व्यक्ति विशेष: केस के चक्रव्यूह में ‘भाई’ की जान!

full information on salman khan cases

बॉलीवुड एक ऐसा चमकता संसार है. जहां रोशनियां और रंगीनियां हैं. तो शोहरत और दौलत भी बेहिसाब है. तरह-तरह के चेहरे हैं यहां खूबसूरत भी और बिंदास भी. लेकिन बॉलीवुड की इस सल्तनत पर पिछले करीब पांच सालों से हुकूमत कर रहा है एक ऐसा सुल्तान. जिसे लोग कहते    हैं सलमान खान. बॉलीवुड के भाईजान यानी सलमान आज बॉक्स ऑफिस पर कामयाबी की सबसे बड़ी पहचान बन चुके है. बॉलीवुड की रंगीन दुनिया में यूं तो खान बहुतेरे हैं लेकिन फिल्मी परदे पर जिस शिद्दत से सलमान का सितारा चमका है उसने बॉलीवुड के दूसरे बडे खान आमिर और शाहरुख की आखों को भी चौंधिया दिया है.

सलमान खान रील लाइफ के बाद अब रीयल लाइफ में भी मुकद्दर का सिकंदर बन चुके हैं. बॉम्बे हाईकोर्ट ने उन्हें हिट एंड रन केस में बाइज्जत बरी कर दिया है. चारों तरफ से कानूनी उलझनों में फंसे सलमान के लिए हाईकोर्ट का ये फैसला बड़ी राहत लेकर आया है लेकिन कोर्ट के इस फैसले पर भी उठे हैं कुछ सवाल.

छह मई 2015 को मुंबई की सेशन कोर्ट ने सलमान खान को 2002 के हिंट एंड रन केस में दोषी करार दिया था. अदालत ने उन्हें पांच साल कैद की सजा भी सुनाई थी लेकिन निचली अदालत के इस फैसले के करीब सात महीने बाद बॉम्बे हाईकोर्ट ने सलमान ख़ान को इस केस में बाइज्जत बरी कर दिया.

जो चॉर्जेज उन पर लगे थे धारा 304 पार्ट टू जो लाइसेंस का चॉर्ज उन पल लगा था रेस ड्राईविंग के जो चार्जेज थे सारे चार्जेज से उन्हें बरी कर दिया यानि पूरी तरह से सलमान खान अब इस मामलें से बरी हो गए हैं. ऐसा लग रहा था कि 304 पार्ट टू से पॉर्ट वन में कंवर्ट करके सजा कम की जा सकती है लेकिन जिस तरह कोर्ट ने आज भी ये कहा कि जजमैंट से पहले कोर्ट ने ये कह दिया था कि सरकारी पक्ष सलमान खान के खिलाफ केस साबित करने में नाकाम रहे हैं और उसी को आधार बनाते हुए कोर्ट ने सलमान खान को अदालत में पहुंचने के तुरंत के बाद ये कह दिया कि आपको सारे आरोपों से बरी किय़ा जाता है यानि सलमान खान पर चल रहा ये 12 साल पुराना मामला अब पूरी तरह से खत्म होता है सुप्रिम कोर्ट में जा सकते हैं शायद उसके बारे में सरकारी पक्ष कोर्ट में कुछ कहेगा.

हिट एंड रन केस में बॉम्बे हाईकोर्ट के इस फैसले की आगे बात करने से पहले एक नजर में जान लीजिए ये पूरा केस क्या है. 28 दिसंबर 2002 की आधी रात पार्टी कर घर लौट रहे सलमान ख़ान की कार मुंबई के बांद्रा इलाके में अमेरिकन एक्सप्रेस बेकरी में घुस गई थी. इस हादसे में एक शख्स की मौत हुई जबकि चार लोग घायल हो गए थे. घटना के बाद सलमान ख़ान ने सुबह पुलिस थाने में सरेंडर किया था और उन्हें पुलिस स्टेशन में ही जमानत भी मिल गई थी लेकिन अक्टूबर 2002 में उनके खिलाफ इस मामले में गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज किया गया था. जिसकी सुनवाई करीब 13 साल चली और मुंबई की सेशंस कोर्ट ने उन्हें 5 साल कैद की सजा सुनाई थी लेकिन निचली अदालत के इस फैसले को पलटते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने उन्हें अब इस केस में बरी कर दिया है.

