विश्वकप में युवराज को नहीं खिलाने का मुद्दा गरमाया!

By: | Last Updated: Thursday, 26 March 2015 12:56 PM
yuvi missed

नई दिल्ली: सिडनी में खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के हाथों भारत को मिली बड़ी हार के साथ ही भारत के उस चमकते सितारे की कमी एक बार फिर बहस का मौजू बन गई, जिसकी कमी को लेकर इस पूरे विश्वकप के दौरान चर्चा होती रही.

 

जी हां! बात हो रही है साल 2011 विश्वकप के हीरो युवराज सिंह की… जैसे ही टीम इंडिया को हार मिली. क्रिकेट प्रेमी युवराज की कमी को बड़ा मुद्दा बनाने लगे. हार के साथ ही युवी ट्विटर पर ट्रेंड करने लगे.

 

ट्विटर पर अनेक क्रिकेट प्रेमियों ने आज के मैच में युवी के नहीं होने का दुख जताया और माना कि युवी को नहीं खिलाना एक बड़ी भूल थी.

 

हालांकि, कुछ लोगों का ये भी तर्क था कि बीते सात मैचों में भारत की जीत के लिए टीम की सराहना होनी चाहिए और युवी को नहीं खिलाने के लिए बीसीसीआई को जिम्मेदार ठहराया सही नहीं है.

 

आपको बता दें कि जब चयनकर्यता विश्वकप के लिए टीम का चयन कर रहे थे तो 30 संभावित खिलाड़ियों में युवराज सिंह का नाम नहीं आया तो इसे लेकर उनकी जमकर आलोचना हुई. जब चयनकर्यता आखिरी 15 खिलाड़ियों का चयन कर रहे थे तो ये चर्चा जोरों थी कि हो सकता है कि युवी को विश्व कप के लिए अब मौका मिल सकता है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. एक वक़्त में युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह ने भी बेटे के नहीं चुने जाने के लिए कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी को जिम्मेजार ठहराया था.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: yuvi missed
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017