अमेरिका को लोकसभा चुनावों के बाद भारत-पाक व्यापार संबंधों में प्रगति की उम्मीद

अमेरिका को लोकसभा चुनावों के बाद भारत-पाक व्यापार संबंधों में प्रगति की उम्मीद

By: | Updated: 17 Apr 2014 09:35 AM

वाशिंगटन: अमेरिका का कहना है कि उसको भारत-पाकिस्तान के बीच कुछ सकारात्मक खुसफुसाहटों की आहट लागी है और लोकसभा चुनावों के बाद इन दोनों देशों के व्यापार संबंधों में प्रगति होगी. अमेरिका के अनुसार ऐसी कोई वजह नहीं है कि दोनों देशों का द्विपक्षीय (दो देशों का आपस में) व्यापार अगले कुछ साल में चौगुना होकर 10 अरब डॉलर न हो सके.

 

अमेरिका की विदेश उपमंत्री निशा देसाई बिस्वाल ने कल बोस्टन में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में यह बात कही. दक्षिण और मध्य एशिया मामलों की प्रभारी बिस्वाल ने कहा कि स्पष्ट रूप से, व्यापर और उर्जा प्रवाह को बढा देने में सबसे बड़ी अड़चन भारत और पाकिस्तान के बीच बाधाओं को दूर करना है.

 

बिस्वाल ने कहा कि पाकिस्तान ने पिछले साल जो आर्थिक प्रगति की है उसे देखकर अमेरिका उत्साहित है हालांकि उसके सामने अब भी बहुत सी चुनौतियां हैं. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और इसके सबसे बड़े पड़ोसी के बीच सुधरा माहौल अनेक आर्थिक फायदे दे सकता है.

 

भारत-पाकिस्तान का व्यापार 2013 में 2.5 अरब डॉलर रहा. इसकी कोई वजह नहीं है कि अगले कुछ साल में इसे चौगुना कर 10 अरब डॉलर नहीं किया जा सके. उन्होंने कहा कि हमने पाकिस्तान और भारत में कुछ सकारात्मक फुसफुसाहट सुनी है कि दोनों सरकारों इस दिशा में आगे बढ रही हैं और हमें उम्मीद है कि भारत में आम चुनावों के बाद वे प्रगति करेंगी.

 

पाकिस्तान ने इसी महीने कहा था कि भारत को बिना भेदभाव वाली बाजार पहुंच (एनडीएमए) देने की प्रक्रिया समाप्त नहीं की गई बल्कि आम चुनावों को देखते हुए टाल दी गई है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest World News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story शहंशाह जायद की तस्वीर बेचने से दुकानदार ने किया मना, मौजूदा किंग मोहम्मद ने की मुलाकात