इस्राइल और फलस्तीन के व्यवहार निराशाजनक

By: | Last Updated: Thursday, 3 April 2014 5:40 AM

सान फ्रांसिस्को: इस्राइल और फलस्तीन दोनों की हाल की गतिविधियों पर निराशा जताते हुए अमेरिका ने इस कदम को इन दोनों देशों के बीच मतभेद दूर करने में और मध्य पूर्व में शांति की स्थापना में सहयोग न करने का रवैया करार दिया है.

 

व्हाइट हाउस के प्रेस उपसचिव जोश अर्नेस्ट ने कल बताया, ‘‘हाल के दिनों में दोनों पक्षों के असहयोगात्मक रवैये से हमें निराशा हुई है.’’ उन्होंने कहा कि विदेश मंत्री जॉन केरी वार्ता दल के साथ करीबी संपर्क बनाए हुए हैं. ये वार्ता दल दोनों देशों के बीच वार्ता बहाल करने को जमीनी हकीकत में तब्दील करने के लिए अभी भी वहां बना हुआ है.

 

उन्होंने बताया दोनों पक्ष यदि आगे बढ़ना चाहते हैं तो उन्हें अवश्य ही जरूरी कदम उठाना चाहिए. उन्होंने कहा कि जैसे को तैसा और प्रतिक्रियावादी रवैया गलत होगा और यह किसी के हित में नहीं होगा. उन्होंने कहा कि वास्तविकता यह है कि दोनों के समक्ष चुनौतियां बहुत हैं.

 

अर्नेस्ट ने कहा कि अमेरिका दोनों पक्षों पर कोई निर्णय थोप नहीं सकता. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति अब्बास और प्रधानमंत्री नेतन्याहू द्वारा पहले ही इस संबंध में कई ‘‘साहसी’’ कदम उठाए जा चुके हैं.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हमने देखा है कि राष्ट्रपति अब्बास और प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने पहले ही इस संबंध में कई महत्वपूर्ण निर्णय और साहसी कदम उठाए हैं ताकि इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा सके.’’

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: इस्राइल और फलस्तीन के व्यवहार निराशाजनक
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ???????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017