सलमान खान के तरफ मुख्य तीन प्वाइंट थे. एक था कि क्या सलमान खान ने शराब पीकर गाड़ी चलाई थी दूसरा था कि रविंद्र पाटिल जो कह रहा था क्या वो सच था. और तीसरा और जो मुख्य था वो ये कि गाड़ी में तीन लोग थे या चार लोग और एक और प्वाइंट था कि शायद टायर ब्रस्ट होने की वजह से ये एक्सिडेंट हुआ हो और जो व्यक्ति नुरुला मरा था क्या वो एक्सिडेंट की वजह से मरा, या फिर गाड़ी जब क्रेन की मदद से उठाई जा रही थी और जब गाड़ी नीचे गिरी तो उसके इंपैक्ट से नुरुला मरा. प्राजिक्युशन का कहना है कि एक्सिडेंट टायर ब्रस्ट होने की वजह से नहीं हुआ, सलमान खान ने शराब पी रखी थी, और सलमान ही गाड़ी चला रहे थे. गाड़ी में तीन लोग ही थे सलमान खान रविंद्र पाटिल और कमाल खान और नुरुला एक्सिडेंट के इंपैक्ट से ही टायर के नीचे आकर मरा. वहीं डिफेंस कह रहा था कि गाड़ी अशोक सिंह चला रहा था, सलमान ने शराब नहीं पी थी और जो हाथ में लिक्विड था वो पानी था गाड़ी का टायर ब्रस्ट होने की वजह से एक्सिडेंट हुआ था और नुरुला की मौत तब हुई जब क्रेन मंगाई गई थी औऱ गाड़ी उठाई जा रही थी और जब गाड़ी गिरी तो उससे नुरुला की मौत हुई .और ये बात अदालत में एआर जोशी जज ने मानी है.

तेरह साल से सलमान ख़ान जिस फैसले का इंतजार कर रहे थे वो आखिरकार उन्हें बॉम्बे हाईकोर्ट से सुनने को मिल गया. लेकिन हाईकोर्ट का ये फैसला सिर्फ सलमान ख़ान पर नहीं बल्कि पुलिस- प्रशासन की नाकामी पर भी है अदालत ने अपने फैसले में साफ कहा है कि हम सलमान को बेनिफिट ऑफ डाउट दे रहे हैं क्योंकि जांच सही ढंग से नहीं की गई और गवाही जुटाने में भी लापरवाही की गई.
10pm vv salman
हाईकोर्ट में सलमान के वकीलों ने उनके बचाव में जो अहम दलीलें दी उसमें कहा गया था कि यह साबित नहीं हुआ कि दुर्घटना के समय सलमान ने शराब पी रखी थी. यह भी साबित नहीं कि सलमान खुद गाड़ी चला रहे थे. सलमान के पूर्व पुलिस बॉडीगार्ड रवींद्र पाटील की गवाही संदेहास्पद है उसने दो बार अलग – अलग बयान दिए. सरकार को इस मामले के एक और चश्मदीद और सलमान ख़ान के दोस्त कमाल ख़ान से पूछताछ करनी चाहिए थी वो दुर्घटना के वक्त सलमान के साथ गाड़ी में ही थे. इसके अलावा कोर्ट ने पुलिस के केस दर्ज करने से लेकर आरटीओ, ब्लड अनैलिसिस सभी की कार्यप्रणाली को भी नाकाफी बताया.

इन 7 वजहों से सलमान बरी हुए
हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद माना कि सलमान को सजा देने के लिए अदालत में पेश किए गए सबूत काफी नहीं हैं. कोर्ट ने माना कि सलमान गाड़ी नहीं चला रहे थे क्योंकि हादसे के समय ड्राइविंग सीट पर सलमान ही बैठे थे ये साबित नहीं हो पाया. हादसे के वक्त सलमान ने शराब पी रखी थी इसे साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं हैं. कोर्ट ने ये भी माना कि लोगों की भीड़ से बचने के लिए सलमान हादसे की जगह से भागे और वो लोगों के गुस्से की वजह से पीड़ितों को मदद नहीं दे सके. औऱ सबसे अहम ये कि रवींद्र पाटील इस घटना के अकेले चश्मदीद गवाह थे और अदालत ने उनके बयान को संदेहास्पद माना. अभियोजन पक्ष सलमान पर सही तरीके से आरोप भी साबित नहीं कर पाया.

