छूआछूत के खिलाफ लड़ाई को सत्यमेव जयते का मंच

छूआछूत के खिलाफ लड़ाई को सत्यमेव जयते का मंच

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

<p style="text-align: justify;">
<b>खगड़िया:</b>
छूआछूत के खिलाफ संजीव की
लड़ाई को सत्यमेव जयते ने मंच
दिया. शो के आखिरी एपिसोड में
बिहार में खगड़िया के
परबत्ता की कहानी दिखाई गई
जहां संजीव के हौसले की वजह
से इलाके में छूआछूत का कैंसर
दूर हो गया. <br /><br />बच्चों की
पढ़ाई से लेकर समाज में
महिलाओं की भागीदारी तक. हर
मोर्चे पर संजीव ने आगे बढ़कर
इनकी जिंदगी में खुशियां
लेकर आए. ये सत्यमेव जयते का
ही असर है कि संजीव इलाके के
रसूखदारों से भी नहीं डर रहे.
<br /><br />अब संजीव के हौसले को
उड़ान मिली है और खौफ के लिए
आसमान में जगह नहीं होती.
</p>
<p style="text-align: justify;">
पेशे से सूप बनाने और सुअर
रखने वाले समुदाय की आबादी
यहां ज्यादा है लेकिन फिर भी
बरसों से दबंगों ने इन्हें
अपनी जागीर का हिस्सा माना. <br /><br />अब
संजीव की मेहनत और सत्यमेव
जयते की सराहना से सबका सिर
ऊंचा कर दिया है. इनके बनाए
सूप का इस्तेमाल पूजा पाठ,
शादी ब्याह या दूसरे कर्म
कांड में तो करते थे लेकिन
इन्हें मंदिरों में घुसने पर
सज़ा दी जाती थी. <br /><br />पर संजीव
की मेहनत से अब सब बदलता जा
रहा है. सत्यमेव जयते का शो
देखकर छूताछूत को दूर करने का
मुद्दा घर घर तक फैल गया है और
अब ये चर्चा का विषय बन चुका
है. लोगों की सोच को शो ने
झकझोर कर रख दिया है. <br /><br />
</p>

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story बिग बॉस खत्म होने के बाद भी साथ हैं पुनीश-बंदगी, शेयर की ये तस्वीरें...