2019 में भी मोदी का जलवा कायम रहेगा?