जज ने कहा जब सलमान ड्राईविंग सीट पर बैठे थे जब वो टैग और वहां पर चाभी देने गए थे स्लिप लेकर जब वहां से गए तो सलमान को गाड़ी चलाते हुए नहीं देखा न ही सिक्योरिटी गॉर्ड का बयान लिया गया तो इससे साफ नहीं होता है कि जब सलमान खान गाड़ी की सीट पर बैठे थे तो क्या वो गाड़ी चलाकर गए कोई और आकर गाड़ी चलाया या नहीं ये बयान से साफ नहीं हो पाया और जो टायर ब्रस्ट की जो थ्योरी थी और जो होली फैमिली हॉस्पिटल का जो रोड है सलमान खान के घर से ठीक पहले है अमेरिकन बैकरी का वहां पर सड़क मरम्मत का काम चल रहा था वहां पत्थर थे चीजें रखी गईं थी उसके इंपैक्ट से टायर ब्रस्ट हो सकता है ऐसा भी अदालत ने माना और इसको बेनिक्लियर डाउब्ट देते हुए सलमान को बरी किया गया.

अपना फैसला सुनाते हुए जस्टिस ए आर जोशी ने कहा कि प्रॉसिक्यूशन सलमान के खिलाफ सारे आरोप साबित नहीं कर सका. दोष इस तरह साबित होना चाहिए कि इस पर कोई शक ना हो. प्रॉसिक्यूशन ने कुछ अहम गवाहों के बयानात दर्ज नहीं किए. घायल गवाहों से जुड़े सबूतों में भी विरोधाभास है. जांच बहुत गलत तरीके से हुई. ऐसी खामियां छोड़ दी गईं जिनसे कई बातें आरोपियों के फेवर में चली गईं.

हिट एंड रन केस में तीन अहम चश्मीद थे. पहले गवाह पुलिस कॉंस्टेबल रविंद्र पाटील थे जो सलमान के बॉडीगार्ड भी थे. दूसरे गवाह कमाल खान हैं जो हादसे के समय सलमान के साथ लैंड क्रूजर कार में मौजूद थे और तीसरे गवाह सलमान के ड्राइवर अशोक सिंह हैं जिन्होंने अंतिम समय में सेशन कोर्ट में इस केस को नाटकीय मोड दिया था. हिट एंड रन केस में सेशन कोर्ट ने रविंद्र पाटील की गवाही के आधार पर सलमान खान को गैर इरादतन हत्या का दोषी माना था. वहीं पुलिस के द्वारा दूसरे चश्मदीद कमाल खान को केस में गवाह ना बनाने को अहम आधार बना कर सलमान के वकीलों ने हाईकोर्ट में दलीले दी थी.

हिंट एंड रन केस में सलमान हाईकोर्ट से बरी हो गए लेकिन उनके खिलाफ अदालत में अभी चार केस और चल रहे हैं. उन मुकद्दमों की तलवार कैसे सलमान के सिर पर लटक रही है. रीयल लाइफ में कैसे बुलंद हो रहे हैं सलमान के स्टार.

कॉमेडियन कपिल शर्मा के शो में सलमान अपनी फिल्म प्रेम रतन धन पायो का प्रचार करने पहुंचे थे लेकिन इस शो में कॉमेडी उनके सिर पर कुछ इस तरह सवार हुई कि वो अपनी फिल्म का प्रचार करना तक भूल गए थे.

सलमान ख़ान की ये खुशी और उनकी इस हंसी के पीछ दरअसल इस साल उनको मिली कामयाबी छिपी है. साल 2015 में सलमान खान की फिल्म बजरंगी भाई जान और प्रेम रतन धन पायो ने कमाई के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए है.

