कड़े सवालों से क्यों बचते हैं मोदी ?