'जरूरी है जागरुकता'

'जरूरी है जागरुकता'

Updated: 05 Jun 2012 11:51 AM

एबीपी न्यूज-श्रीराम इंस्टीट्यूट फॉर इंड्रस्ट्रियल रिसर्च ने गंगा के पानी की जांच में पाया है कि करोड़ों करोड़ की योजनाएं, सन्यासियों का अनशन, वैज्ञानिकों की चेतावनी और जनता की कोशिशों के बावजूद गंगा का हाल बेहाल है. कांग्रेस नेता हरीश रावत के मुताबिक, 'औद्योगिक अवशेष और धार्मिक प्रदूषण के चलते गंगा मैली हो रही है. हमें लोगों को इसके प्रति जागरुक करने की जरूरत है.'