जुलाई में रिलीज हुई बजरंगी भाईजान ने देश – दुनिया में करीब 626 करोड़ रूपये कमाए हैं. ये फिल्म सलमान ख़ान ने ही बनाई है और इसमें उनकी एक्टिंग की तारीफ भी हुई है. इसी साल बॉक्स ऑफिस ने सलमान को कामयाबी का एक और तोहफा दिया. उनकी फिल्म प्रेम रतन धन पायो देश- विदेश में अब तक 300 करोड़ से ज्यादा का कारोबार कर चुकी है. यानी इस साल सलमान की फिल्मों ने करीब 1000 करोड़ रुपये का कारोबार किया है. फिल्मों का परदा जहां सलमान के स्टारडम से दमक रहा है वहीं छोटे परदे पर भी बिग बॉस के आठवें सीजन में सलमान की शोहरत का सफर जारी है.

रील और रीयल लाइफ में सलमान का सितारा फिलहाल चमक रहा है. लेकिन जोधपुर में हिरण शिकार के मामले में उन पर सजा की तलवार भी लटकी हुई है. जोधपुर में दर्ज 4 अलग – अलग मामलों में से 1 में जल्द ही राजस्थान हाई कोर्ट का फैसला भी आ सकता है.

सलमान खान पर आरोप है कि 1998 में जिस बंदूक से उन्होंने 1 और 2 अक्तूबर की रात को कांकाणी गांव में हिरणों का शिकार किया था उसका लाइसेंस खत्म हो चुका था. इसलिए उनके खिलाफ पुलिस ने आर्म्स एक्ट के तहत केस भी दर्ज किया था. इस मामले में भी दोषी साबित होने पर सलमान को पांच साल की कैद हो सकती है. आर्म्स एक्ट केस में सलमान पर दो आरोप हैं. पहला कि 22 सितबर 1998 में लाईसेंस की अवधि खत्म होने के बावजूद वे मुंबई से अवैध रुप से .32 रिवाल्वर और .22 राईफल जोधपुर लेकर आए थे. सलमान पर दूसरा आरोप ये है कि इन हथियारों से उन्होंने जोधपुर के पास काकांणी वन क्षेत्र में दो काले हिरण का शिकार किया था. इस मामले में सुनवाई अभी जारी है.

संजय दत्त के बाद सलमान खान बॉलीवुड के दूसरे बडे सितारे हैं जो अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ दौर में कानूनी उलझनों में फंसे हुए हैं. सलमान से जुड़ा सबसे पहला कानूनी मामला सोलह साल पहले उस वक्त सामने आया था जब वो राजस्थान में फिल्म की शूटिंग कर रहे थे.

1998 में सलमान खान राजश्री प्रोड्क्शन की फिल्म हम साथ-साथ की शूटिंग करने राजस्थान के जोधपुर पहुंचे थे इस फिल्म में उनके साथ सैफ अली खान, अभिनेत्री तब्बू, नीलम और सोनाली बेंद्रे ने भी काम किया था. ये वो वक्त था जब सलमान हिरण शिकार के तीन अलग – अलग मामलों में फंसे थे.

सलमान खान पर आरोप लगे थे कि उन्होनें शूटिंग के दौरान जोधपुर के आस-पास के तीन इलाकों घोड़ाफॉर्म मथानिया, भवाद और कांकाणी गांव में काले हिरणों का शिकार किया था.

जोधपुर से करीब 15 किलोमीटर दूर घोड़ा फॉर्म इलाके में 26 सितंबर 1998 की आधी रात को दो हिरणों का शिकार करने का आरोप सलमान खान पर लगा था इस मामले में निचली अदालत सलमान को दोषी भी करार दे चुकी है. 10 अप्रैल 2006 को घोड़ा फार्म शिकार मामले में सलमान खान को अदालत ने पांच साल कैद और 25 हजार जुर्माने की सजा सुनाई थी. इस सजा के खिलाफ सलमान खान ने सेशन कोर्ट में अपील की थी लेकिन सेशन कोर्ट ने भी निचली अदालत के निर्णय को सही मानते हुए उनकी अपील खारिज कर दी थी. इस मामले में सलमान खान को आठ दिन जोधपुर की जेल में भी गुजारने पडे थे और अब ये पूरा मामला जोधपुर हाईकोर्ट में विचाराधीन है.

