इराक: विभाजन की आशंका बीच सरकार गठन पर जोर

By: | Last Updated: Thursday, 26 June 2014 4:54 PM

बगदाद/लंदन/वाशिंगटनः इराक में सुन्नी आतंकवादियों के बढ़ते दबदबे को देखते हुए दुनिया के कई मुल्कों ने देश के विभाजित होने की आशंका जताई है. सुरक्षा की विपरीत स्थिति को पटरी पर लाने और आतंकवादियों के साथ निपटने की कोशियों में जुटी नूरी अल-मलिकी सरकार को दोबारा मिले जनादेश को ध्यान में रखते हुए के इराक के राष्ट्रपति ने नवनिर्वाचित संसद से 1 जुलाई को नई सरकार के गठन की प्रक्रिया शुरू करने की अपील की है. इजरायल के राष्ट्रपति सिमॉन परेज ने चेतावनी दी है कि इराक में जारी हिंसा को देखते हुए उन्हें नहीं लगता कि यह देश एकजुट रह पाएगा, बल्कि सांप्रदायिक आधार पर इसके बंटने की प्रबल आशंका है.

 

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, अमेरिका के आधिकारिक दौरे पर पहुंचे परेज ने ये बातें अपने अमेरिकी समकक्ष बराक ओबामा से व्हाइट हाउस में बातचीत के दौरान कही.

 

परेज ने कहा, “अच्छा होता कि इराक एकजुट रह पाता, लेकिन यदि ऐसा होता है तो मुझे आश्चर्य होगा. इसके लिए वहां की सेना को कड़ा रुख अपनाना होगा, ताकि इराक के तीन पक्ष साथ हो सकें. लेकिन मुझे नहीं लगता कि इराक की सेना ऐसा कर पाएगी और वहां के तीनों पक्ष इसके लिए सहमत होंगे.”

 

उधर, इराक के राष्ट्रपति कार्यालय ने एक राज्यादेश जारी कर प्रतिनिधिसभा से मंगलवार 1 जुलाई को सत्र आहूत करने और नई सरकार के गठन की प्रक्रिया शुरू करने को कहा है.

 

इराक में 30 अप्रैल को संपन्न हुए चुनाव में जीते 328 संसद सदस्य पहले सत्र में शामिल होंगे.

 

उपराष्ट्रपति खुदैर अल-खजैए ने बुधवार को एक बयान में कहा, “राष्ट्रपति का कार्यालय देश में लोकतांत्रिक राजनीतिक प्रक्रिया के प्रति प्रतिबद्ध है.”

 

पिछले दो सप्ताह से देश में जारी सुरक्षा की खराब होती जा रही स्थिति के बीच संसद का सत्र बुलाया गया है. देश में इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड ग्रेटर सीरिया (आईएसआईएस) के आतंकवादियों ने आक्रामक रुख अपनाते हुए उत्तरी और पश्चिमी इलाके के एक बड़े भाग पर कब्जा कर लिया है.

 

इस बीच इराक के प्रधानमंत्री नूरी अल-मलिकी ने गुरुवार को पुष्टि की कि सीरिया ने इराकी क्षेत्र में सक्रिय आतंकवादियों के खिलाफ हवाई हमले किए. ये हमले इस सप्ताह के शुरू में किए गए. यह जानकारी एक मीडिया रिपोर्ट में दी गई है.

 

बीबीसी के मुताबिक, मलिकी ने कहा कि सीरियाई लड़ाकू विमानों ने मंगलवार को सीमा से सटे काइम कस्बे में आतंकवादियों के ठिकानों पर बमबारी की.

 

मालिकी ने यह भी कहा कि इराक ने सीरिया को ऐसे हमले के लिए नहीं कहा था, लेकिन इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड ग्रेटर सीरिया (आईएसआईएस) के खतरनाक आतंकवादियों के खिलाफ हमले का स्वागत है.

 

आईएसआईएस के आतंकवादियों ने उत्तरी इराक के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया है. आतंकवादियों के कब्जे में देश का दूसरा सबसे बड़ा शहर मोसुल भी है.

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: इराक: विभाजन की आशंका बीच सरकार गठन पर जोर
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017