स्मृति पर निशाना क्यों ?