अलवर: चश्मदीदों का दावा, गोरक्षा के लिए नहीं लूट के लिए हुई हत्या!