अफगानिस्‍तान में आतंकियों के साथ मुठभेड़ खत्‍म

अफगानिस्‍तान में आतंकियों के साथ मुठभेड़ खत्‍म

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

<p style="text-align: justify;">
<b>काबुल:
</b>अफगानिस्तान की राजधानी
काबुल में लगभग 16 घंटे बाद
आतंकियों से सुरक्षाबलों की
मुठभेड़ खत्‍म हो गई. अफगान
सरकार के अधिकारी सईद
सिद्दकी के मुताबिक सभी
आतंकवादी मारे जा चुके हैं और
अब हालात पूरी तरह काबू में
हैं.
</p>
<p style="text-align: justify;">
नाटो समर्थित अफगान सुरक्षा
बलों ने बीते 24 घंटे में 47
तालिबान आतंकवादियों को मार
गिराया है और 31 से ज्यादा घायल
हुए हैं.<br /><br />मंत्रालय से जारी
एक वक्तव्य में कहा गया है,
'नेटो के नेतृत्व वाली गठबंधन
सेनाओं की मदद से नेशनल आर्मी
सहित अफगान नेशनल पुलिस ने
बीते 24 घंटों में काबुल सहित
विभिन्न प्रांतों में 11
संयुक्त कार्रवाई की थी. इस
दौरान 47 आतंकवादी मारे गए, 31
जख्मी हुए और 21 को गिरफ्तार
किया गया.'<br /><br />वैसे यह नहीं
बताया गया है कि इस कार्रवाई
में सुरक्षा बलों को कितना
नुकसान पहुंचा.<br /><br />तालिबान
आतंकवादियों ने रविवार को
अफगानिस्‍तान की संसद,
अमेरिका और ब्रिटेन के
दूतावासों समेत 12 ठिकानों पर
हमला किया. आतंकियों के
निशाने पर अफगानिस्तान के
उपराष्ट्रपति अब्दुल करीम
खलीली थे. उधर, भारत सरकार ने
कहा है कि काबुल में सभी
भारतीय सुरक्षित हैं.<br /><br />आतंकियों
के साथ मुठभेड़ों के चलते
रविवार के दिन काबुल में
हाहाकार मचा रहा. दिन में
तालिबान आतंकियों ने जो
तांडव मचाया वो देर रात तक
नहीं थमा. काबुल में आतंकियों
ने हर उस वीवीआईपी इलाके को
निशाना बनाया जहां विदेशी
रहते हैं.<br /><br />आतंकियों ने
अमेरिकी, रूस, जर्मनी और
ब्रिटिश दूतावास को निशाना
बनाया. आतंकियों ने उन देशों
के दूतावासों को खासतौर पर
निशाना बनाया है, जिनकी फौजें
अफगानिस्तान में हैं. आतंकी
हमले के बाद अमेरिकी दूतावास
को बंद कर दिया गया.<br /><br />आतंकियों
ने अफगानिस्तान की संसद में
भी घुसने की कोशिश की. संसद के
पास कई धमाके किए गए. लेकिन
आतंकी संसद में घुसने में
नाकाम रहे. इसकी बड़ी वजह रही
सुरक्षाबलों की मुस्तैदी और
वो सांसद जो हाथ में बंदूक
लिए आतंकियों से खुद लोहा
लेने मैदान में उतर गए. <br /><br />आंतकवादियों
के एक गुट ने नेटो सेना के पास
ही मौजूद एक इमारत पर कब्जा
कर लिया और उसके बाद नेटो
सेना के मुख्यालय पर हमला
शुरू कर दिया. सिर्फ नेटो
सेना ही नहीं पास ही मौजूद
तुर्की मिलिट्री बेस और
अफनानिस्तान के नेशनल आर्मी
के ट्रेनिंग कैंप पर भी
लगातार हमले किए जाते रहे.
इसके तुरंत बाद नेटो सेना
हरकत में आ गई. सेना ने
हेलीकॉप्टर के जरिए भी जवाबी
कार्रवाई की.<br /><br />नेटो सेनाओं
के अलावा तालिबान ने काबुल
स्टार होटल पर भी हमला किया.
काबुल स्टार होटल वो जगह है,
जहां काबुल में विदेशी लोग
शॉपिंग के लिए खूब आते हैं.
काबुल के बाहर जलालाबाद में
भी तालिबान ने एयरपोर्ट पर
हमला किया, जिसमें दो
आत्मघाती हमलावरों ने अपने
को उड़ा लिया जबकि बाकी दो
पकड़े गए.<br />
</p>

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story 4 साल बाद डीजीएमओ स्तर की बातचीत पर विचार कर रहा पाकिस्तान: मीडिया रिपोर्ट