देश विभाजन की त्रासदी के बीच जन्मी प्रेम कहानी है ‘लाजवंती’

By: | Last Updated: Sunday, 4 October 2015 2:32 PM
lajwanti_tv_serial

नई दिल्ली: हाल ही में जी टीवी ने सोमवार से शुक्रवार रात साढ़े 10 बजे का समय एक नए सीरियल ‘लाजवंती’ को दे दिया है. यह सीरियल जहाँ एक ओर 1947 के देश विभाजन के दौर की त्रासदी दिखायेगा तो दूसरी ओर उसी दौरान की एक प्रेम कहानी भी दिखायेगा.यह कहानी है सुंदर लाल और लाजवंती की.जिनका प्रेम अभी उड़ान लेकर नए नए सपने बुन ही रहा था कि तभी देश का बंटवारा हो जाता है. एक देश के दो हिस्से होने से अनेक घर बर्बाद हो जाते हैं,अनेक जिंदगियों को अपनी कुर्बानी  देनी पड़ती है इसी के साथ इस विभाजन का काला साया लाजवंती और सुन्दरलाल की प्रेम कहानी पर भी पड़ता है.

 

‘लाजवंती’ सीरियल की एक बड़ी बात यह है कि इसकी कहानी बरसों पहले बहुमुखी प्रतिभा के धनी  राजेन्द्र सिंह बेदी ने लिखी थी. वह कहानी थी तो ‘लाजवंती’ के नाम से लेकिन थी वह एक छोटी कहानी.जिसे अब बेदी की ही तीसरी पीढ़ी ने एक बड़े सीरियल के रूप में उतारा है.

 

यूँ नयी पीढ़ी के बहुत से लोग राजेन्द्र सिंह बेदी के नाम से अंजान होंगे.लेकिन सन 1950 से 1980 के तीस बरस तो ऐसे थे जब बेदी का नाम अच्छी और सफल फिल्मों की बड़ी पहचान के रूप में देखा जाता था.उन्होंने कहानियां लिखी,संवाद और पटकथाएं लिखी साथ ही कुछ यादगार फिल्मों का निर्देशन भी किया.बिमल रॉय और हृषिकेश मुखर्जी की तो कई फिल्मों की पटकथाएं बेदी ही लिखते रहे. पटकथा लेखक के रूप में उनकी देवदास,मधुमती और अभिमान जैसी फ़िल्में भुलाये नहीं भूलतीं.ऐसे ही बतौर निर्देशक उनकी दस्तक फिल्म तो भारतीय सिनेमा के मील के पत्थर के रूप में जानी जाती है.

 

‘लाजवंती’ सीरियल से एक बार फिर राजेन्द्र सिंह बेदी जैसे लेखक का काम हम लोगों को देखने को मिल सकेगा.सीरियल की कहानी में दिखाया है कि सुंदरलाल सन 40 के दौर जैसा ही एक परंपरागत रौबदार मर्द है और लाजवंती अपने पति धर्म को निभाने वाली उसकी प्यारी सी पत्नी. असल में लाजवंती गाँव की एक साहसी लड़की है,जिसमें उत्साह,उमंग और आशा का अद्दभुत संगम है.उसे इस बात पर भी पूरा भरोसा है कि चाहे कितना भी मुश्किल समय क्यों न आये,उसका प्यार सदा उसके साथ मजबूती से खड़ा रहेगा.उधर सुंदर लाल लाहौर शहर के बादामी बाग के अमीर परिवार से है,इंग्लिश मीडियम से पढ़े सुंदर के पास वह सारी सुख सुविधाएँ हैं जिनके करीब पहुंचना निम्न या मध्यम वर्ग के बस की बात नहीं. लाजवंती को शहर के युवक पसंद नहीं,वह सोचती है शहर के युवक से शादी नहीं करेगी. परन्तु सुन्दरलाल से मिलने के बाद वह अपनी मान्यताएं बदल उसके प्रेम में दीवानी हो जाती है. लेकिन कोई भी प्रेम कहानी,ख़ास तौर से सीरियल और फिल्मों की प्रेम कहानियां इतनी आसां नहीं होती.तो भला यह कैसे हो सकती है.इसमें भी कई मोड़ आते हैं,कई ट्विस्ट हैं.जिसमें देश विभाजन भी अहम् भूमिका निभायेगा क्योंकि देश विभाजन तो सीरियल के केंद्र में है.

 

सीरियल में लाजवंती का रोल एक नयी अभिनेत्री अंकिता शर्मा कर रही है और सुंदर के रोल में सिड मककड़ है.वैसे सीरियल में कुल 25 मुख्य कलाकार हैं.जिनमें एक किशोरीलाल की भूमिका राजेन्द्र सिंह बेदी के पौत्र मानिक बेदी को भी मिली है. जबकि मानिक की बहन ईला बेदी और भाई रजत बेदी इस सीरियल के निर्माता हैं.

 

जी टीवी के बिजनेस हेड प्रदीप हेडमाडी बताते हैं –“यह राजेन्द्र सिंह बेदी का जन्म शताब्दी वर्ष है ऐसे में उनकी कहानी पर बने इस सीरियल को पेश करके काफी ख़ुशी महसूस हो रही है.इस कहानी का मूल सन्देश बहुत ही ‘पावरफुल’ है हम चाहते हैं कि वह हमारे माध्यम से लोगों तक पहुंचे. फिर विभाजन का दौर हमारे देश के लिए बहुत चुनौती भरा समय रहा.उसी दौरान कई अलग अलग किस्म मानवीय कहानियां सामने आयीं. उनमें से कुछ पुस्तकों के पन्नों तक भी पहुँचीं,लाजवंती की कहानी भी कुछ ऐसी है जिसमें प्रेम है त्रासदी है,दर्द है,प्रेरणा है,वेदना है”.

 

अंकिता शर्मा भी अपने इस सीरियल से बहुत उत्साहित हैं.अंकिता बताती हैं-यह मेरा पहला टीवी सीरियल है और मुझे ख़ुशी है कि अभिनय की दुनिया में कदम रखते ही मुझे लीड रोल मिल गया. कश्मीर में इसकी शूटिंग के दौरान ही मुझे अहसास हो गया था कि यह सीरियल बाकी सीरियल से काफी हटकर है.मुझे उम्मीद है कि दर्शक मेरे काम को और इस सीरियल को पसंद करेंगे.

Television News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: lajwanti_tv_serial
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: lajwanti tv serial
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017