गुजरात चुनाव: क्या मोदी के धुंआधार प्रचार ने बदला है माहौल ?