घोड़ा फार्म मथानिया में हिरण शिकार मामले के अलावा सलमान पर हिरण शिकार का एक और मामला अदालत में चल रहा है. जोधपुर के पास भवाद में हिरण का शिकार करने का आरोप भी सलमान खान पर लगा है.

जोधपुर से करीब 25 किलोमीटर दूर भवाद इलाके में दो चिंकारा का शिकार करने के आरोप में निचली अदालत सलमान खान को सजा सुना चुकी है. 17 फरवरी 2006 को अदालत ने भवाद शिकार मामले में सलमान खान को एक साल के कारावास और पांच हजार रुपये जर्माने की सजा सुनाई थी. इस सजा के खिलाफ भी सलमान खान ने सेशन कोर्ट में अपील की जबकि सजा को बढ़ाने के लिए राज्य सरकार ने हाईकोर्ट में अपील दायर की है. ये मामला भी जोधपुर हाईकोर्ट में चल रहा है.

भवाद और घोडा फॉर्म मथानिया के अलावा हिरन शिकार का एक और तीसरा मामला भी सलमान खान पर अदालत में विचाराधीन है जिसकी सुनवाई पूरी हो चुकी है. इस मामले में भी फैसला जल्द आने की संभावना है.

जोधपुर से करीब बीस किलोमीटर दूर कांकाणी नाम की जगह पर सलमान पर दो हिरन का शिकार करने का आरोप है हांलाकि इस मामले में अभी तक अदालत का फैसला नहीं आया है. आरोप है कि 1 अक्टूबर 1998 की आधी रात में सलमान ने कांकाणी में हिरणों का शिकार किया इस वक्त उनके साथ अभिनेता सैफ अली खान, अभिनेत्री तब्बू, नीलम और सोनाली बेंद्रे भी मौजूद थी. पिछले सोलह साल से ये मामला अदालत में चल रहा है. काले हिरणों के शिकार के इस केस में सलमान खान के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम की धारा 51 लगाई गई है. ये धारा शिकार करने वाले पर लगाई जाती है जबकि सैफ अली खान, सोनाली बेंद्रे, तब्बू और नीलम के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम की धारा 51 और 52 लगाई गई है. धारा 52 शिकार में सहयोग करने वालों पर लगाई जाती है. इन दोनों ही धाराओं में दोषी साबित होने पर तीन से छह साल की सजा या जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है. यानी अगर आरोप साबित हुए तो हिरण शिकार के इस मामले में भी सलमान खान को 3 से 6 साल की सजा हो सकती है.

जाहिर है कि सलमान खान केस के चक्रव्यूह में फंसे हुए हैं बावजूद इसके वो इन दिनों फिल्म सुल्तान की शूटिंग में व्यस्त है. फिल्मों के साथ वो टीवी शो और विज्ञानपनों में भी नजर आते हैं. फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2014 में सलमान ने कमाई के मामले में शाहरुख खान और अमिताभ बच्चन को भी पीछे छोड़ दिया है. इसीलिए ये सवाल भी अहम है कि आखिर ब्रॉंड सलमान का राज क्या है. ये भी हम बताएंगे आपको आगे लेकिन उससे पहले कहानी उन तीन गवाहों की जिनकी वजह से हिट एंड रन केस में अटकी थी बॉलीवुड के भाई जान की जान.

