In Graphics: दिल्ली में दो साल क्या रहा, प्रदूषण से मेरे आधे बाल उड़ गए: कैलाश विजयवर्गीय