'आप' के मंत्रियों को मिलीं इनोवा कारें, डुप्लेक्स घर पर केजरीवाल की सफाई- मेरे घर की तुलना शीला दीक्षित के आवास से करें

By: | Last Updated: Saturday, 4 January 2014 2:51 AM
‘आप’ के मंत्रियों को मिलीं इनोवा कारें, डुप्लेक्स घर पर केजरीवाल की सफाई- मेरे घर की तुलना शीला दीक्षित के आवास से करें

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को मीडिया से अपने नव आवंटित सरकारी आवास की तुलना पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बंगले से करने के लिए कहा. नई दिल्ली में आवंटित संभावित आवास के बारे में पूछे जाने पर केजरीवाल ने कहा, “यदि आप चाहें तो अपने कैमरे के साथ फ्लैट तक जाएं. आप खुद ही देख लें और पूर्व सीएम के आवास के साथ तुलना कर लें.”

 

आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार के मुखिया को भगवान दास रोड पर पांच-पांच कमरों वाला दो डुप्लेक्स फ्लैट आवंटित किया गया है. इस आवास से थोड़ी ही दूरी पर दिल्ली सरकार का सचिवालय है.

 

केजरीवाल ने संवाददाताओं से कहा, “दो फ्लैट हैं. एक का इस्तेमाल रहने के लिए किया जाएगा और दूसरे का इस्तेमाल कार्यालय के रूप में होगा.”

 

वीआईपी संस्कृति का विरोध करते हुए केजरीवाल ने सरकारी बंगले में आने से मना कर दिया था. वे राष्ट्रीय राजधानी से सटे गाजियाबाद जिले के कौशांबी स्थित अपने फ्लैट से ही कामकाज कर रहे हैं.

 

दस कमरों वाले डुप्लेक्स में रहेंगे सीएम केजरीवाल

आपको बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के लिए भगवान दास रोड पर दो डूप्लेक्स जोड़कर आवास तैयार किया गया है. ये डुप्लेक्स डीडीए के अधिकारियों के लिए बने हैं. हर डुप्लेक्स में पांच कमरे हैं इसलिए जिस घर में केजरीवाल का आवास और दफ्तर होगा उसमें कुल दस कमरे होंगे.

 

केजरीवाल का कहना है कि घर एक ही है. दूसरे घर में तो ऑफिस चलेगा. शीला दीक्षित के घर से तो छोटा ही है. केजरीवाल कह रहे हैं कि हमने लाल बत्ती नहीं लेने का फैसला किया था. सरकारी कार लेने से मना नहीं किया था. बंगला लेने से मना किया था. सरकारी घर से नहीं.

 

केजरीवाल और उनकी पार्टी के नेता चाहें कुछ भी कहें, उनकी सादगी राजनीतिक मुद्दा बन चुकी है. डबल डुप्लेक्स को लेकर दिल्ली विधानसभा में आज खूब हंगामा हुआ. कल बीजेपी नेता हर्षवर्धन ने भी कहा था कि सादगी को लेकर आप बस दिखावा कर रही है. आज बीजेपी ने हंगामा किया.

 

आम आदमी पार्टी के मंत्रियों को सरकारी गाड़ियों के तौर पर मिलीं टोयोटा इनोवा कारें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को छोड़ कर आम आदमी पार्टी के मंत्रियों को आज सरकारी गाड़ियों के तौर पर टोयोटा इनोवा कारें दी गईं.

 

‘आप’ के मनीष सिसोदिया, राखी बिरला और सौरभ भारद्वाज सहित विभिन्न मंत्री सरकारी गाड़ियों में दिल्ली विधानसभा परिसर पहुंचे.

 

यह पूछे जाने पर कि क्या ऐसी गाड़ियों में आने से किफायत की झलक मिलती है, केजरीवाल ने सवाल को अधिक तवज्जो न देते हुए कहा कि पार्टी ने यह कभी नहीं कहा कि उसके मंत्री सरकारी गाड़ियों का उपयोग नहीं करेंगे.

