त्रेता युग के प्रथम अवतार थे वामन भगवान

By: | Last Updated: Sunday, 8 September 2013 9:09 AM
त्रेता युग के प्रथम अवतार थे वामन भगवान

<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<b>नई
दिल्ली:</b> विभिन्न युगों में
विष्णु के जिन 10 अवतारों का
वर्णन किया गया है, उनमें
वामन अवतार पांचवें और
त्रेता युग के पहले अवतार थे.
साथ ही बौने ब्राह्मण के रूप
में यह विष्णु के पहले मानव
रूपी अवतार भी थे. दक्षिण
भारत में इस अवतार को उपेंद्र
के नाम से भी जाना जाता है.
वामन, ऋषि कश्यप तथा उनकी
पत्नी अदिति के पुत्र थे. वह
आदित्यों में बारहवें थे.
मान्यता है कि वह इंद्र के
छोटे भाई थे.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
भागवत कथा के अनुसार, असुर
राज बली अत्यंत दानवीर थे.
दानशीलता के कारण बली की
कीर्ति पताका के साथ-साथ
प्रभाव इतना विस्तृत हो गया
कि उन्होंने देवलोक पर
अधिकार कर लिया. देवलोक पर
अधिकार करने के कारण इंद्र की
सत्ता जाती रही.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
विष्णु ने देवलोक में इंद्र
का अधिकार पुन: स्थापित करने
के लिए यह अवतार लिया. बली,
विरोचन के पुत्र तथा प्रहलाद
के पौत्र थे. यह भी कहा जाता है
कि अपनी तपस्या तथा शक्ति के
माध्यम से बली ने तीनों लोकों
पर आधिपत्य हासिल कर लिया था.
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
विष्णु वामन रूप में एक बौने
ब्राह्मण का वेष धारण कर बली
के पास गए और उनसे अपने रहने
के लिए तीन कदम के बराबर भूमि
दान में मांगी. उनके हाथ में
एक लकड़ी का छाता था. असुर
गुरु शुक्राचार्य के चेताने
के बावजूद बली ने वामन को वचन
दे डाला.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
वामन ने अपना आकार इतना बढ़ा
लिया कि पहले ही कदम में पूरा
भूलोक (पृथ्वी) नाप लिया.
दूसरे कदम में देवलोक नाप
लिया. इसके पश्चात ब्रह्मा ने
अपने कमंडल के जल से भगवान
वामन के पांव धोए. इसी जल से
गंगा उत्पन्न हुईं. तीसरे कदम
के लिए कोई भूमि बची ही नहीं.
वचन के पक्के बली ने तब वामन
को तीसरा कदम रखने के लिए
अपना सिर प्रस्तुत कर दिया.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
वामन बली की वचनबद्धता से अति
प्रसन्न हुए. चूंकि बली के
दादा प्रह्लाद, विष्णु के परम
भक्त थे इसलिए वामन (विष्णु)
ने बली को पाताल लोक देने का
निश्चय किया और अपना तीसरा
कदम बली के सिर पर रखा जिसके
फलस्वरूप बली पाताल लोक में
पहुंच गए.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
एक और कथा के अनुसार, वामन ने
बली के सिर पर अपना पैर रखकर
उनको अमरत्व प्रदान कर दिया.
विष्णु अपने विराट रूप में
प्रकट हुए और राजा को महाबली
की उपाधि प्रदान की, क्योंकि
बली ने अपनी धर्मपरायणता तथा
वचनबद्धता के कारण अपने आप को
महात्मा साबित कर दिया था.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
विष्णु ने महाबली को
आध्यात्मिक आकाश जाने की
अनुमति दे दी जहां उनका अपने
सद्गुणी दादा प्रहलाद तथा
अन्य दैवीय आत्माओं से मिलना
हुआ.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
वामनावतार के रूप में विष्णु
ने बली को यह पाठ दिया कि दंभ
तथा अहंकार से जीवन में कुछ
हासिल नहीं होता है और यह भी
कि धन-संपदा क्षणभंगुर होती
है. ऐसा माना जाता है कि
विष्णु के दिए वरदान के कारण
प्रति वर्ष बली धरती पर
अवतरित होते हैं और यह
सुनिश्चित करते हैं कि उनकी
प्रजा खुशहाल है.<br />
</p>

Television News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: त्रेता युग के प्रथम अवतार थे वामन भगवान
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017