'मनहूस' बताकर लगातार 12 फिल्मों से निकाली गई थीं विद्या बालन

By: | Last Updated: Tuesday, 12 August 2014 9:10 AM
Vidya Balan shares her stories on the Anupam Kher show Kuchh bhi ho sakta hai

नई दिल्ली: बॉलीवुड अभिनेत्री विद्या बालन जब अनुपम खेर शो पर पहुंची तो उन्होंने अपनी जिंदगी और अपने फिल्मी सफर के बारे में कई ऐसी बातें बताई जिन्हें जानकर आपको भी लगेगा कि सफलता इतनी आसान नहीं होती और जब तक सही समय नहीं आता कुछ भी नहीं मिलता.

 

आज विद्या बालन को एक बेहतरीन अदाकारा के रूप में जाना जाता है लेकिन जब उन्होंने अपने करियर की शुरूआत की तो उन्हें ऐसी कई परिस्थितियों का सामना करना पड़ा जब वो पूरी तरह टूटने लगी थीं. यह जानकर थोड़ा आश्चर्य भी होगा कि विद्या बालन को लगातार 12 फिल्मों से निकाल दिया गया था. आज भले ही उनके अभिनय की इतनी तारीफे हो रही है लेकिन कभी ऐसा भी वक्त था कि कोई उन्हें अपनी फिल्म में लेने के लिए तैयार नहीं था.

 

द अनुपम खेर शो ‘कुछ भी हो सकता है’ में बात करते हुए विद्या बालन बताया, “मैं एक्ट्रेस बनना चाहती थी, एक टीवी शो किया था चला ही नहीं. वो शुरू होने से पहले ही बंद हो गया. फिर एकता अपना डेसी शोप बन रहा था. तो मैं वहां गई. एकता ने ऑडिशन के बाद कॉल किया कि क्या आप हम पांच में काम करना पसंद करेंगी. और ये धारावाहिक बहुत चल रहा था उस समय. तो मैंने एक डेढ़ साल तक मैंने इसमें काम किया.”

 

चुंकि उस समय विद्या बालन ग्रेजुएशन कर रही थी और सीरियल की वजह से उन्हें कॉलेज में अटेंडेंस प्रॉब्लम हो रही थी. इस वजह से उन्होंने यह सीरियल छोड़ दिया. लेकिन उन्हें एक्टिंग का नशा हो गया था तो वह इसे कैसे छोड़ सकती थीं.

 

विद्या ने यह भी बताया कि उनकी मॉं को यह पसंद नहीं था कि वह एक्टिंग करें. ‘हम पांच’ छोड़ने के बाद उनके पास एक एड फिल्म का ऑफर आया जिसमें उन्हें सात-आठ साल के बच्चे की मां का रोल करना था. विद्या की मां को लगा कि यह करने के बाद उसका एक्टिंग का भूत वैसे ही निकल जाएगा. लेकिन इस एड फिल्म के बाद करीब एक के बाद एक विद्या ने 90 एड किए.

 

जब 12 फिल्मों से निकाली गईं विद्या बालन-

उसके बाद विद्या एड फिल्म के लिए साउथ गई थीं वहां उन्हें मलयालम फिल्म के लिए ऑफर मिला. यह फिल्म मोहनलाल के साथ थी जो विद्या को बहुत पसंद थे. फिल्म मिल गई लेकिन फिल्म के डायरेक्टर और मोहनलाल के बीच कुछ प्रॉब्लम हो गई और शूटिंग बंद हो गई. उसके बाद विद्या को 12 फिल्में मिलीं. इसके पहले मोहन लाल और डायरेक्टर कमल के बीच इससे पहले आठ फिल्में एक साथ बनाई थीं और सारी सुपरहिट्स थीं. इस बार विद्या बालन फिल्म के लिए नई थीं तो उन्हें लगा कि विद्या पनौती हैं इस वजह से ऐसा हुआ. यही कारण था कि विद्या को 12 फिल्मों से निकाल दिया गया. इस दौरान विद्या के पास कोई काम नहीं था.

 

मनहूस बुलाया गया-

12 फिल्मों से निकाले जाने के बाद विद्या अपना आत्म विश्वास भी खोने लगी थीं. विद्या ने बतया, “मैं धीरे-धीरे टूटने लगी. मुझे मनहूस बुलाया गया है मतलब ये बहुत बड़ी चीज है. एक दो तीन फिल्मों से नहीं, 12 फिल्मों से मैं निकाली गई. फिर मुझे लगा कि ये होने वाला नहीं है.”

