बेमिसाल 'अग्नि 5'

बेमिसाल 'अग्नि 5'

Updated: 17 Apr 2012 09:58 PM

अग्नि की लपटों से खाक हो गए हैं आतंक के इरादे, अग्नि की आंख से पिघल गए हैं दहशत के मंसूबे. अग्नि-4 के जलवे से दुशमन चीन भौचक्‍का है. अब हम चीन की दीवार के उस पार निशाना साध रहे हैं. चीन के अंतिम छोर तक छा जाएगा अग्नि-5 के शोलों का जलाव. अब सरहदों की ओर कोई नापाक निगाह नहीं उठेगी क्‍योंकि अब हर हमलावार को मुंहतोड़ जवाब मिलेगा.