में हार नहीं मिली, टेस्ट में कोई भारत को मात नहीं दे पाया, टी-20 में टीम ने अपने वर्चस्व को और मजबूत किया, जो टीम सामने आई उसे हार मिली.

साल की शुरुआत वैसी नहीं रही थी, जैसा अंत रहा. मैदान से बाहर भारत ने काफी कुछ देखा. दो जनवरी को ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की बागडोर सर्वोच्च अदालत ने अनुराग ठाकुर के हाथों से छीन ली. ठाकुर के साथ अजय शिर्के भी सचिव पद से हटा दिए गए. लोढ़ा समिति की सिफारिशों पर अमल में चूक के चलते बीसीसीआई को काफी कुछ झेलना पड़ा.

इस बीच मैदान के अंदर भी काफी कुछ हुआ. देश को दो विश्व कप दिलाने वाले कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने वनडे और टी-20 की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया. देश ने जिस शख्स को सिर्फ और सिर्फ कप्तान के रूप में देखा वो स्वेच्छा से अपना पद एक युवा और धाकड़ बल्लेबाज विराट कोहली को देने को तैयार हो गया.

टेस्ट कप्तान कोहली ने इस बागडोर को सीमित ओवरों में बखूबी संभाला और पहली सीरीज में इंग्लैंड को मात दी. इंग्लैंड को वनडे और टी-20 में शिकस्त देने के बाद भारत ने टेस्ट में अपने विजय क्रम को बांग्लादेश के खिलाफ खेले गए एकमात्र टेस्ट में भी जारी रखा.

 

ऑस्ट्रेलिया के रूप में उसके लिए ऐसी चुनौती खड़ी थी जो बेहद मुश्किल थी. ऑस्ट्रेलिया ने पुणे में खेले गए पहले मैच को जीतकर बता दिया कि भारत उसे किसी भी कीमत में हल्के में नहीं ले सकता. एक मुश्किल पिच पर रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा के सामने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ शतकीय पारी खेल मैच अपने नाम कर ले गए.

लेकिन, भारत ने यहां हार नहीं मानी और फिर शानदार वापसी करते हुए चार टेस्ट मैचों की सीरीज पर 2-1 से कब्जा जमाया.

बेहतरीन फॉर्म के साथ भारतीय टीम इंग्लैंड की जमीन पर चैम्पियंस ट्रॉफी खेलने पहुंची. भारत इस टूर्नामेंट का प्रबल दावेदार माना जा रहा था. उम्मीद के मुताबिक उसने प्रदर्शन भी किया और फाइनल में जगह बनाई, लेकिन फिर वो हुआ जो किसी ने नहीं सोचा था. फाइनल भारत और पाकिस्तान जैसे दो चिर-परिचित प्रतिद्वंद्वियों के बीच था. पाकिस्तान ने इस मैच में भारत को एकतरफा मात दी और पहली बार आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में भारत को हराया और पहली बार चैम्पियंस ट्रॉफी पर कब्जा जमाया.

मैदान पर टीम की हार से मायूस प्रशंसकों को इसी दौरान एक और झटका लगा. टीम के मुख्य कोच अनिल कुंबले और कप्तान विराट कोहली के बीच मनमुटाव की खबरों ने बाजार गर्म किया. इस विवाद पर कुंबले ने अपना इस्तीफा देकर मुहर लगाई जिसमें उन्होंने कोहली के साथ मनमुटाव की बातों को सरेआम कबूला.

इंग्लैंड से टीम बिना मुख्य कोच के वेस्टइंडीज पहुंची. जहां वनडे सीरीज में उसने मेजबानों को 3-1 से हराया, लेकिन इकलौते टी-20 में हार गई.

घर लौटते ही कोच का मुद्दा फिर गरमाया और टीम के डायरेक्टर रहे रवि शास्त्री ने मुख्य कोच पद के लिए आवेदन दाखिल किया. पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग भी इस रेस में शामिल हुए, लेकिन कोहली के पसंदीदा शास्त्री को कोच पद का कार्यभार मिला. विवाद सिर्फ यहीं खत्म नहीं हुआ. कोच चुनने वाली सीएसी ने जहीर खान और राहुल द्रविड़ को टीम के गेंदबाजी और बल्लेबाजी सलाहकार के तौर पर चुना. लेकिन मुख्य कोच शास्त्री, भरत अरुण को गेंदबाजी कोच के रूप में चाहते थे, अंतत: उन्हीं की सुनी गई और अरुण ड्रेसिंग रूम पहुंच गए.

 

शास्त्री का कोच के तौर पर पहला दौरा श्रीलंका का था। भारत ने श्रीलंका को उसी के घर में तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-0 से मात दी। इसके बाद वनडे सीरीज में भी भारत ने श्रीलंका को 5-0 और एक मात्र टी-20 में भी मात दी।

श्रीलंका से लौटने के बाद भारत ने एक बार फिर ऑस्ट्रेलिया की मेजबानी की और उसे सीमित ओवरों में करारी शिकस्त दी. वनडे सीरीज पर भारत ने 4-1 से कब्जा जमाया. इस वनडे सीरीज में कोलकाता में खेल गए मैच में कुलदीप यादव ने हैट्रिक ली. वह वनडे में भारत के लिए हैट्रिक लगाने वाले तीसरे गेंदबाज बने. उनसे पहले, चेतन शर्मा और कपिल देव ने वनडे में भारत के लिए हैट्रिक ली थी. भारत ने वनडे के बाद ऑस्ट्रेलिया को टी-20 में भी मात दी.

ऑस्ट्रेलिया की मेजबानी के बाद भारत ने तीन टी-20 और तीन वनडे मैचों की सीरीज के लिए न्यूजीलैंड की मेजबानी की और खेल के दोनों फॉर्मेट में उसे शिकस्त दी. इस टी-20 सीरीज के दिल्ली में खेले गए पहले मैच में तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने अतंर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया.

तकरीबन तीन महीने बाद भारत और श्रीलंका के बीच फिर तीनों फॉर्मेट में सीरीज खेली गई, लेकिन इस बार मेजबान भारत था. भारत ने अपने घर में श्रीलंका को तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 1-0 से धूल चटाई. भारत की यह लगातार नौवीं टेस्ट सीरीज जीत थी और इसी के साथ उसने ऑस्ट्रेलिया के लगातार सबसे ज्यादा टेस्ट सीरीज जीतने के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली.

भारत का विजय क्रम यहीं नहीं रुका. उसने श्रीलंका को वनडे सीरीज में 2-1 और टी-20 में 3-0 से मात देते हुए साल का अंत द्विपक्षीय सीरीज में अपारिजत रहते हुए किया.

भारत ने साल का अंत टेस्ट में पहले स्थान, टी-20 और वनडे में दूसरे स्थान के साथ किया.

 

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में भारत ने इस साल जो प्रदर्शन किया और अपनी बादशाहत का लोहा मनवाया उसे देखते हुए भारत से अगले साल भी इसी प्रदर्शन की उम्मीद होगी. हालांकि, अगले साल उसे अधिकतर क्रिकेट घर से बाहर खेलनी है, जो इस युवा और संतुलित मानी जाने वाली टीम की अब तक की सबसे बड़ी चुनौती होगी.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Year Ender 2017: विराट ने संभाली बागडोर, देश ने देखा स्वर्णिम काल
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story बदलाव के ‘शौकीन’ हैं कोहली, कई खिलाड़ियों पर गिरी है गाज