 

संवाददाताओं के सवालों के जवाब में केजरीवाल ने कहा ‘‘हमने कारों का उपयोग न करने के बारे में कभी नहीं कहा. हमने कहा कि हम लालबत्ती वाली कारों का उपयोग नहीं करेंगे.’’ विधानसभा में कांग्रेस के सहयोग से ‘आप’ सरकार के विश्वास मत हासिल करने के बाद मंत्रियों ने सरकारी गाड़ियां ली हैं.

 

अपनी ‘आम आदमी’ की पहचान बरकरार रखते हुए पिछले कुछ दिन ‘आप’ के मंत्री और विधायक मेट्रो और ऑटो रिक्शा जैसे सार्वजनिक परिवहन साधनों से दिल्ली विधानसभा आए थे.

 

इस मुद्दे पर पूछे जाने पर सिसोदिया ने कहा कि पार्टी वीआईपी संस्कृति के खिलाफ है और सरकारी कारें लेने में कुछ भी गलत नही है.

 

सिसोदिया ने कहा ‘‘हम मंत्रियों और नौकरशाहों द्वारा अपनी कारों पर लाल तथा नीली बत्ती के उपयोग वाली वीआईपी संस्कृति के खिलाफ हैं लेकिन सरकारी गाड़ियों के उपयोग के खिलाफ नहीं हैं. हम बड़े बंगले लेने के खिलाफ हैं.’’ उन्होंने इस सवाल का जवाब देने से इंकार कर दिया कि क्या केजरीवाल सरकारी गाड़ी लेंगे.

 

परिवहन, खाद्य आपूर्ति और पर्यावरण मंत्री भारद्वाज ने कहा ‘‘मेरी कार में पेट्रोल नहीं है और अपना एटीएम कार्ड मैंने अपनी पत्नी को दिया था. इसलिए मुझे सरकारी कार का उपयोग करना पड़ा.’’ भारद्वाज ने राखी बिरला के कार लेने का बचाव करते हुए कहा ‘‘वह महिला हैं और एक मंत्री होने के नाते उन्हें रात को भी आना जाना होगा.’’ इस बीच दिल्ली पुलिस आयुक्त बी एस बस्सी ने आज कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सुरक्षा के लिए जो भी जरूरी है, वह दिल्ली पुलिस कर रही है क्योंकि उसे उन पर :केजरीवाल पर: खतरे के बारे में और सुरक्षा न लेने के उनके रूख के बारे में पता है.

 

बस्सी से इन खबरों के बारे में पूछा गया था कि केजरीवाल के औपचारिक सुरक्षा कवर लेने से इंकार करने के बाद उनकी सुरक्षा पर करीब दस गुना ज्यादा खर्च किया जा रहा है.

 

दिल्ली पुलिस के सालाना संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा ‘‘सुरक्षा के तहत कई पहलू, सुरक्षा एजेंसी, खतरा और वह व्यक्ति होता है जिसे सुरक्षा की जरूरत है. हमारे पर खतरे के बारे में सूचना है. हमें यह पता है कि पुलिस को क्या करना है और हम यह भी जानते हैं उनकी :केजरीवाल की: मांग क्या है. इन बिंदुओं को ध्यान में रख कर हम वह कर रहे हैं जो जरूरी है.’’ बस्सी से पूछा गया कि आम आदमी पार्टी के साथ क्या अब दिल्ली पुलिस के समीकरण बदलेंगे क्योंकि उसके सत्ता में आने से पहले विभिन्न मुद्दों पर दोनों में टकराव होता रहा है. इस पर बस्सी ने कहा ‘‘हमें यह याद रखना चाहिए कि पुलिस कर्मी पर कानून व्यवस्था बनाए रखने का जिम्मा होता है. जब हमारे दायित्व की बात आती है तो हम लोगों में अंतर नहीं करते.’’

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ‘आप’ के मंत्रियों को मिलीं इनोवा कारें, डुप्लेक्स घर पर केजरीवाल की सफाई- मेरे घर की तुलना शीला दीक्षित के आवास से करें
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017