सत्यमेव जयते के बाद पता चला कि जानने के लिए बहुत कुछ है: सत्यजीत भटकल

By: | Last Updated: Saturday, 4 October 2014 7:49 AM
After Satyamev Jayate I realise we have may things to know and to do: Satyajit Bhatkal

नई दिल्ली: इस रविवार से सत्मेव जयते का तीसरा सीजन शुरू हो रहा है. इस सीजन में आमिर खान कुल 6 एपिसोड लेकर आ रहे हैं जिसमें वे छेड़खानी, रिश्वत, ड्रिंक एंड ड्राइव और बच्चों की  पिटाई जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को उठाएंगे.

 

सत्यमेव जयते के डायरेक्टर सत्यजीत भटकल का कहना है कि इस शो को करने के बाद उन्हें पता चला कि अगर इंसान करना चाहे तो उसके पास करने के लिए बहुत कुछ है. सत्यजीत भटकल का कहना है, “हमारे पास करने और जानने के लिए इतना कुछ है ये शो करने बाद उन्हें इसका एहसास हुआ.”

 

शो को बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान होस्ट करते हैं. हमारे मन में भी यह सवाल उठता है कि इतने बड़े सुपरस्टार के पास इतना समय कहां होता है कि वह एक टीवी शो के लिए काम कर सके. इस बार में सत्यजीत भटकल बताते हैं, “अभी तक आमिर ने कभी नहीं कहा कि मैं इसलिए नहीं कर पाउँगा क्योंकि मेरे पास वक्त नहीं है. चाहें 12 बजे की मीटिंग हो, चाहें पूरी रात काम करना पड़े, चाहें दिनों, हफ्तों, महिनों तक रिसर्च करनी पड़े, चाहें अपनी फिल्म के डेट्स चेंज करना पड़े, आमिर करते हैं. उनकी इस डेडिकेशन के बगैर यह शो हम लोग नहीं बना सकते थे.”

 

यह भी पढ़ें- सत्यमेव जयते: इस सीजन में आपके लिए क्या खास ला रहे हैं आमिर खान

 

इतना ही नहीं सत्यजीत भटकल बताते हैं कि आमिर खान यह शो एक सुपरस्टार की तरह नहीं बल्कि एक जिम्मेदारन नागरिक की तरह करते हैं. इस शो में आमिर यह एक अलग रूप देखने को मिला. आमिर खान के बारे में सत्यजीत का कहना है, “सत्यमेव जयते की वजह से सिटीजन आमिर खान हमारे सामने आए. वे अपने आप को अभिनेता कम जागरूक नागरिक की तरह देख रहे हैं.”

आपको बता दें कि इस सीजन में आप शो के तुरंत बाद आमिर खान से लाइव बात कर पाएंगे. कई बार ऐसा होता है कि शो देखने के बाद आपको मन में कई सवाल होते हैं जिन्हें आप या तो पूछना चाहते हैं या फिर अपना कोई अनुभव बांटना चाहते हैं. तो इस सीजन में आपको ये मौका  मिलेगा. शो खत्म होने के तुरंत बाद मुमकिन है शुरू होगा जिसमें आप आमिर खान से लाइव बात कर सकते हैं.

 

आपको बता दें कि पिछले दो सीजन में आमिर समाज के कन्या भ्रूण हत्या, दहेज, बाल यौन शोषण, दहेज, खाप पंचायत, किसानों की आत्महत्या, लड़कियों की शिक्षा और देश में युवाओं के महत्व जैसे मुद्दों  को उठा चुके हैं.