लोकतंत्र की सलामती के लिए हिंदुओं का बहुसख्यक रहना जरूरी: गिरिराज सिंह