इस्लामाबाद के फल बाजार में बम ब्लास्ट, 23 की मौत, 100 से ज्यादा ज़ख्मी

इस्लामाबाद के फल बाजार में बम ब्लास्ट, 23 की मौत, 100 से ज्यादा ज़ख्मी

By: | Updated: 01 Jan 1970 12:00 AM

इस्लामाबाद: पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में आज फलों और सब्जियों के एक बाजार में शक्तिशाली बम विस्फोट में कम से कम 23 लोगों की मौत हो गयी और 100 से ज्यादा लोग जख्मी हो गए. राजधानी के बाहरी इलाके में सेक्टर आई-11 के फल बाजार में विस्फोट हुआ. यह क्षेत्र रावलपिंडी की सीमा से सटा है.

 

विस्फोट ऐसे समय में हुआ है जब सरकार और तालिबान देश में पिछले एक दशक से फैली हिंसा के सिलसिले को रोकने के लिए बातचीत में लगे हैं. पिछले कुछ सालों में हिंसा में 40,000 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं.

 

पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (पीआईएमएस) के कुलपति प्रो जावेद अकरम ने पीटीआई को बताया, ‘‘हमारे यहां 20 शव हैं और तीन अन्य शव होली फैमिली अस्पताल में हैं. हमारे यहां अभी 54 जख्मी लोग हैं जिनकी हालत काफी गंभीर है.’’ इस विस्फोट में पांच किलोग्राम के बम का इस्तेमाल किया गया और उसे बाजार में लाए गए अमरूदों की एक क्रेट में रखा गया था.

 

इस्लामाबाद पुलिस के सहायक महानिरीक्षक सुल्तान आजम तैमूरी ने कहा कि विस्फोट सुबह हुआ जब लोग रोजमर्रा की तरह फल खरीदने आए थे. अधिकारियों ने बताया कि बम हमले में 100 से ज्यादा लोग जख्मी हुए जिन्हें पीआईएमएस और रावलपिंडी के होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया. विस्फोट के तुरंत बाद दोनों अस्पतालों में आपात स्थिति घोषित कर दी गई.

 

विस्फोट की जिम्मेदारी यूनाइटेड बलूचिस्तान आर्मी ने ली है जो अशांत दक्षिण पश्चिम प्रांत में सक्रिय एक अलगाववादी संगठन है.बहरहाल, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के प्रवक्ता शाहिदुल्ला शाहिद ने बयान जारी कर इस विस्फोट की निंदा की और हमले में आम लोगों के मारे जाने पर अफसोस जाहिर किया है. शाहिद ने अपने बयान में ऐसे हमलों को ‘गैर-इस्लामी’ करार दिया.

 

तालिबान ने 10 अप्रैल तक संघर्ष विराम की घोषणा की है. सुरक्षा अधिकारियों और पुलिस ने इलाके को घेर लिया और बम निरोधक दस्ते ने विस्फोटकों का पता लगाने के लिए इलाके की छानबीन की.

 

इस्लामाबाद के पुलिस महानिरीक्षक खालिद खट्टक ने विस्फोट स्थल पर संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘‘विस्फोट के समय करीब 1,500-2,000 लोग बाजार में थे.’’ विस्फोट स्थल पर फलों के डिब्बों के बीच लोगों के शरीर के क्षत विक्षत अंग और खून से सने कपड़े पड़े थे.

 

इससे करीब एक महीने पहले शहर में एक अदालत परिसर में आतंकवादी हमले में एक न्यायाधीश समेत 11 लोग मारे गये थे. राष्ट्रपति ममनून हुसैन और प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने विस्फोट की निंदा की है. गृहमंत्री चौधरी निसार अली खान ने विस्फोट स्थल का दौरा किया और तत्काल जांच रिपोर्ट मांगी.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story मालदीव ने संविधान और भारत के अनुरोध को ताक पर रखा, 30 दिनों तक बढ़ाई इमरजेंसी