साल 1995 में बॉलीवुड में सिंगर कमाल खान की एंट्री हुई थी. ब्रिटिश नागरिक कमाल हादसे वाले दिन सलमान ख़ान के साथ उनकी कार में ही मौजूद थे. हिट एंड रन केस में पुलिस के सामने उनका बयान भी दर्ज हुआ था लेकिन वो अदालत में कभी पेश नहीं हुए. हिट एंड रन केस के दूसरे अहम चश्मदीद कॉन्सटेबल रविंद्र पाटील थे. यही वो शख्स था जो इस केस के बारे में सब कुछ जानता था लेकिन रवींद्र पाटिल अब इस दुनिया में नहीं है. सूत्रों के मुताबिक परिवार से अलग होने के बाद रविंद्र अचानक एक दिन घर से लापता हो गए थे और फिर साल 2007 में वो सेवरी म्युनिसिपल अस्पताल में मिले थे जहां टीबी की वजह से उसकी मौत हो गई थी. खबरों के मुताबिक रविंद्र को हिट एंड रन केस में बयान बदलने के लिए लालच और धमकियां दी जाती थी ऐसा भी कहा जाता है कि पुलिस ने उसके परिवार को काफी परेशान किया था और इसी वजह से वो डिप्रेशन में चला गया था. हिट एंड रन केस के तीसरे अहम गवाह सलमान ख़ान के ड्रायवर अशोक सिंह है जिन्होंने अंतिम चरण में इस केस को सेशन कोर्ट में नाटकीय मोड दिया था. सलमान खान के परिवार के वफादार माने जाने वाले अशोक सिंह ने 2002 में हुए हादसे का दोष ये कह कर अपने सिर ले लिया था कि घटना वाली रात सलमान नहीं बल्कि वो कार चला रहे थे. हाईकोर्ट ने अशोक के गुनाह कुबूलने के बयान को निचली अदालत द्वारा नजरअंदाज करने को लेकर भी नाराजगी जताई है.

गवाहों, बयानों और सबूतों की उलझनों में उलझे हिट एंड रन केस का फैसला सलमान के पक्ष में आ गया है लेकिन शिकार केस की तलवार अभी भी उनके सिर पर लटक रही है. ऐसे में सवाल ये है कि क्या ब्रॉड सलमान और उनकी फिल्मों पर भी इन केस का असर पडेगा.

सेलेब्रिटी मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स की रिपोर्ट के मुताबिक सलमान के ब्रांड एंडोर्समेंट पर करीब 45 करोड़ रुपए (अनुमानित) लगे हैं. वो एक विज्ञापन के लिए लगभग 10 करोड़ रुपये फीस वसूलते हैं. कुछ सालों से वो रियालिटी शो बिग बॉस को भी होस्ट कर रहे हैं. मंधाना इंडस्ट्रीज लिमिटेड के साथ पार्टनरशिप में सलमान का बीइंग ह्यूमन ब्रांड भी देश- विदेश में सामानों की बिक्री करता है. मंधाना की ग्लोबल सेल से सालाना लगभग 170 करोड़ की कमाई होती है अगर सलमान की फिल्मों की बात करें तो उनकी 3 फिल्मों के प्री प्रोडक्शन पर काम चल रहा है जिनमें करण जौहर की फिल्म शुद्धि, य़शराज फिल्म की सुल्तान और बोनी कपूर की नो एंट्री में एंट्री शामिल है. इसके अलावा सलमान अपने भाई सोहेल खान की फिल्म शेर खान और अरबाज की दबंग तीन से भी जुड़े है. फिल्मों और उनके स्टेज शो को जोड़ा जाए तो बॉलीवुड का करीब एक हजार करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार सलमान पर निर्भर है. पिछले कुछ सालो में सलमान की लगभग सभी फिल्मों ने 100 से 300 करोड़ रुपये के बीच कमाई की है. इसके अलावा होर्ल्डिंग और वेबसाइट पर उनके विज्ञापनों से भी उनकी कमाई होती है.

पिछले कुछ सालों से सिनेमा के मैदान में सबसे आगे चल रहे हैं बॉलीवुड के दंबग सलमान खान. औऱ अब हिट एंड रन केस में उनके पक्ष में आए कोर्ट के फैसले को उनके लिए एक नए पॉजिटिव बूस्ट के तौर पर देखा जा रहा है. दरअसल ये केस सलमान के गले की फांस बन चुका था. जबकि हिरण शिकार के मामले अभी सेशन कोर्ट और हाईकोर्ट में हैं और उनके पास इन केस में सुप्रीम कोर्ट जाने का विकल्प बाकी है. यही वजह है कि अब सलमान खुल कर फिल्में साइन कर सकते हैं और बॉक्स ऑफिस पर बना सकते हैं कामयाबी के नए कीर्तिमान.

Vyakti Vishesh News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: full information on salman khan cases
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: 2002 hit-and-run case Salman Khan
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017