जज के सामने खड़े होना अपमानजनक था: मुशर्रफ

By: | Last Updated: Saturday, 30 March 2013 2:01 AM
जज के सामने खड़े होना अपमानजनक था: मुशर्रफ

<p style=”text-align: justify;”>
<b>वॉशिंगटन:</b>
पाकिस्तान के पूर्व
राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ
ने कहा कि कराची की एक अदालत
में जज के सामने खड़े होना
उन्हें काफी अपमानजनक लगा. वे
वहां विभिन्न आपराधिक
मामलों में गिरफ्तारी के
खिलाफ जमानत मांगने के लिए
पेश हुए थे.<br /><br />करीब एक दशक तक
पाकिस्तान पर शासन करने वाले
69 साल के मुशर्रफ अपनी जिंदगी
में पहली बार कराची की किसी
अदालत में किसी जज के सामने
पेश हुए. उन्होंने पूर्व
प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की
सरकार का तख्ता पलटकर सत्ता
पर कब्जा किया था.<br /><br />मुशर्रफ
ने कहा, ‘यह मेरी जिंदगी में
पहली बार है, जब मैं किसी
अदालत में घुसा हूं. अगर मैं
आपको इस बारे में खुलकर बताऊं
कि जिस समय जज ने अदालत में
प्रवेश किया और मुझे उनके लिए
उठकर खड़ा होना पड़ा तो मैंने
क्या महसूस किया, तो मैं
कहूंगा कि ‘मैने बेहद लज्जित
और अपमानित महसूस किया.’ <br /><br />उन्होंने
कहा, ‘लेकिन फिर मैने सोचा कि
मैं खुद ही यह कहता रहा हूं कि
कानून की नजर में सब बराबर
हैं और यही कानून मुझपर भी
लागू होता है. तो शायद आप
इसलिए विचलित होते हैं
क्योंकि आप खुद उसमें शामिल
हैं.’ पूछने पर कि क्या आपको
न्याय व्यवस्था में भरोसा है
, मुशर्रफ ने कहा, ‘हर किसी को
परिणाम भुगतना होता है.'<br /><br />पूर्व
सैन्य शासक ने कहा, ‘मैं जानता
हूं , मुझे भरोसा है कि मेरे
खिलाफ कुछ भी नहीं है और
अदालत में उपस्थित नहीं होने
को लेकर मेरे खिलाफ
गिरफ्तारी वॉरंट जारी किए गए
हैं.'<br /><br />उन्होंने कहा, ‘अब जब
कि मैं विभिन्न मामलों में
अदालत के सामने पेश हो चुका
हूं, मेरी गिरफ्तारी की कोई
वजह नहीं बची है. अब हमें इन
मामलों में सुनवाई करनी
चाहिए. जहां तक इन मामलों का
सवाल है वे राजनीति से
प्रेरित हैं और मेरे खिलाफ
कुछ भी नहीं है. किसी भी बिंदु
से मेरे खिलाफ कुछ नहीं है.
इसलिए इसी भरोसे के साथ मैं
अदालत का सामना करूंगा.'<br /><br />मुशर्रफ
ने कहा कि कराची की अदालत में
जिस समय उन पर जूता उछाला गया
उन्हें उससे कोई खतरा नहीं
था. उन्होंने कहा, ‘मैने तो उसे
देखा भी नहीं. कोई भी चीज मुझे
नहीं लगी. बाद में मुझे बताया
गया कि मेरी तरफ कुछ फेंका
गया था लेकिन ऐसा कुछ भी
दिखाई नहीं दिया.’ <br /><br />उन्होंने
कहा, ‘बाद में उन्होंने मुझे
बताया, उन लोगों ने जो मेरे
इर्द-गिर्द थे, वहां मेरे
हजारों समर्थक थे. मेरे ख्याल
से मुझे बाद में बताया गया कि
उस व्यक्ति को दबोच लिया गया
और उसे खूब मारा पीटा गया या
ऐसा ही कुछ. लेकिन मैं नहीं
जानता कि यह किसने फेंका, मैं
कुछ भी नहीं जानता.'<br /><br />गौरतलब
है कि पाकिस्तान के कराची में
शुक्रवार को सिंध हाईकोर्ट
में पूर्व राष्ट्रपति परवेज
मुशर्रफ पर जूता फेंका गया
था. <br />
</p>

World News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: जज के सामने खड़े होना अपमानजनक था: मुशर्रफ
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017