 

इसी बीच जब विद्या ने एक्टिंग सीखनी चाही तो उनके साथ कुछ ऐसा हुआ जिस पर उन्हें यकीन ही नहीं हुआ. वह एक्टिंग सीखने थियेटर के दिग्गज सत्यदेव दूबे के पास गईं तो उन्होंने कहा, “मैं किसी को भी सिखा सकता हूं लेकिन मैं तुम्हारी कुंडली देखना चाहता हूं. बहुत सारे लोगों को मैं एक्टिंग सिखा चुका हूं लेकिन वे कहीं भी नहीं पहुंचे. अब मैं इस स्टैंड पर पहुंच चुका हूं कि अगर तुम्हारा फ्यूचर नहीं है तो मैं उसमें समय नहीं बर्बाद कर सकता.” यह सुनकर विद्या मैं शॉक्ड हो गईं.

 

विद्या बताती हैं कि वह आशावादी हैं. उसके बाद प्रदीप सरकार ने विद्या को परिणिता के लिए चुना. इस फिल्म के लिए विद्या का कोई स्क्रीन टेस्ट नहीं हुआ. यह फिल्म बहुत कामयाब हुई थी. इसके बाद विद्या को यकीन हुआ कि वे मनहूस नहीं है.

 

 जब विद्या ने कहा, मैं तो स्लीवलेस तक नहीं पहनती

 

जब बात ‘द डर्टी पिक्चर’ की आई तो विद्या ने बताया कि मिलन लूथरिया उनके पास यह फिल्म लेकर आए तो विद्या को लगा कि वह पागल हैं. विद्या ने बताया, “मैं तो स्लीवलेस तक नहीं पहनती और फिल्म में इतना स्कीन शो था.” हालांकि विद्या ने कहा कि लोगों ने तो कहा इसमें सिल्क स्मिता की स्टोरी है लेकिन मैंने इसे करने से पहले कभी उनकी एक्टिंग नहीं देखी. आपको बता दें कि इस फिल्म में विद्या बालन ने काफी बोल्ड किरदार निभाया था. इस फिल्म के लिए विद्या बालन को बेस्ट एक्ट्रेस के लिए नेशनल फिल्म अवार्ड और फिल्मफेयर अवार्ड से भी नवाजा गया था.

 

कास्टिंग काउच पर क्या सोचती हैं विद्या-

कास्टिंग काउच पर विद्या ने कहा, “आप जिस तरह चाहते हैं लोग आपकी उसी तरह से ट्रीट करते हैं. मैंने हमेशा अपने लिए एक बाउंड्री बनाए रखी थी. मुझे गर्व है कि इन सालों में किसी ने मुझे एक कॉफी के लिए भी फूहड़ तरीके से नहीं पूछा.”

 

 

फिल्म कहानी के बारे में विद्या ने कहा कि उस फिल्म को बनने में टाइम लगा था. उससे पहले सुजॉय घोष की दो फिल्में नहीं चली थीं तो कुछ प्रॉब्लम हुई.

 

क्या आप स्ट्रांग पर्सन का रोल करना पसंद करती हैं? इस सवाल पर विद्या का कहना था कि हां, मुझे कभी समझ नहीं आता जो दो गाने और तीन सीन्स कर लेती हैं…पूरे सम्मान के साथ कह रही हूं. मुझे समझ नहीं आता कि वे लोग खुद को संतुष्ट कर लेती हैं लेकिन मुझे हमेशा कुछ ज्यादा चाहिेए होता है.

 

सिद्धार्थ को  पाकर लकी महसूस करती हैं विद्या-

विद्या ने यहा भी बताया कि उन्हें अपनों को खोने से बहुत ज्यादा डर लगता है. अपने पति सिद्धार्थ रॉय के बारे में बताया कि वह उन्हें पाकर बहुत लकी महसूस करती हैं. विद्या का कहा, “वह बहुत ही आजाद ख्याल के हैं. शादी के बाद बहुत कुछ बदल गया. उन्होंने मुझे जिंदगी को जीना सिखाया है. अपने काम को इन्जॉय करना सिखाया है.”

 

यहां क्लिक करके आप यह एपिसोड देख सकते हैं: