क्या सहयोगियों को लेकर बीजेपी का रुख बदल गया है?